My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

08 May 2013

विस्मृति का सुख


विस्मृति की अनिवार्यता
के अर्थ वो ही समझता है
जो प्रतिदिन जाता है
उन पगडंडियों तक
जिन पर सुखद स्मृतियाँ
बिखरी पड़ी हैं और
प्रतीक्षारत खड़े हैं
दुखद क्षण भी
जो मिटते ही नहीं
न ही धुंधले होते हैं
बीतते समय के साथ
कभी यथार्थ के कठोर धरातल
तो कभी कल्पनाओं में बुना
अपना ही संसार
कुछ भी भुलाना सरल नहीं
बिसरा देने के प्रयास तो
और विस्तार देते जाते हैं
बीती बातों और आघातों को
गहरी चोट करते हैं
वर्तमान पर
जीवन की गति
धीमी कर देता है
स्मृतियों का ये भार
जो बाधित करता है
आज का विस्तार
सच, जीवन धारा के
 निर्बाध बहाव हेतु
कितना आवश्यक है
विस्मृति का सुख

53 comments:

  1. वास्तव में ही, कुछ भी भुलाना इतना भी सरल नहीं होता

    ReplyDelete
  2. स्मृति का बोझ असहनीय हो जाता है.

    ReplyDelete
  3. स्मृति और विस्मृति एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. सुन्दर भाव हैं कविता में.

    ReplyDelete
  4. smritio ke anchal se jahlkti kabhi n bhool jane vali smritiya, bahut sundar rachna ,badhayee

    ReplyDelete
  5. यदि विस्मृति का गुण प्रकृति हमें ना देती तो जीवन बहुत ही मुश्किल हो जाता. फ़िर भी कुछ ऐसी दुखद घटनाएं हर एक के साथ घटी होती हैं जिनका दंश जीवन भर झेलना पडता है. बहुत ही सार्थक कविता. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. बिलकुल सही कहा. कुछ ऐसे पन्ने होते हैं जो मन की किताब से सदा के लिए हट जाए तो बेहतर.

    ReplyDelete
  7. बहुत जरूरी है विस्मॄति का होना ....

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति!! विस्मृति न हो तो मनुष्य असंतुलित हो जाय ,भूलने का प्रयास और विस्तार देता है.

    ReplyDelete
  9. वाह !!! बहुत सुंदर भावपूर्ण सार्थक प्रस्तुति,,,आभार

    RECENT POST: नूतनता और उर्वरा,

    ReplyDelete
  10. भूलने की शक्ति देकर भगवान ने सबसे बड़ा वरदान दिया अन्यथा आदमी पागल हो जाता,

    latest post'वनफूल'

    ReplyDelete
  11. अति सुन्दर कहा है..

    ReplyDelete
  12. प्रसाद भी एक बार कह उठे थे-
    विस्मृति आ,अवसाद घेर ले ,नीरवते बस चुप कर दे ,
    चेतनता चल जा,जड़ता से आज शून्य मेरा भर दे !

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,इश्वर हमे भुलाने की शक्ति देकर बहुत ही उपकार कियें है.

    ReplyDelete
  14. बहुत कुछ भूलना आवश्यक भी है..

    ReplyDelete
  15. बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  16. जीवन धारा के
    सहज-सरल निर्बाध बहाव हेतु
    कितना आवश्यक है
    विस्मृति का सुख
    बिलकुल सच !!
    बहुत ज्यादा जरुरत होती है पिछला भूल जाना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. बिसरा देने का प्रयास विस्तार देता है ...
    सच ही तो कहा है ... दरअसल समय ही होता है जी विस्मृत करा सकता है ... चाहे सुख हो या दुख ...
    चाने से कहां कुछ हुआ है ...

    ReplyDelete
  18. जान चली जाती है पर याद कहाँ जाती है ...

    ReplyDelete
  19. विस्मृत होना नहीं भावों के अंकन के रिक्त और सिक्त होना ज़रूरी है ...जीवन के बहुत करीब ज्ञान विज्ञान और मानव मन के करीब दिल को छूने वाली

    समय मिले तो तथागत की टैरेस गार्डन http://rajeshakaltara.blogspot.in/2013/05/blog-post.html का आनंद भी लें

    ReplyDelete
  20. बीती ताहि बिसार दे आगे की सुधि ले।

    ReplyDelete
  21. विस्मृति और स्मृति गाडी के दो पहियो की तरह जिन्दगी को संतुलित करते है..बहुत सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  22. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 09/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  23. सच कहा, विस्मृति का सुख अनन्य है।

    ReplyDelete
  24. मैंने स्नायु विज्ञान पर कई लेख पढ़े हैं जिनके अनुसार मनुष्य मस्तिष्क खुद ही अप्रिय स्मृतियों को भुलाने को सक्रिय रहता है -और यह बहुत जरुरी है . आपकी कविता से यह बात याद हो आयी -कहा भी गया है कि टाईम इज बेस्ट हीलर

    ReplyDelete
  25. annoying habit of our mind, remembering things it shouldn't

    ReplyDelete
  26. कमजोर स्मरण शक्ति किसी मायने में बहुत मददगार होती है , जो भूल नहीं पाते उनके लिए जीवन मुश्किल हो जाता है :)
    कविता के निहितार्थ गूढ़ है , सरल भी !

    ReplyDelete
  27. Kuchh bhi bhula dena aasan nhi hota aur shayad isiliye aapki ye kavita is jadojahad ke lie hai...

    Sadar

    ReplyDelete
  28. विस्मृति का सुख
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
    बिना विस्मृति के शायद जीवन में आने वाले सुनहरे लम्हों का आनंद ही न उठा पायें..

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति. ....

    ReplyDelete
  30. बिलकुल सही कहा है सटीक लगी यह रचना !

    ReplyDelete
  31. सुन्दर रचना विस्मृति सुखदायी होती है ऐसा मैं भी मानता हूँ परन्तु लिखते समय जब तत्सम शब्द नहीं मिलते तो भय का संचार भी होता है.

    ReplyDelete
  32. सार्थकता लिये सशक्‍त रचना ...

    ReplyDelete
  33. विस्मृति का सुख वर्तमान को भी संपुष्ट करता है .जीवन तो निरंतर आगे और आगे की ओर ही है .भूतकाल का चिंतन आदमी को भूत ही बना देता है .भविष्य ब्लेक होल की तरह एक बतं लेस पिट है .शाश्वत है सत्य है वर्तमान .

    ReplyDelete
  34. बहुत ही सुन्दर कविता |

    ReplyDelete
  35. यादें कभी हौसला देती हैं तो कभी प्यार भरी थपकी | सुंदर और सशक्त प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  36. बहुत ही सुन्दर एवं सशक्त प्रस्तुति,

    ReplyDelete
  37. स्मृतियों का व्यापार जो बाधित करता है हमारा आज ...लेकिन क्यों ?क्यों व्यतीत की छाया वर्तमान पर मंडराए ?

    ReplyDelete
  38. अच्छी रचना बहुत सुंदर..


    ए अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया,
    मां ने आंखे खोल दी घर में उजाला हो गया।

    समय मिले तो एक नजर इस लेख पर भी डालिए.
    बस ! अब बक-बक ना कर मां...
    http://dailyreportsonline.blogspot.in/2013/05/blog-post.html?showComment=1368350589129

    ReplyDelete
  39. बहुत खूबसूरत और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  40. विस्मृति का सुख एक वरदान है ..
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  41. पर कहाँ संभव है यादों को विस्मृत करना...काश मिल पाता विस्मृति का सुख...बहुत सशक्त अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  42. sundar evam sarthak rachna

    ReplyDelete
  43. सटीक रचना,बहुत सुन्दर बहुत सुन्दर ! कविता बहुत गूढ़ है बहुत गूढ़,और सरल भी !शुभकामनायें

    ReplyDelete
  44. विस्मृति का सुख----मन के भीतर पल रहे अनकहे प्रेम,पीड़ा
    को व्यक्त करती गहन अनुभूति है
    आपने बहुत खूब शब्द चित्र खींचा है
    सुंदर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  45. यादें याद आती है , बहुत खूब कहा आपने ,शुभकामनाये

    ReplyDelete
  46. लिखने की भूख,विस्मृति का सुख.विचारों का प्रवाह -- वाह वाह ! लेकिन कभी "मौन" हो के विचारशून्यता का सफर का मज़ा लीजिए....लिखिए कम, पढ़िए ज्यादा..यादो में फिर से लौटा के ले आने के लिए धन्यवाद तथा, सारगर्भित लेखन के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete
  47. एकदम सही कहा आपने । सुन्दर एवं सशक्त रचना । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  48. जरूरी है विस्मृति वरना कितनी अनचाही यादें बार बार आती रहेंगी .

    ReplyDelete
  49. Beautiful poem!

    I was wondering if you like to read Hindi Mythological novel & would you like to review the book on your blog? My brother Nilabh Verma is the author of a novel Swayamvar, based on a very complex relationship of Bheeshm & Amba. As these days Hindi reading has declined drastically, and mythology is quite in demand and it's a nicely written book (I'm not being biased, it really is!:)), I want people to know about this book. If it interests you and if you have time then please write to me with your postal address so that I can send the book to you. Thanks!:)

    ReplyDelete