My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

18 March 2011

बनी रहे रंगों के पर्व की गरिमा.......!


रंगों का त्योंहार होली एक अनूठा पर्व है। इसकी पौराणिक मान्यता तो है ही सामाजिक महत्व भी बङा अर्थपूर्ण है। शांति और सदभाव का संदेश देने वाला यह त्योंहार भेदभाव और ऊंच नीच को भुलाकर एक हो जाने का दिन है। यह त्योंहार उदारता और सहिष्णुता की सीख देता है।

होली मस्ती और धमाल का त्योंहार है पर इस मस्ती में कई बार त्योंहार की गरिमा ही खो जाती है। मन क्षुब्ध हो जाता है जब होली के हुङदंग के नाम पर हर साल कई जानें जाती है....... अनगिनत सङक दुर्घटनायें घटित होती हैं...... महिलाओं के साथ अभद्रता का व्यवहार होता है।

ऐसा असामाजिक व्यवहार करने वाले लोग खासकर युवा अन्य लोगों के साथ ही पुलिस प्रशासन के लिए भी समस्या बनते हैं। कई बार तो इन गतिविधियों में स्वयं उनका जीवन भी खतरे में पङ जाता है। इतना ही नहीं विदेशों से भारत आकर इस त्योंहार को मनाने वाले पर्यटकों के साथ भी बदसलूकी की खबरें आती हैं। जो हमारी भारतीय संस्कृति और इन सांस्कृतिक पर्वों गरिमामयी छवि को ठेस पहुंचाती हैं।


कई बार ऐसे मौके आये हैं जब इस त्योंहार की मस्ती में डूबे लोगों को बङे- बुजुर्गों और महिलाओं के साथ सङक पर बदसलूकी करते देखा है। मन बहुत व्यथित होता है यह देखकर कि कुछ लोग कैसे मानवीय गुणों को ताक पर रखकर इस पर्व की गरिमा को धूमिल करते हैं।


कोई भी त्योंहार जब उसकी मूल भावना को भुलाकर उन्मादी ढंग से मनाया जाता है तो पूरे समाज को इसका ख़ामियाजा भुगतना पड़ता है। आज के दौर नशा और उदंडता का विवेकहीन व्यवहार हमारे त्योहारों का रूप विकृत कर रहे हैं। इस उन्मादी माहौल दुर्व्यवहार से बचने के लिए शहरों में तो लोग बच्चों और परिवार के साथ घर से बाहर नहीं निकलते । आज के युवा भूलने लगे हैं कि सामाजिक समरसता पैदा करने वाले इस रंगों के उत्सव को मनाने के लिए मर्यादाओं को भूलना इसके स्वरुप को ही विकृत कर रहा है।

होली उल्लास का उत्सव है। जीवन में सतरंगी मिठास घोलने का मौका है न कि किसी की जिंदगी के रंग छीनने या उसे बेरंग कर देने का। कृपया उल्लास को उदंडता न बनने दें , इस पर्व के आध्यात्मिक और सामाजिक भावों को समझते हुए जीवन में खुशियों के रंग भरें......

आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनायें.......

105 comments:

  1. bahut hi badhiya . Happy Holi 2 u n all ur friends...........!

    ReplyDelete
  2. आपकी पोस्ट में होली पर्व की विशेषता का सही ढंग से विश्लेषण हुआ है ......आपका यह कहना सही है कि हम इस पर्व की महता को समझ सकें ...आपका आभार इस विचारात्मक पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  3. उत्साह के पर्व पर चिंतनीय पोस्ट!!

    'बुरा न मानो होली है' सूत्र उद्दंडता और कुंठा प्रकटीकरण के लिये नहीं। बल्कि सौम्यतापूर्वक कुंठाओं के निस्तार के लिये है।

    ReplyDelete
  4. होली में गाठें सुलझें, उलझें नहीं।

    ReplyDelete
  5. अभद्रता करने वालों की जमकर कुटाई होना चाहिये आन द स्पाट. बस.

    ReplyDelete
  6. डॉ. मोनिका जी,
    आपके विचारों पर सहमती रखता हूँ.
    .
    .
    चौथे अनुच्छेद में प्रारम्भिक शब्द 'कई' लिखने से रह गया है.

    ReplyDelete
  7. आपने बिलकुल सही कहा ....होली का त्यौहार सद्भाव और मर्यादा में रहकर मनाया जाना चाहिए.

    आपके विचारों से पूर्णतः सहमत.

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं!

    सादर

    ReplyDelete
  8. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. होली उल्लास का उत्सव है। जीवन में सतरंगी मिठास घोलने का मौका है न कि किसी की जिंदगी के रंग छीनने या उसे बेरंग कर देने का।

    सही कहा है इस पर्व को भी एक सीमा में रहकर शालीनता से ही मानना चाहिए.. सार्थक पोस्ट..आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनायें.......

    ReplyDelete
  10. सही है, जोश में (या उसके बिना भी) होश नहीं खोना चाहिये! होली की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. आभार प्रतुलजी...सुधार कर लिया है...

    ReplyDelete
  12. होली पर बहुत ही सार्थक लेख !
    आपको सपरिवार होली की रंग भरी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  13. monika ji,
    bahut sahi kaha hai aapne sahamat hun aapse........
    holi ki anyek shubhkamanye..........

    ReplyDelete
  14. सही कहा आप ने पर हुड़दंगी ये सब समझते तो होली का रंग ख़राब नहीं करते |

    ReplyDelete
  15. कहना सही है , बहुत बार देखने में आता है, लोग इस पवित्र त्योहर कि मर्यादा का उलंघन करते हैं | .... मोके कि बात मौके पर सही लिखी है धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. कोई भी त्योंहार जब उसकी मूल भावना को भुलाकर उन्मादी ढंग से मनाया जाता है तो पूरे समाज को इसका ख़ामियाजा भुगतना पड़ता है...........।
    आपका आभार इस विचारात्मक पोस्ट के लिए,
    होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं!
    सादर !

    ReplyDelete
  17. सही कहा आपने ये हुडदंगी खुशियों के रंग में भंग का कार्य करते है
    आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  18. होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    नीरज

    ReplyDelete
  20. kisi ki badtamizi ke liye agar kuch kahte bhi hai to, ma'm pata hai wo kya kahte hai...........

    ''bura na mano holi hai"....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर और शानदार पोस्ट !
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  22. विचारात्मक पोस्ट .
    आपको सपरिवार होली की रंग भरी शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  23. रंगों की गरिमा बनाये रखना ज़रुरी है ...सही सन्देश देती अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  24. "होली उल्लास का उत्सव है। जीवन में सतरंगी मिठास घोलने का मौका है न कि किसी की जिंदगी के रंग छीनने या उसे बेरंग कर देने का। कृपया उल्लास को उदंडता न बनने दें , इस पर्व के आध्यात्मिक और सामाजिक भावों को समझते हुए जीवन में खुशियों के रंग भरें"
    कितना सार्थक सन्देश है आपका .काश ! इसको सही प्रकार से समझते हुए हम सब जीवन में खुशियों के रंग भर पायें.होली पर आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक शुभ कामनाएँ .

    ReplyDelete
  25. रंगो के त्‍योहार पर विचारणीय प्रस्‍तुति ....होली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  26. आज के युवा भूलने लगे हैं कि सामाजिक समरसता पैदा करने वाले इस रंगों के उत्सव को मनाने के लिए मर्यादाओं को भूलना इसके स्वरुप को ही विकृत कर रहा है। बहुत सुन्दर ..आप ने जो रंग बिखेरी उससे मन लाल -लाल हो गया !आप के पोस्ट...आपके घर में ही ज्यादा सुन्दर लगते है ...शायद आप समझ गयी होगी ! बहुत ही सुन्दर और बिचारानीय लेख ! होली की ढेर सारी शुभ कामनाये ! अरे..पीछे देंखे कौन आया ...डर गयी ...? बुरा न मानो होली है !

    ReplyDelete
  27. जीवन में सतरंगी मिठास घोलने का मौका है न कि किसी की जिंदगी के रंग छीनने या उसे बेरंग कर देने का।....

    सही कहा आपने....
    रंगपर्व पर इस सार्थक लेख के लिए आपको हार्दिक बधाई।
    होली का पर्व आपके लिए मंगलमय हो...

    ReplyDelete
  28. बहुत सार्थक..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  29. सार्थक सोच, जनोपयोगी सन्देश.

    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    कडवा सच जीवन का....

    ReplyDelete
  30. बहुत सार्थक चिंतन..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  31. मोनिका जी,

    आपकी एक एक बात सही है सच बड़ा दुःख होता है ऐसा देखकर अभी दो साल पहले मेरी अपनी आँखों के सामने एक दुर्घटना हो चुकी है होली के ही दिन......आपका सन्देश बहुत सटीक और शुभ है ....आपको और आपके परिवार को रंगों के त्यौहार की बधाई|

    ReplyDelete
  32. होली पर सार्थक लेख .
    होली मुबारक हो आपको.

    ReplyDelete
  33. हांजी दूम दाम से मन्ये गे होली !होली की ढेरों शुभकामनाएं! हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  34. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  35. मोनिका जी,
    हिदायतों के साथ साथ आपकी रचनाधर्मिता की भी तारीफ की होली जैसे मस्ती और उल्लास के त्यौहार पर ढेर सी हिदायतें और वो भी रोचकता के साथ।
    एक सार्थक पोस्ट.....
    होली की आप सभी को रंगारंग मुबारकबाद........
    सादर,
    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  36. आपके विचारों से पूर्णतः सहमत|

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं|

    ReplyDelete
  37. बहुत ही खूब लिखा है आपने.
    अभद्रता नहीं पर थोड़ी सी मस्ती तो जायज़ है.
    आपको होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  38. बहुत सही दृष्टिकोण प्रस्तुत किया है आपने.आप सब को होली बहुत -बहुत मुबारक हो.

    ReplyDelete
  39. आपको परिवार- सहित होली की बहुत - बहुत बधाई दोस्त |

    ReplyDelete
  40. आपसे शत प्रतिशत सहमत....होली की सपरिवार रंगीन बधाई एवं अशेष शुभकामनायें स्वीकार करें !!

    ReplyDelete
  41. बात् घूम फिरकर परिवार पर आकार ही रूकती है. अच्छे संस्कार कभी भी व्यक्ति को सीमाओं से आगे नहीं बढ़ने देते. यह एक सामाजिक समस्या है जिसकी ओर इशारा कर आपने जागरूकता बनाये रखने का महत्वपूर्ण कार्य किया है. होली आपके लिए मंगलमय और शुभ हो.

    ReplyDelete
  42. आपने बिलकुल सही कहा

    ReplyDelete
  43. अजी ऎसे मोको पर छोटी मोटी बातो को अनदेखा कर देना चाहिये, एक आध बतमीज के लिये अपने त्योहारो को नही छोड सकते, विदेशो मे भी जब यह लोग अपने त्योहार मनाते हे( जर्मनी मे फ़ाशींग) तो यह भी खुब मजे लेते हे,ओर यहां कि महिलाये मर्दो की टाई तक काट देती हे बदले मे एक मिठ्टा सा चुम्बन दे देती हे , अब उन के सामने कोई भी आ जाये देशि या विदेशी... ओर कोई बुरा नही मानता, बहुत से ऎसे त्योहार होते हे, चलिये चोडिये इन बातो को... ओर लिजिये हमारे परिवार की तरफ़ से.....होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  44. डॉ. मोनिका जी नमस्कार ,
    आपने बिलकुल सही कहा. आपके विचारों पर सहमती रखता हूँ....
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  45. डॉ. मोनिका जी नमस्कार ,
    आपने बिलकुल सही कहा. आपके विचारों पर सहमती रखता हूँ....
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  46. रंगों के त्यौहार को बेरंग करने वालो के लिए बहुत अच्छी राय | बधाई

    ReplyDelete
  47. बहुत ही सार्थक चिंतन.....

    आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  48. बहुत प्यारा लेख !होली की शुभकामनायें स्वीकार करें डॉ मोनिका !

    ReplyDelete
  49. सही कहा आपने।
    बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक लेखन के साथ विश्लेषण भी ..

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं!

    ReplyDelete
  50. Badhiya aalekh!
    Holee kee dheron shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  51. सही बात है..होली तो अच्छे से, मिल जुलकर मनानी चाहिए...
    :)

    ReplyDelete
  52. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.
    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  53. बहोत ही सुन्दर लेख

    आपको सपरिवार होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  54. कृपया जापान के प्रकृतिक आपदा का उपहास उडाने वालों के विरुद्ध मेरा साथ दे इस पोस्ट पर http://ahsaskiparten-sameexa.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

    ReplyDelete
  55. होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।
    आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

    ReplyDelete
  56. होली की आपको बहुत बहुत शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  57. डॉ. मोनिका जी,
    बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक लेखन !
    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  58. होली उल्लास और जीवन के रंगों का त्यौहार है . इसके हुल्लड़ में हमे ये नहीं भूल जाना चाहिए की कई बार होली खेलने के दौरान हमारे स्वच्छंद व्यव्हार से किसी को कष्ट पहुँच सकता है . आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  59. आप को होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  60. बहुत सुन्दर ! उम्दा प्रस्तुती! ! बधाई!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  61. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  62. बिल्कुल सही बात कह रही है आप्…………आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  63. निंदनीय है इस प्रकार का व्यवहार.

    ReplyDelete
  64. सार्थक चिंतन और संदेश

    सुरक्षित , शांतिपूर्ण और प्यार तथा उमंग में डूबी हुई होली की सतरंगी शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  65. आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं । ठाकुरजी श्रीराधामुकुंदबिहारी आप सभी के जीवन में अपनी कृपा का रंग हमेशा बरसाते रहें।

    ReplyDelete
  66. bilkul sahi kaha aapne.....ek baat aur...bachpan me holi pe nibandh likhne ko aata tha..kash us samay is padha hota to AVVAL aa jata.

    ReplyDelete
  67. शायद ही किसी अन्य पर्व का स्वरूप उतना विकृत हुआ हो जितना होली का हुआ है।

    ReplyDelete
  68. तन रंग लो जी आज मन रंग लो,
    तन रंग लो,
    खेलो,खेलो उमंग भरे रंग,
    प्यार के ले लो...

    खुशियों के रंगों से आपकी होली सराबोर रहे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  69. "कोई भी त्योंहार जब उसकी मूल भावना को भुलाकर उन्मादी ढंग से मनाया जाता है तो पूरे समाज को इसका ख़ामियाजा भुगतना पड़ता है।"

    सटीक बात कही आपने ! आपको भी होली की ढेरों शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  70. होली पर आप को परिवार के साथ शुभ कामनाएं ।
    ये त्यौहार सबके जीवन में कमसेकम सौ बार आये आभार इस विचारात्मक पोस्ट के लिए

    ReplyDelete
  71. is post me bahut aham baate kahi gayi hai jise samjhna jaroori hai ,holi ki dhero badhai aapko .

    ReplyDelete
  72. सब होली के उल्लास को समझ सकें यही कामना है ..आप को सपरिवार होली शुभ हो .....

    ReplyDelete
  73. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति.....होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  74. रंगों के पावन पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

    ReplyDelete
  75. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  76. बहुत ही सार्थक आलेख ! होली के पावन पर्व पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर से प्रार्थना है कि रंगों का यह अद्भुत पर्व आप सभी के जीवन में हर्ष और उल्लास, सुख तथा समृद्धि तथा स्वास्थ्य और सफलता की ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये ! होली मुबारक हो !

    ReplyDelete
  77. बहुत सुन्दर ज्ञानवर्धक होली प्रस्तुति
    आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  78. बहुत ही अच्छी पोस्ट सच में इस त्योंहार के आगोश में आकर न जाने कितन बुरा सलूक होता है ...सीमाए तोड़ी जाती है ......सच में हमें सामाजिक दायित्व लेते हुए इस पे ध्यान देना चाहिए

    आपको होली कि ढेरो शुभकामनाये

    ReplyDelete
  79. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  80. होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना

    ReplyDelete
  81. होली में हम अपने संस्कार ना भूलें । यह हर्षोल्लास का त्यौहार है उद्दंडता और दुर्व्यवहार का नही ।

    ReplyDelete
  82. आपको सपरिवार होली की रंग भरी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  83. सच है. रंगों के इस खूबसूरत त्यौहार को पता नहीं क्यों कुछ लोग अपनी हरकतों से बदरंग करने की कोशिश करते हैं.

    रंग-पर्व पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  84. सच है. रंगों के इस खूबसूरत त्यौहार को पता नहीं क्यों कुछ लोग अपनी हरकतों से बदरंग करने की कोशिश करते हैं.

    रंग-पर्व पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  85. सच है त्योहार की गरिमा और शालीनता बनी रहना चाहिए ... तभी त्योहार सार्थक है ......
    आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

    ReplyDelete
  86. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  87. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  88. आपने सही सवाल उठाये हैं ... इस विचारोत्तेजक लेख के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  89. रंग के त्यौहार में
    सभी रंगों की हो भरमार
    ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार
    यही दुआ है हमारी भगवान से हर बार।

    आपको और आपके परिवार को होली की खुब सारी शुभकामनाये इसी दुआ के साथ आपके व आपके परिवार के साथ सभी के लिए सुखदायक, मंगलकारी व आन्नददायक हो। आपकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो व सपनों को साकार करें। आप जिस भी क्षेत्र में कदम बढ़ाएं, सफलता आपके कदम चूम......

    होली की खुब सारी शुभकामनाये........

    सुगना फाऊंडेशन-मेघ्लासिया जोधपुर,"एक्टिवे लाइफ"और"आज का आगरा" बलोग की ओर से होली की खुब सारी हार्दिक शुभकामनाएँ..

    समय मिले तो ये पोस्ट जरूर देखें.
    "गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!"
    लिक http://sawaisinghrajprohit.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

    आपका कीमती सुझाव और मार्गदर्शन अगली पोस्ट को और अच्छा बनाने में मेरी मदद करेंगे! धन्यवाद…..

    आपका सवाई सिंह

    ReplyDelete
  90. .होली पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  91. होली की हार्दिक शुभकामनायें.......


    Bahut Sundar Blog hai aap ka aur Chaitanya ka..

    ReplyDelete
  92. पर्व के आध्यात्मिक और सामाजिक भावों को समझते हुए जीवन में खुशियों के रंग भरें.
    पूर्णतः सहमत.
    आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाए.

    ReplyDelete
  93. मोनिका जी सही कहा आपने वास्तव में चंद विकृत मानसिकता के लोगो ने इस पर्व के मूल स्वरूपों को ही विकृत कर दिया है
    आपको होली पर्व की बधाई हो

    ReplyDelete
  94. प्रेरक पोस्ट ...
    होली की बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  95. होली की ढेरो शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  96. हम कामना करें कि त्यौहारों की स्वस्थ परंपरा पुनर्जीवित हो।

    होली पर्व की अशेष शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  97. बनी रहे रंगों के पर्व की महिमा ! एक सार्थक वक्तव्य ! बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  98. एक बार फिर से होली पर सार्थक लेखन की और १०० कमेंट्स की बहुत बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  99. बिल्कुल सही बात कह रही है आप्
    आपको को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  100. monika ji
    bahut hi khoobsurat tareke se aapne holi ya any parvo par hone wale in durvyvharo v abhadratao ka vishhleshhan kiya hai jisase parv ki mahima hi sharmsaar ho jaati hai.aapne bilkul mere man ki baat likhi hai .
    is sateek prastuti ke liye bahut bahut dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  101. होली उल्लास का उत्सव है। जीवन में सतरंगी मिठास घोलने का मौका है न कि किसी की जिंदगी के रंग छीनने या उसे बेरंग कर देने का। कृपया उल्लास को उदंडता न बनने दें , इस पर्व के आध्यात्मिक और सामाजिक भावों को समझते हुए जीवन में खुशियों के रंग भरें......


    सटीक विश्लेषण -
    होली की गरिमा को बनाये रखना चाहिए -

    ReplyDelete
  102. आप सबको शुभकामनाओं और अर्थपूर्ण टिप्पणियों के लिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete