My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

02 September 2011

परिवार और समाज को जोड़ती हमारी उत्सवधर्मिता...!


हमारे पर्व त्योंहार हमारी संवेदनाओं और परंपराओं का जीवंत रूप हैं जिन्हें मनाना या यूँ कहें की बार-बार मनाना, हर साल मनाना हर भारतीय को  अच्छा लगता है। पूरी दुनिया में भारत ही एक ऐसा देश है जहां मौसम के बदलाव की सूचना भी त्योंहारों से मिलती है। इन मान्यताओं, परंपराओं और विचारों में हमारी सभ्यता और संस्कृ ति के अनगिनत सरोकार छुपे हैं। जीवन के अनोखे रंग समेटे हमारे जीवन में रंग भरने वाली हमारी उत्सवधर्मिता की सोच मन में उमंग और उत्साह के  नये प्रवाह का जन्म देती है। 

आजकल तो गणेश उत्सव की धूम है। बच्चे बङे सभी बप्पा की मान मनवार में जुटे इस उत्सव का हिस्सा बने नजर आ रहे हैं। हम भारतीय स्वाभाव से ही उत्सवधर्मी हैं | तभी तो पूरे मन से इन उत्सवों का हिस्सा बनते हैं | सच कितना कुछ बदल जाता है त्योहारों की दस्तक से हमारे जीवन में । दिनचर्या से लेकर दिल के विचारों तक। इन पर्वों की हमारे जीवन में क्या भूमिका है इसका अंदाज इसी बात से लगा लीजिये कि ये  त्योंहार हमारे जीवन को प्रकृति की ओर मोड़ने से लेकर घर-परिवारों में मेलजोल बढाने तक, सब कुछ करते हैं और हर बार यह सिखा जाते हैं कि जीवन भी एक उत्सव ही है। 

हमारा मन और जीवन दोनों ही उत्सवधर्मी है | मेलों और मदनोत्सव के इस देश में ये उत्सव हमारे मन में संस्कृति बोध भी उपजाते हैं | हमारी उत्सवधर्मिता परिवार और समाज को एक सूत्र में बांधती है। संगठित होकर जीना सिखाती है। सहभागिता और आपसी समन्वय की सौगात देती है । 


दुनियाभर के लोगों को हिन्दुस्तानियों की उत्सवधर्मिता चकित करती है | आज भी घर से दूर जा बसे परिवार के सदस्य तीज त्योहारों पर ज़रूर मिलते हैं | उत्सवी माहौल में एक दुसरे से जुड़ते हैं | हमारी ऐतिहाहिक विरासत और जीवंत संस्कृति के गवाह ये त्योंहार विदेशी सैलानियों को भी बहुत लुभाते हैं| हमारे सरस और सजीले सांस्कृतिक वैभव की जीवन रेखा  हैं हमारे त्योंहार, जो हम सबके जीवन को रंगों से सजाते हैं | 

सभी को गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें....

134 comments:

  1. बढ़िया आलेख..उत्सवों और त्योहारों का सामाजिक महत्वा घट रहा है नई अर्थव्यवस्था में...

    ReplyDelete
  2. @अरुण चन्द्र राय जी..

    जिस तरह उत्सवों के रंग फीके पड़ रहे हैं ... समाज और परिवारों में विघटन भी हो रहा है ..दूरियां भी आ रही हैं.....

    ReplyDelete
  3. मोनिका जी अब त्यौहार मनाये नहीं निभाए जाते है यह हमारा दुर्भाग्य है अच्छा आलेख
    गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  4. सुंदर और भक्तिमय आलेख आपको भी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. श्री तिलक ने गणेशोत्सव को इतना लोकप्रिय बनाया।

    ReplyDelete
  6. उत्सव प्रिय मानवाः कहा ही गया है ..आपको भी गणेसोत्सव पर बहुत बहुत शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  7. Our country has such rich heritage. i am feeling so good today as I saw lot of Indian kids in traditional Indian costumes in Boston. Even on Janmashtmi I went to ISKCON and I loved the fact that Indian kids(Born and brought up in US) were chanting slokhas. These things bind us no matter which part of the world we are live in...
    Lovely Post...

    ReplyDelete
  8. हमारे सरस और सजीले सांस्कृतिक वैभव की जीवन रेखा हैं हमारे त्योंहार, जो हम सबके जीवन को रंगों से सजाते हैं |

    बिलकुल सही लिखा है ...गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  9. आपको भी गणेश उत्सव की हार्दिक बधाई.
    आपका लेख पढ़ना अच्छा लगता है. पढ़ने में लेट-लतीफी के लिए क्षमा करियेगा.

    ReplyDelete
  10. aapko bhi ganesh chaturthi ki dheron badhaaiyan.bahut achcha aalekh.aabhar.

    ReplyDelete
  11. गणेश उत्सव की हार्दिक बधाइयाँ :)
    बहुत सुन्दर लेख :
    अपना देश कहें तो त्योहारों का देश है ये त्यौहार ही तो है जिसने अभी तक हम सबको आपस में जोड़ रखा है, ये त्यौहार ही तो है जिसके बहाने गरीब भी चार पल के लिए खुश हो लेता है|

    ReplyDelete
  12. यह उत्‍वसधर्मिता ही हमें परिवार-संस्‍था को मजबूत करने में सहायक होती है।

    ReplyDelete
  13. @हमारा मन और जीवन दोनों ही उत्सवधर्मी है

    उत्सव ही जीवन है ....

    ReplyDelete
  14. सही कह रही हैं,आपको भी बहुत शुभकामनायें,आभार.

    ReplyDelete
  15. सुन्दर आलेख। हम भाग्यशाली हैं जो उत्सव-उलास की दीर्घ परम्परा के वाहक हैं। अन्य संस्कृतियाँ तो अभी भी अपने लिये नित नये उत्सव खोज रही हैं।

    ReplyDelete
  16. बढ़ती दूरियों के मध्य इन त्योहारों का महत्व आज भी कायम है .... यही जोड़ेगा , शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  18. उत्सव के रंग में रंगा हुआ सुन्दर आलेख .......आपको भी गणेश उत्सव की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  19. त्योहारों के महत्त्व को बताता अच्छा लेख ..गणेश चतुर्थी पर आपको और आपके परिवार को बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. गणेशोत्सव की बधाई तथा मंगल कामना

    ReplyDelete
  21. सही बात है! आपसे सहमत हूँ !
    आप को श्रीगणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  22. सभी को गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें....

    आपको भी मोनिका जी !

    ReplyDelete
  23. उत्सव दिलो की उमंग को बढ़ा देते हैं ....अच्छा लगा यह लेख गणेश उत्सव की बधाई

    ReplyDelete
  24. Aapko bhee anek shubh kamnayen!

    ReplyDelete
  25. हमारा मन और जीवन दोनों ही उत्सवधर्मी है | मेलों और मदनोत्सव के इस देश में ये उत्सव हमारे मन में संस्कृति बोध भी उपजाते हैं | हमारी उत्सवधर्मिता परिवार और समाज को एक सूत्र में बांधती है। संगठित होकर जीना सिखाती है। सहभागिता और आपसी समन्वय की सौगात देती है ।
    दुनियाभर के लोगों को हिन्दुस्तानियों की उत्सवधर्मिता चकित करती है | आज भी घर से दूर जा बसे परिवार के सदस्य तीज त्योहारों पर ज़रूर मिलते हैं | उत्सवी माहौल में एक दुसरे से जुड़ते हैं |कृपया दूसरे कर लें "दुसरे "को .
    तीज त्यौहार जीवन की जड़ता ,रिजिड रूटीन को भी तोड़तें हैं ,जीवन को ऊर्ध्वगामी बनातें हैं निस्संदेह
    ब्लॉग पर आपकी दस्तक के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  26. आपको भी बधाई और शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  27. गणेश उत्सव को आपने एक नए दृष्टिकोण से व्याख्यायित किया है....लेख बहुत अच्छा है। आपको बहुत-बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  28. सच है त्यौहार हमें आपस में जोड़ते हैं. पर दुर्भाग्य हम उन्हें ही छोड़ते जा रहे हैं.

    ReplyDelete
  29. इन उत्सवों ने ही हमारी परंपराओं को जीवित रखा है... आपको गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  30. डॉ॰ मोनिका शर्मा,
    भारत से दूर....भारतीय उत्सवधर्मिता पर केन्द्रित बढ़िया आलेख...
    आभार एवं हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  31. सहमत हूँ आपसे...

    गणेश उत्सव पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  32. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ..शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  33. आपको भी गणेश उत्सव की शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  34. सही बात है| गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर पोस्ट मोनिका जी ...गणेश उत्सव सभी जाती धर्म के लोग मनाते हें ..बोम्बे में तो इसका मज़ा ही अलग होता हें ..

    ReplyDelete
  36. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा शनिवार ३-०९-११ को नयी-पुरानी हलचल पर है ...कृपया आयें और अपने विचार दें......

    ReplyDelete
  37. सुंदर और भक्तिमय सार्थक आलेख ...आपको गणेशोत्सव की हार्दिक बधाई तथा मंगल कामना...

    ReplyDelete
  38. उत्सवधर्मीता मानव की स्वभाविक प्रतिक्रिया है।
    आनन्द और उल्हास ही मानव की खोज रहा है।
    यह निकटता के सूत्र है!! शुभकामनाएं!!

    ReplyDelete
  39. सटीक बात कही है आपने .उत्सव-विहीन जीवन की कल्पना भी कोई भारतीय कर सकता है क्या ? सार्थक पोस्ट हेतु हार्दिक शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  40. मुंबई में गणेश उत्सव की गहमागहमी में भागीदार हूँ इनदिनों . उत्सवधर्मिता भारतवंशियों का सुखद पक्ष है .

    ReplyDelete
  41. सच कहा आपने जीवन भी एक उत्सव है
    हमारे त्योहार यही सिखाते है !
    प्यारी पोस्ट ......

    ReplyDelete
  42. यह उत्सव और त्यौहार हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग है , यह सामाजिक सरोकारों को मजबूत करने और सामाजिक सद्भाव को बढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं ....लेकिन बदलते परिप्रेक्ष्य में इनकी भूमिका और भी बदल गयी है ...!

    ReplyDelete
  43. आपको भी गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं|
    क्षमा करें, थोडा देरी से आया|

    " इन पर्वों की हमारे जीवन में क्या भूमिका है इसका अंदाज इसी बात से लगा लीजिये कि ये त्योंहार हमारे जीवन को प्रकृति की ओर मोड़ने से लेकर घर-परिवारों में मेलजोल बढाने तक, सब कुछ करते हैं और हर बार यह सिखा जाते हैं कि जीवन भी एक उत्सव ही है।"
    सौ प्रतिशत सहमत...

    ReplyDelete
  44. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  45. मोनिका जी ...........काफी दिनों बाद दिखी आपकी पोस्ट..............पर शानदार लिखा है उत्सवों की महिम को बखान करती ये पोस्ट लाजवाब है...........आपको भी बधाई|

    ReplyDelete
  46. आपका आलेख प्रासंगिक होता है. आभार

    ReplyDelete
  47. सब सच है ....
    खुश और स्वस्थ रहें !

    ReplyDelete
  48. आपका ब्लोग पढा पह्ली बार में ही आपके लेखन की मुरीद हो गई। और लेखन भी साधारण नहीं बल्की उच्च कोटि का आगे भी आप से जुडे रहना चाहुगीं

    ReplyDelete
  49. आपका ब्लोग पढा पह्ली बार में ही आपके लेखन की मुरीद हो गई। और लेखन भी साधारण नहीं बल्की उच्च कोटि का आगे भी आप से जुडे रहना चाहुगीं
    tyohar dilon ko jodte hai insaan ko dukh men bhi khush rahne ki himmat aur shakti dete hai .ye baat alag hai ki aaj sare tyohar fb par jyada manaye jate hai

    ReplyDelete
  50. ये संसद उत्सवी कब होगी जहां रोज़ स्यापा और नौटंकी होती है ,चप्पल चलतीं हैं सदनों में (सन्दर्भ राजस्थान विधान सभा ....पूर्व में तमिलनाडु विधान सभा में जै ललिता का चीड हरण हो चुका है,करुणा और निधि हीन डॉ केलागन ,कंमौजी के पिताजी की ....रात के अँधेरे में घर से भी उठाई हो चुकी है ,यू पी में माइक चल चुकें हैं ......)
    आप की बोलोगिया दस्तक हमारे लिए महत्वपूर्ण है .शुक्रिया !
    जन आक्रोश आर हर शू मुखरित है .शुक्रवार, २ सितम्बर २०११
    शरद यादव ने जो कहा है वह विशेषाधिकार हनन नहीं है ?
    "उम्र अब्दुल्ला उवाच :"

    ReplyDelete
  51. एक अस्पष्ट कोलाज़ हो गया हूँ मैं "
    बड़े कैनवास की परिवेश प्रधान ,आंतरिक कुन्हासे को प्रतिबिंबित करती रचना .आप की ब्लोगिया दस्तक हमारे लिए महत्वपूर्ण है .शुक्रिया !
    जन आक्रोश आर हर शू मुखरित है .शुक्रवार, २ सितम्बर २०११
    शरद यादव ने जो कहा है वह विशेषाधिकार हनन नहीं है ?
    "उम्र अब्दुल्ला उवाच :"

    ReplyDelete
  52. हम भारतीय स्वाभाव से ही उत्सवधर्मी हैं...

    एकदम सत्य... और यह उत्सवधर्मिता हमें आपस में जोडती भी है... बढ़िया आलेख...
    गणेशोत्सव की आपको भी सपरिवार सादर बधाईयाँ....

    ReplyDelete
  53. " संगठित होकर जीना सिखाती है। सहभागिता और आपसी समन्वय की सौगात देती है ।" - बहुत ही सुन्दर ! भारत ही तो है जहाँ कई तरह के उत्सव भाई - चारे के साथ मनाये जाते है !

    ReplyDelete
  54. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  55. भारत में त्योहारो के दो पक्ष होते है एक आध्यात्मिक और दूसरा खेल पक्ष.यही कारण है कि नास्तिकों तक को भारतीय संस्कृति की यह अनूठी विशेषता लुभाती है.मुझे तो वो महीना ही फीका सा लगता है जिनमें कोई त्योहार नहीं होता.एक त्योहार जाता है फिर दूसरा आ जाता है.हम भारतीय त्योहारों के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते.इस मामले में निश्चित रूप से भारत एक अनूठा देश है.सुंदर लेख के लिए आभार.

    ReplyDelete
  56. ये उत्सवों का महत्व यूँ ही बना रहे और हमारी नयी पीडी भी इसका सम्मान करे तभी ये सन्स्क्र्ती बची रह सक्ती है.

    सार्थक लेख.

    ReplyDelete
  57. उत्सवप्रिय भारत में सभी उत्सव अपने-अपने समुदायों में मेल-मिलाप के विशेष माध्यम बनकर ही आते हैं ।
    गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  58. dr.monika ji lamabe antaral ke baad sri ganesh kiya.bahut hi achhi posting rahi .ganesh chouth ki mangal kamanayen aapako va poore pariwar ko.

    ReplyDelete
  59. bilkul sahi kha aapne...ganesh ji sabhi ke kary sidh karen...

    ReplyDelete
  60. बहुत ही सुन्दर पोस्ट. गजानन की आप पर कृपा बनी रहे.

    ReplyDelete
  61. हमारा देश तो उत्सवों का देश है। मेले, त्योहार, उत्सव और परम्पराएं हमें एकता के सूत्र में बाधे रखती है।

    महत्वपूर्ण आलेख।

    ReplyDelete
  62. यदि सब मिल-जुल के रहे तो जीवन ही उत्सव बन जाए...

    ReplyDelete
  63. मोनिका जी नमस्ते!!! मैं समय न मिलने और कुछ व्यक्तिगत कारणों से
    बहुत ही कम लिख पा रहा हूँ
    कृपया देर से आने के लिए क्षमा करें
    बड़ी गहरी और सामयिक बात कह दी आपने...
    बीते हुए हर पर्व-त्यौंहार सहित
    आने वाले सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  64. मोनिका जी नमस्ते!!! मैं समय न मिलने और कुछ व्यक्तिगत कारणों से
    बहुत ही कम लिख पा रहा हूँ
    कृपया देर से आने के लिए क्षमा करें
    बड़ी गहरी और सामयिक बात कह दी आपने...
    बीते हुए हर पर्व-त्यौंहार सहित
    आने वाले सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  65. Happy ganesh chaturthi..
    nice write up !!!

    ReplyDelete
  66. अच्छा आलेख.गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  67. सही कह रही हैं आप..
    आपको गणेसोत्सव पर बहुत बहुत शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  68. इस पोस्ट के लिए ,पोस्ट पर टिपियाने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  69. सुन्दर आलेख सहमत हूँ....बहुत ही सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete
  70. देस मेरा रंगीला....
    आशीष
    --
    मैंगो शेक!!!

    ReplyDelete
  71. भारत के उत्सव प्रकृति व उपज से जुड़े हैं.आपस में एक दूसरे से जोड़ते हैं.सामूहिक खुशियाँ बाँटने का कई बार अवसर उपलब्ध कराते हैं,इन्हीं से हमारी पहचान विशिष्ट बनी हुई है.सुंदर और सार्थक आलेख.

    ReplyDelete
  72. गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें.......

    ReplyDelete
  73. बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  74. इन उत्सवों का समाज को एक करने में बहुत बड़ा हाथ हुवा करता है ... पर आज ये पहलू कहीं खत्म होता जा रहा है ...

    ReplyDelete
  75. नयी जीवन शैली हमारे घरों में मनाये जाने वाले त्यौहारों का रूप बदल रही है । सार्वजनिक त्यौहार तो दादा लोगों की मौज मस्ती का साधन ज्यादा भक्ति का कम होते जा रहे हैं ।

    ReplyDelete
  76. बहुत ही खूबसूरती से आपने लिखा है. शुक्रिया

    ReplyDelete
  77. आपको भी शुभकामनाएँ.
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  78. उत्सव वही होता है, जो उत्साह, उमंग और उल्लास के साथ, उन्मुक्त मन से मनाया जाये. न कि भय और आतंक के साये में. ऐसे में बस, श्री मती सुभद्रा कुमारी चौहान की याद आती है और मन पूछता है ' वीरों का हो कैसा वसंत ' . आलेख निश्चय ही सराहनीय है. साधुवाद.
    आनन्द विश्वास.
    अहमदाबाद

    ReplyDelete
  79. aapka parichay naman yogya hai. maa swayam mein paripurnata liye hue hai.

    आपको साधुवाद है... बहुत अच्छा लिखा है।

    kabhi kabhi hum bhi likhte hain, koi jagah bhi de deta hai, samay mile to hame bhi anugrah dijiyega
    www. jan-sunwai.blogspot.com

    ReplyDelete
  80. हिन्‍दुस्‍तान के बारे में एक कहावत कही जाती है कि यह त्‍योहारों का देश है। साल में 365 दिन होते हैं, और हमारे यहां 366 त्‍योहार होते हैं।

    ReplyDelete
  81. I like your post.It is always meaningful.
    Happy ganesh chaturthi.

    ReplyDelete
  82. बहुत बढिया
    गणपति बप्पा मोरिया

    ReplyDelete
  83. आभार...आपसे सहमत हूँ.
    सुंदर आलेख, आपको बधाई और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  84. उत्सव मनाना तो अच्छा है पर उत्सव के नाम पर भगवान को सड़क पर बिठाने के हम कायल नहीं है:)

    ReplyDelete
  85. हमारी उत्सवधर्मिता ही तो हमारी पहचान है.विदेशों में बसने के बावजूद अपना समाज और अपना परिवार इसी के कारण अक्षुण्ण है.गणेश विसर्जन में आप सादर आमंत्रित हैण.

    ReplyDelete
  86. सही बात है, उत्सव स्वाद बदल देते हैं जीवन का

    ReplyDelete
  87. इतने सारे त्यौहार ही हैं जो बिना किसी नोबेल पुरुस्कार पाए व्यक्ति की मदद से भारत की अर्थव्यवस्था को चलायमान रखते हैं..। पर विदेशी शिक्षा के अंधे अनुरकरण करने वालों को समझ में आएगा नहीं। पर त्यौहार का उत्सव खत्म नहीं होगा....आपको गणेश उत्सव की बधाई.

    ReplyDelete
  88. हकीकत बयान करती यह पोस्ट अच्छी लगी...शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  89. बहुत सुन्दर आलेख...ये त्यौहार ही परिवारों को जोड़े रखते हैं.

    ReplyDelete
  90. आपके विचारों से सहमत..... सुंदर प्रस्तुति.
    .
    पुरवईया : आपन देश के बयार

    ReplyDelete
  91. Monika jee namaskaar
    आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए...
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये

    ReplyDelete
  92. आपने भारतीय साहित्य और त्योहारो के बारे में बहुत सुंदर वाक्य लिखा है .

    ReplyDelete
  93. अच्छी जानकारी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,धन्यवाद |

    ReplyDelete
  94. बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  95. मौसम के बदलावों की सूचना त्योहारों से। मुझे भी हमेशा से होली से सावन तक अजीब सी बोरियत लगती है उसके बाद त्योहारों का मौसम आता है और जीवन में सुंदर रंग भर जाते हैं।

    ReplyDelete
  96. ..आपको भी गणेश उत्सव की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  97. बढ़िया जानकारी...मैं कैसे रह गया यहाँ आने से...

    ReplyDelete
  98. badhai ........ sudar prastuti ke liye aabhar ......!

    meri nayi post par aapka intjar hai

    ReplyDelete
  99. "त्योंहार, जो हम सबके जीवन को रंगों से सजाते हैं"
    सुन्दर सारगर्वित अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  100. sunder aalekh jo bharteeyata ko sahi sandarbho me paribhashit karta hai
    dr.bhoopendra

    ReplyDelete
  101. आपको भी गणेश उत्सव की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  102. धर्म और पर्व मनाना चाहिए... परंतु पर्यावरण का भी ध्यान रखना होगा॥

    ReplyDelete
  103. सामाजिक महत्व पर एक बढ़िया आलेख आज के परिवेश में ऐसे आलेख की बहुत ज़रूरत है ताकि लोग उत्सव का मायने ठीक से समझ सकें.....बधाई

    ReplyDelete
  104. aapko bhi ganesh chaturthi ki khub sari badhaiyaan...

    ReplyDelete
  105. त्यौहार और उत्सव हमारे जीवन में रंग भरते रहते हैं । जीवन क्लिष्ट , तेज, कठिन होता जा रहा है ।बदलते समय के साथ त्यौहार भी बदलते हैं । उत्सव मनाने के तरीके बदलते हैं पर उत्सव रूके नहीं हैं , नए उत्सव नए त्योहार नई संस्कृति भी है पर आस्था कहीं भी कम होती नज़र नहीं आती । बहुत अच्छा लेख ।

    ReplyDelete
  106. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ..शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  107. यही बात तो हमें अलग करती है सारे विश्व से...मेरी पुरानी कंपनी में एक सज्जन थे जो की मार्केटिंग हेड थे और लन्दन के रहने वाले थे..उन्हें काफी आकर्षित करती थी हमारे हर त्यौहार...वो मुझसे पूछते भी थे की कौन सा त्यौहार क्यों मनाया जाता है और उसकी महत्ता क्या है..

    ReplyDelete
  108. गणेश जी की कृपा आप पर सदा बनी रहे । हम भारतीयों को तो उत्सव का बहाना चाहिये । इस कारण हम जैसा भी है जितना भी है उसमें खुश रहते हैं या थे (?)

    ReplyDelete
  109. मोनिका जी नमस्कार्। सुन्दर आलेख है। मोनिका जी उत्सव में वो पहले जैसी रौनक अब नही क्योंकि समय किसके पास है। मैने इसी उत्सव पर आज अपने ब्लाग शब्द्कुन्ज पर पोस्ट लिखी है मौका मिले तो आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  110. उत्सव जीवन्तता का प्रतीक हैं एंव कहीं न् कहीं हमें जोड़ने के लिए ही बने हैं...बहुत ही सुन्दर आलेख आपका आभार

    ReplyDelete
  111. उत्सवी माहौल में एक दुसरे से जुड़ते हैं
    उत्सव हमें जीवन में उल्लास का संचार करते हैं और जीने की कला सिखाते हैं.
    उत्सव आमार जाति, आनंद आमार गोत्र.
    सारगर्भित लेख पर बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  112. जब मैं फुर्सत में होता हूँ , पढ़ता हूँ और तहेदिल से इन भावनाओं का शुक्रगुज़ार होता हूँ ....

    ReplyDelete
  113. उत्सव और पर्व तो भारत की पहचान है॥

    ReplyDelete
  114. UTSAV HMARI PRAMPRA HA...YA PARMPRA JB TK JAARI RHEGI BHARTIYA SAMAJ KE RACHNA KA MAULIK TATVA BACHE RHENGA...! SUNDER POST...! BDHAI...!

    ReplyDelete
  115. mujhae lagta hai ki ajkal tyohar or utsav ko kahin zyada bade scale par manaya jata hai... jisme bhavnao ki kami , maksad ki kami ho gayi hai...bus chamak damak badhti ja rahi hai...
    ek achhae lekh ke liyae badhai...

    ReplyDelete


  116. अच्छा आलेख ! आभार !

    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  117. आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  118. आपको नवरात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं !!
    सादर !!!

    ReplyDelete
  119. सुन्दर आलेख ..उत्सवों और पर्वों के प्रति आत्मीयता , ब्यवसायीकरण की भेंट चद्ती जा रही है ऊपर से भाग दौड की जिंदगी के आदी होने से सामाजिक क्रियाकलापों में आत्मीय रूप से सम्मिलित भी नहीं होते केवल औपचारिक प्रतिभाग सामान्य प्रक्रिया बन चुकी है....
    सादर !!!

    ReplyDelete
  120. आग कहते हैं, औरत को,
    भट्टी में बच्चा पका लो,
    चाहे तो रोटियाँ पकवा लो,
    चाहे तो अपने को जला लो,

    ReplyDelete
  121. बढ़िया प्रस्तुति ||

    बहुत-बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  122. बढ़िया लेख ...
    बहुत अच्छा लगता है आपको पढ़कर |

    ReplyDelete
  123. Main Apse se Sahmat hun! Apka blog bahut achha hai!


    Apko navraatri ki shubhkaamnayen!

    ReplyDelete
  124. विघटित होते पारिवारिक और सामाजिक मूल्यों के इस दौर में,उत्सवधर्मिता के भी क्रमशः औपचारिक रह जाने का ख़तरा बढ़ गया है।

    ReplyDelete
  125. Greetings ,

    Read urs blog its just Awosum.
    We had just started a Magazine Its name is Ajaykiran made a group in Facebook And As made a blog...Website of is underproduction soon to be launched...
    Let me tell u about my Magazine its theme is positivism...It covers every field of life through the lens of positive viewpoints and thought.
    We need urs support and wishes. So please contribute if ur have time...
    BTW Our magazine Blog address is www.ajaykiran.wordpress.com
    Do visit it.And plz comment how it is...@ magazine.ajaykiran@gmail.com
    Anyways Have a nice day.

    Regards,
    Ankush Jain

    ReplyDelete