My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

05 October 2011

स्वाभिमानी शब्द ....!



कुछ शब्द देते हैं दस्तक 
कभी चेतन कभी अवचेतन 
मन के आँगन में.....!
कुछ शब्द जो समेट लाते  हैं  
भीतर का द्वंद और दर्द 
स्वयं अपनी राह बनाते 
कभी हंसाते कभी रुलाते 
आशा और विश्वास जगाते 
कुछ शब्द .........! 

सोचती हूँ ....
 ये शब्द हैं कितने  स्वाभिमानी 
जब लगाते हैं ये कतार
जो न हो इनका स्वागत सत्कार 
न लें इन्हें कागज़ पर उतार
तो लौट जाते हैं 
कभी ना आने के लिए
 कुछ  शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....! 

141 comments:

  1. एकदम सच कहा. जरा इग्नोर करो इनको और बस ..रूठ जाते हैं.
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  2. जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    शब्दों की दुनिया में शब्दों के कारीगरों के लिये कितनी सुंदर उपहार हैं ये स्वाभिमानी शब्द ।

    ReplyDelete
  3. nice one mem swabhimani sabd....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर,मोनिका जी.
    शब्द सच में स्वाभिमानी होते हैं.
    पर भाव और विचारों से ऐसा प्रेम हैं
    उन्हें कि अपना दर्शन करा ही देते हैं.
    हाँ,उनका स्वागत तो करना ही होगा न.
    वर्ना 'ढूंढते ही रह जाईयेगा जी '

    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  5. अक्षर तो अक्षर ही है, और उससे बने शब्द, क्या कहने!

    ReplyDelete
  6. एक रचनाकार और शब्द प्रेमी को इसलिए काफी सतर्क रहना चाहिए ..:)
    सुन्दर अभिव्यक्ति ! दशहरा की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  7. Expressing words in words is so beautiful. Profound post and last paragraph stands out.

    ReplyDelete
  8. शब्दों की महिमा ही निराली है।

    ReplyDelete
  9. शब्दों पर बहुत अच्छी पकड़ है आपकी .
    सुन्दर रचना है.

    ReplyDelete
  10. शब्द ही तो सफलता की पूंजी होते हैं।

    ReplyDelete
  11. मैं तुरन्त ही इन शब्दों को सहेज कर रख लेता हूँ, भविष्य के लिये।

    ReplyDelete
  12. शब्दों की अपनी महिमा है ....शब्दों का है अपना संसार ..हम जो भी सोचते हैं शब्द उसे अभिव्यक्त करते हैं ...लेकिन थोड़ी सी भी बेरुखी इनके प्रति हो तो बस यह अपना रूप दिखा देते हैं.. सही कहा आपने शब्द स्वाभिमानी होते हैं ..!

    ReplyDelete
  13. न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!
    बिल्कुल सही लिखा है कई बार ऐसा होता है की कुछ काम करते समय कोई अच्छा विचार, शब्द आता है पर उसे लिख नहीं पाते है और जब लिखते है तो वो विचार वो शब्द ही नहीं याद आते है |

    ReplyDelete
  14. bahut hi acchi post monika ji thanks

    ReplyDelete
  15. "ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए"

    बेहद खूबसूरत कविता।
    ------
    कल 06/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. पहली बार किसी नें शब्दों का अन्तर्मन भांपने का प्रयास किया है।

    शब्द आज आपकी कलम से मुखर हुआ, और अपने स्वभाव से परिचय करवाया।

    ReplyDelete
  17. सुंदर शब्दों में ...एक स्वाभिमानी सच्चाई !!!
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  18. शब्द ही तो सफलता की पूंजी होते हैं|

    ReplyDelete
  19. मोनिका जी नमस्कार,
    सही कहा आपने शब्द स्वाभिमानी होते हैं ..!
    बहुत ही खुबसूरत रचना है |

    ReplyDelete
  20. शब्‍द स्‍वाभिमानी तो अवश्‍य है लेकिन धोखेबाज नहीं है। हमेशा साधक के आसपास ही बने रहते हैं।

    ReplyDelete
  21. शब्दों का स्वाभिमान हमारी लेखनी से है ,हम अपनी रचनाधर्मिता से उसे बनाये रखें तो शब्द भी चहक उठेंगे ....बहुत सुंदर रचना ....बधाई !

    ReplyDelete
  22. बिल्कुल सच, कहा आपने। शब्दों को वाकई अगर ठीक ठाक सत्कार ना मिले तो वो चले जाते हैं और फिर वापस मनाना आसान भी नहीं।

    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
    कुछ शब्द.... ही तो हैं जो किसी के लिए प्रेरणाश्रोत तो किसी के विनाश का कारण बन जाते हैं !!
    दशहरा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  24. एकदम सच कहा. ..सुन्दर अभिव्यक्ति ! दशहरा की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  25. ये कुछ शब्द ...स्वाभिमानी शब्द ...
    शानदार!

    ReplyDelete
  26. तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    स्वाभिमानी शब्द ... बहुत सुन्दर संबोधन दिया है आपने इन्हें, सच है ये ऐसे ही होते हैं... सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  27. जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बिलकुल जैसे सबके मन की बात कह दी....
    सार्थक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. बिल्‍कुल सच ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  29. शब्दों का मान रखना जरूरी है ... ये शब्द ही आसमां रक् उठाते अहिं और जमीन पे भी गिरा देते हैं ...

    ReplyDelete
  30. स्वाभिमानी शब्द ....!

    ReplyDelete
  31. ..सच है शब्दों का भी अपना एक व्यक्तित्व होता है...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  32. sahi kaha apne,
    shabd bahut khatarnak hote hai,inka sahi upyog karna chahiye..
    bahut hi sundr likhati hai aap
    apko naman.

    shabd ke bare me maine bhi apne blog par likha hai kabhi samay mile to padhiye...

    ReplyDelete
  33. पोस्ट अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है .धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  34. बहुत दिनों बाद कोई पोस्ट आई आपकी पर शानदार.......

    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    मेरे ब्लॉग की नयी पोस्ट आपके ज़िक्र से रोशन है......जब भी फुर्सत मिले ज़रूर देखें|

    ReplyDelete
  35. इन शब्दों का क्या कहना ...ये तो निराले ही होते हैं

    ReplyDelete
  36. बहुत बहुत सुन्दर भाव पूर्ण प्रस्तुति ...वास्तव में ये स्वाभिमानी शब्द भावों कभी ना लौटने के लिये चले जाते हैं जबतक कागज़ पर नहीं लेते हैं उतार....आभार

    ReplyDelete
  37. लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बिलकुल सही कहा आपने!शब्दों का संसार ही निराला होता है.....
    विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  38. न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!
    ऐसा भी होता है …………सुन्दर व्याख्या

    ReplyDelete
  39. वाह बहुत खूब एकदम बढ़िया और सच बात कही है आपने जो न हो इंका स्वागत सत्कार लौट जाते हैं फिर कभी ना आने के लिए यह शब्द स्वाभिमानी.... सार्थक अभिवक्ती
    समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. sahi kaha apne shabdo ka istemal sahi tarah se kiya jaye to hi accha hai.
    bahut hi accha kikhti hai aap,
    aapko sadar naman

    shabdo ke vishay me maine bhi kuch likha hai ,samay mile to jarur dekhiye..

    ReplyDelete
  41. मैम, आप की ये पंक्तियाँ बहोत ही खूबसूरत हैं...

    ReplyDelete
  42. सुन्दर लिखा है.शुभकामना...

    ReplyDelete
  43. तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!
    और उपरोक्त भावमय प्रस्तुति हेतु आभार........
    एवं आपको स:परिवार विजय दशमी की हार्दिक शुभकानाएं प्रेषित करता हूँ ,

    ReplyDelete
  44. 'शब्द' पर लिखी रचना बहुत अच्छी लगी है! आपको विजयदशमी की बधाईयाँ!

    ReplyDelete
  45. ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए

    शब्दों को नई दृष्टि से देखना बहुत अच्छा लगा।
    सचमुच, शब्द स्वाभिमानी होते हैं।

    ReplyDelete
  46. sach kaha ye shabd kayi baar kitne swabhimani aur hathi ho jate hain jo baar baar bulane par bhi nahi aate.

    sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  47. Very nice Written Monika Ji..

    Happy Durga Puja...

    ReplyDelete
  48. यह कविता बताती है कि मुंशीगिरि करते-करते हमारी स्मृति रसातल में पहुंच गई है। वे दिन भी थे जब ऋचाएं सदियों तक केवल अनुश्रुति से संरक्षित रहीं।

    ReplyDelete
  49. बहुत अच्छी जानकारी देती पोस्ट.... आभार
    विजय पर्व "विजयादशमी" पर आप सभी को ढेर सारी शुभकामनायें

    ReplyDelete
  50. डॉ मोनिका जी सच कहा आप ने इन शब्दों के अनेक रूप हैं ....हंसाते हैं रुलाते हैं मीठी खट्टी यादें ....कागज़ पर उतर ...... आप सपरिवार और हमारे सभी मित्र मण्डली को भी नवरात्री और विजय दशमी की ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    कुछ शब्द जो समेट लाते हैं
    भीतर का द्वंद और दर्द
    स्वयं अपनी राह बनाते
    कभी हंसाते कभी रुलाते
    आशा और विश्वास जगाते

    ReplyDelete
  51. शब्द निःशब्द होकर भी अपने अहसासात को व्यक्त कर ही देते हैं ॥

    ReplyDelete
  52. जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    "kuch godaap" likha hai :)

    ReplyDelete
  53. जब ये कविता कभी ना आने के लिए पर पहुँचती है तो उसकी गरिमा सर्वोच्च स्तर पर पहुँच जाती है और तब कविता भी जीवंत हो उठती है।

    ReplyDelete
  54. ढेर सारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  55. सोचती हूँ ....
    ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    सच कहा आपने ....इनके स्वाभिमान की रक्षा करनी चाहिए

    ReplyDelete
  56. बहुत सही कहा है आपने शब्द भी स्वाभिमानी होते है
    जब तक इन्हें कागज पर नहीं उतारते लौट जाते है !
    बहुत सुंदर रचना !
    दशहरे क़ी हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  57. जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार....
    वाह! बहुत सुन्दर... सचमुच स्वाभिमानी और साथ में शरारती भी बहुत होते हैं शब्द... कभी कभी तो आँखों के सामने नाचते रहते हैं... बस पकड़ नहीं आते...:))

    विजयादशमी की सादर बधाईयाँ...

    ReplyDelete
  58. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  59. जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए

    शब्दों की कारीगरी और उनका स्वाभिमान. क्या बात है. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    विजयादशमी की शुभकामनायें आपको व आपके परिवार को.

    ReplyDelete
  60. hollo mem..apne un svabhimani shabdo ko jod kar unki hi vyakhya kar di.umda likha hai..

    meri post par comment kar apne meri jigyasa ko aur badaya hai.

    sadhanyavaad.

    ReplyDelete
  61. शब्द लेखनी को सदा समृद्ध करते रहें!
    विजयादशमी की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  62. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    ReplyDelete
  63. आदरणीय मोनिकाजी आपने भाव विभोर कर देने वाली पोस्ट लिखी .....आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों क एबाद आना हुआ है ..बहुत अच्छा लगा .....धन्यवाद

    ReplyDelete
  64. bahut sundar likha hai mam aapne
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  65. क्या बात है मोनिका जी ,बहुत खूब शब्द , ही तो अमरता के हस्तक्षर हैं . अति सुन्दर , शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  66. कुछ शब्द देते हैं दस्तक

    कभी चेतन कभी अवचेतन .
    bhut acha

    ReplyDelete
  67. वाकई स्वाभिमानी । इनका स्वागत न करो तो फिर पलटकर आते ही नहीं ।

    ReplyDelete
  68. वाकई स्वाभिमानी । इनका स्वागत न करो तो फिर पलटकर आते ही नहीं ।

    ReplyDelete
  69. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच 659,चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  70. कुछ शब्द देते हैं दस्तक
    कभी चेतन कभी अवचेतन
    मन के आँगन में.....!

    Nice post... visit on http://www.akashsingh307.blogspot.com/

    ReplyDelete
  71. true words r powerful...
    can b constructive as well as destructive.

    Nice read !!

    ReplyDelete
  72. बहुत सुन्दर लिखा है!!!

    ReplyDelete
  73. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  74. A beautiful play of words!!

    ReplyDelete
  75. arvind sir ki baat mein dam hai...sundar !

    ReplyDelete
  76. विचारों का भी यही हाल है...शब्दों का समूह है ये...और उतना ही स्वाभिमानी...

    ReplyDelete
  77. सही कहा आपने...कई बार ज़रा सी देर होती है इन्हें कागज़ पर उतारने में और ये शब्द ऐसे रूठते हैं की बाद में कितना भी याद करो.....नहीं आते ! कभी आये भी तो आधे-अधूरे.....!!
    खूबसूरत....!!

    ReplyDelete
  78. सुंन्दर जानकारी...
    एक ब्लोगर का सम्मान
    http://vijaypalkurdiya.blogspot.com/2011/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  79. "सोचती हूँ ....
    ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए"

    सुंदर..अभिराम...

    ReplyDelete
  80. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  81. "words" never relish 'ignorance' or 'rejection'.

    well said.

    nice.

    ReplyDelete
  82. शब्दशः निःशब्द किया आपकी इस शब्द -चर्चा ने . विजयदशमी की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  83. bahut hi ache tarah se aur kum lafzon me aapne shabd, kalam aur kalamkaar ke jazbaaton ko kavitabadhh kiya hai.
    Bahut achi rachna,badhaai!

    ReplyDelete
  84. बहुत ही सुन्दरता से शब्दों को सजाया है आपने....

    ReplyDelete
  85. bahut achhi rachana shabadon ko shabad mile.

    ReplyDelete
  86. बड़ी ही सुन्दर शब्द वाटिकाए है भाव पूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  87. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .सारा खेल शब्दों का है .ये मेला झमेला सब शब्दों का ही है .

    ReplyDelete
  88. Saty vachan! mai bhi kabhi asahaay sa ho jaata hun jab shabdon ki faslen bota hun...aur fasal katne ko jaise hi kagaz kalam dawat dhundhoo...tab tak faslen gayab ho jaati hai....bas uljhi-uljhi si khar-patwaaren rah jaati hain...bahut hi sundar rachna...aur mere aashiyane par dastak ...dene surre se yahan tak aane ke liye shukr gujaar hun...

    ReplyDelete
  89. लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    मोनिका जी! बिलकुल सही कहा आपने!
    बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  90. लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    मोनिका जी! बिलकुल सही कहा आपने!
    बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  91. शब्द कहाँ स्वाभिमानी हैं......... स्वाभिमानी तो व्यक्ति होता है.......... जो शब्दों को अर्थ देता है.......

    ReplyDelete
  92. डा. मोनिका जी,
    आपके कोई भी पोस्ट प्रकाशित होने के 15 सैकिंड के बाद ही पानी पोस्ट को टिप्स हिंदी में ब्लॉग पर देखें | है न सबसे तेज | यकीन नहीं होता तो आप अपनी पोस्ट प्रकाशित करें व ठीक 15 सैकिंड बाद इस लिंक पर कलिक करके देख लें |

    ReplyDelete
  93. वाकई शब्दों का अपना ही स्वाभिमान होता है...

    ReplyDelete
  94. ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    ..sach kaha apne shabdon mein swabhiman n jhalke to nirarthak jaan padte hai..
    ..bahut badiya rachna..

    ReplyDelete
  95. congrats for 101 comments. now 102.

    ReplyDelete
  96. सोचती हूँ ....
    ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बहुत सच्ची बात. सुन्दर कविता है मोनिका जी.

    ReplyDelete
  97. सही...बहुत बहुत सही...

    ReplyDelete
  98. बहुतं दिनों के बाद और स्वाभिमानी शब्द ---बहुत कुछ कह गया ! बहुत बढ़िया ! शब्द समयानुसार रंग बदलते है

    ReplyDelete
  99. बहुत सुन्दरता से आपने हर एक शब्द लिखा है! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  100. आपकी कविता पढ़कर एक शेर याद आ गया
    अपनी अना के मतवाले हैं
    शहर नहीं जाते हैं जुगनू.
    गज़ब का शब्द संयोजन, बढ़िया कविता.

    ReplyDelete



  101. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी
    सचमुच ! कई शब्द वाकई स्वाभिमानी शब्द होते हैं …

    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    कुछ शब्द ....
    स्वाभिमानी शब्द ....!

    ख़ूबसूरत कविता

    आभार और बधाई !


    आपको सपरिवार त्यौंहारों के इस सीजन सहित दीपावली की अग्रिम बधाई-शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  102. शब्‍द ही सब कुछ हैं इस दुनिया में।
    सुंदर प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  103. sarthak rachna sandesh deti hui abhar

    ReplyDelete
  104. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  105. ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बिलकुल सहमत हूँ आपसे, मेरी कवितायेँ भी विचार-प्रवाह सी हैं..अगर समय रहतें रूप न दे सकूं तो लौट जाती हैं, खो जातीं हैं.

    बहुत सुन्दर रचना. मेरी नयी रचना पर एक नज़र डालें. www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    ReplyDelete
  106. प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  107. मोनिका जी सचमुच ये शब्द ...बहुत कुछ कर जाते है दे जाते हैं ले जाते हैं यादों का कारवां है ..करवा चौथ की हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  108. A famous song has lines
    " Words are all I have to take your heart away"

    It clearly shows how mere words can do wonders :)
    now this wonder can be constructive as well as destructive depending purely upon the Words :)

    Fantastic read !!

    ReplyDelete
  109. कुछ शब्द कभी नहीं आते ...बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  110. बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  111. ये शब्द जीवन का पर्याय बन चुके हैं...
    अंतस के भावों का सुन्दर प्राकट्य...

    ReplyDelete
  112. शब्दों की दुनिया शब्दों ने बखानी है
    इसीलिये ये शब्द इतने स्वाभिमानी हैं ......

    ReplyDelete
  113. Superb words used to actually explain the significance of words in our life.... :)

    ReplyDelete
  114. Beautiful. Shabdon par to aapko bhi maharath haasil hai.

    ReplyDelete
  115. तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    ये कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!
    sunder abhivyakti
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  116. आपकी रचना ने सोचने पर विवश कर दिया. वाकई कितनी सारी सोच आकर चली जाती हैं. सचमुच ये शब्द बड़े स्वाभिमानी हैं.

    ReplyDelete
  117. कुछ शब्द देते हैं दस्तक
    कभी चेतन कभी अवचेतन
    मन के आँगन में.....!
    कुछ शब्द जो समेट लाते हैं
    भीतर का द्वंद और दर्द
    स्वयं अपनी राह बनाते
    कभी हंसाते कभी रुलाते
    आशा और विश्वास जगाते
    कुछ शब्द .........!
    ........सुन्दर अभिव्यक्ति........

    ReplyDelete
  118. कुछ शब्द जो समेट लाते हैं
    भीतर का द्वंद और दर्द
    स्वयं अपनी राह बनाते
    कभी हंसाते कभी रुलाते
    आशा और विश्वास जगाते
    कुछ शब्द .........!
    very nice.

    ReplyDelete
  119. बहुत सुन्दर एंव गहन अभिव्यक्ति....कई बार बरसों की घुटन एक शब्द से निकल जाती है और कई बार एक शब्द बरसों की घुटन दे जाता है...आभार

    ReplyDelete
  120. शब्दों को बहुत सुन्दर शब्दों में बांधा है ...
    अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  121. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  122. बहुत ही सुन्दरता से शब्दों को सजाया है आपने....

    ReplyDelete
  123. कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 20 दिनों से ब्लॉग से दूर था
    देरी से पहुच पाया हूँ

    ReplyDelete
  124. स्वाभिमानी शब्द !!!
    सचमुच शब्द ब्रह्म होते हैं !
    बहुत सुंदर रचना !बधाई !

    ReplyDelete
  125. ये शब्द हैं कितने स्वाभिमानी
    जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए
    कुछ शब्द ....स्वाभिमानी शब्द ....!

    बढिया ..

    ReplyDelete
  126. अच्छी कल्पनाशील रचना ............

    ReplyDelete
  127. सुन्दर सृजन , प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  128. kathor sach lekin kitni aasani se aapne kaha h, beshak aapke shabdon me jadu h.

    ReplyDelete
  129. "स्वाभिमानी शब्द" बहुत ही हटकर है ये अभिव्यक्ति! बहुत सुंदर! बधाई!

    दीपावली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  130. जब लगाते हैं ये कतार
    जो न हो इनका स्वागत सत्कार
    न लें इन्हें कागज़ पर उतार
    तो लौट जाते हैं
    कभी ना आने के लिए.
    एकदम सच.

    ReplyDelete
  131. बहुत खूब आप मेरी रचना भी देखे ...........

    ReplyDelete
  132. स्वाभिमानी शब्द ..एक सशक्त रचना के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete