My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

14 March 2011

कहाँ मैं खेलूं चहकूं गाऊं .......!



कहाँ मैं खेलूं चहकूं गाऊं
आप बड़ों को क्या समझाऊं
बोलूं तो कहते चुप रहो
चुप हूं तो कहते कुछ कहो
कोई राह सुझाओ तो
मैं क्या करूं ?


मां कहती है इधर ना आओ
दादी कहती उधर ना जाओ
इतनी सारी हैं पाबंदी
क्या मैं हूं इस घर का बंदी
कोई राह सुझाओ तो
कैसे मैं जिऊं ?


दादा मुझको भूत दिखाते
पापा छिपकली से डराते
मां भी देती है ये धमकी
रात को ना मिलेगी थपकी
कोई राह सुझाओ तो
मैं क्यों डरूं ?

मैं हरदम करता हूँ काम
पल भर ना मुझको आराम
बड़ों के आगे एक न चलती
इसमें क्या है मेरी गलती
कोई राह सुझाओ तो
मैं क्यूं रूकूं ?


कार्टून का चैनल छोड़ो 
कोई चीज ना जोड़ो-तोड़ो 
मेरी घर में एक ना चलती
बिन गलती के डांट है मिलती
कोई राह सुझाओ तो.......... 
मैं क्यूं सहूँ ?

इसे बाल कविता कहूँ या बच्चे के मन के सवाल ........ या सिर्फ संवाद जो बच्चे और घर के लोगों के बीच होकर भी नहीं होता । हाँ अब इतना ज़रूर समझती हूँ कि छोटी छोटी मासूम शिकायतें बच्चों को भी होती है हमसे ................!

98 comments:

  1. मैं हरदम करता हूं काम
    पल भर ना मुझको आराम
    इसमें क्या है मेरी गलती
    बङों के आगे एक न चलती

    आदरणीया मोनिका शर्मा जी
    बाल मन के भावों का बहुत सूक्ष्म निरीक्षण कर आपने उन्हें अभिव्यक्त किया है ....!
    मेरे दुसरे ब्लॉग "धर्म और दर्शन" पर आपका मार्गदर्शन अपेक्षित है

    ReplyDelete
  2. quite unanswerable. but why all this restrictions 2 the li'l kid......nice expressions .

    ReplyDelete
  3. आपने बच्चे के मन की पीड़ा को शब्दों में बाँध दिया.
    बच्चे मन को समझने वाले संवेदनशील हृदयों को बेहद अच्छी लगेगी यह रचना.
    यह कविता ....... श्रेष्ठ कविता की कोटि में ठहरती है.

    ReplyDelete
  4. बच्चों के अंतरमन से लिखी सुन्दर भावमई कवित| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  5. सारे सवाल जेनुइन हैं। माँ बाप और बुज़ुर्गोंको को अपनी ज़िम्मेदारी के प्रति अधिक सावधान होना चाहिये।

    ReplyDelete
  6. @मां कहती है इधर ना आओ
    दादी कहती उधर ना जाओ
    इतनी सारी हैं पाबंदी
    क्या मैं हूं इस घर का बंदी
    कोई राह सुझाओ तो........
    बाल-मन की बेहतरीन भावाभिव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  7. बच्चों की ऊर्जा को प्रौड़ के मन से न तौला जाये, मैं चैतन्य के साथ हूँ।

    ReplyDelete
  8. शानदार कविता है।
    आपनें बाल-मन को बखूबी उकेरा है।
    यही…बस यही…शिकायते हो सकती है।

    ReplyDelete
  9. अति सुन्दर

    ReplyDelete
  10. बस कुछ नहीं ..सबके सामने ज़रा सी मीठी मुस्कान बिखेर दो ...सब मान जायेंगे प्यार से ...बहुत -सुन्दर

    ReplyDelete
  11. दादा मुझको भूत दिखाते
    पापा छिपकली से डराते
    मां भी देती है ये धमकी
    रात को ना मिलेगी थपकी
    कोई राह सुझाओ तो........ मैं क्यों डरूं, मैं क्यों डरूं.........?

    बच्चों के मन में झाँक कर देखने की सार्थक कोशिश !
    बाल मन में उभरते सहज और स्वाभाविक प्रश्नों की कोमल अभिव्यक्ति को समेटे कविता बहुत ही प्यारी है !

    ReplyDelete
  12. haan babu... bahut uljhan hai, mushkil hai in badon ko samajhna ... isi me se raah nikalni hoti hai chahakne kee aur gane kee

    ReplyDelete
  13. बहुत ही शानदार!

    सादर

    ReplyDelete
  14. तुमको राह सुझाता हूँ, मैं
    पते की बात बताता हूँ मैं
    अगर बात न मानी जाये
    साफ़ बात अपनी बतलादो

    शोर मचाएं जोर जोर से
    टोका टाकी कुछ न होगी
    घर के हर डिब्बे बर्तन में
    चाकलेट रखनी ही होगी

    पानी में छप छप करने
    की , भी पूरी आजादी होगी
    भालू बन्दर और पिल्लों को
    घर में सब आज़ादी होगी !

    मांग हमारी, पूरी कर दो !
    साफ़ साफ़ बतलाता हूँ मैं
    अगर नहीं माने तो सुन लो
    कल से पुच्ची नहीं मिलेगी

    ReplyDelete
  15. इतने प्यारे मासूम सवालों को खूब अच्छी तरह काव्य में ठाला है आपने ....लेकिन बाल ह्रदय की शिकायत भी वाजिब है ...सुन्दर रचना !!
    ----------------------
    क्या नाम दें?

    ReplyDelete
  16. chaitanya...tumhare saath hun main...milo mujhse fir batata hun koi upaay :P

    ReplyDelete
  17. यही से तो शुरू हो जाता है बंदिशों का खेल ....बच्चों के मनोविज्ञान को अच्छे से उकेरा है ..

    ReplyDelete
  18. बच्चों की और से उनकी भावनाओं को उठा कर आपने लोगों को सोचने के उद्देश्य से प्रेरक कविता लिखी है.लोगों को इसके भाव को समझ कर बच्चों के प्रति अपने व्यवहार में परिवर्तन करना चाहिए.

    ReplyDelete
  19. बच्चों को खुलने की आज़ादी मिलनी चाहिए ...लेकिन किसी भी माँ बाप के सामने दो समस्याएं रहती हैं एक तो हमारा सामाजिक माहौल एस ही कि बच्चों के गलत चीजें सीखने का दबाव ज्यादा रहता है और दूसरे उन्हें लगता है कहीं हमारा बच्चा इस प्रतियोगी समाज में पिछड ना जाये इसलिए वो बंदिशों का सहारा लेते हैं| लेकिन आपसी सामंजस्य और थोड़ी सी आज़ादी देकर हल किया जा सकता है और हमें एक बार बालमन पर पडने वाले असर की तरफ तो ध्यान देना ही चाहिए|

    ReplyDelete
  20. बहुत प्यारी कविता
    हाँ सभी बच्चों के मन की बातें लिख दी आपने इन पंक्तियों में
    काश बडे समझें

    प्रणाम

    ReplyDelete
  21. मम्मी कहती उधर न जाओ,
    बीवी कहती उधर ही जाओ।
    बेटी कहती कहीं न जाओ,
    बैठो मेरे पास पढो-पढाओ।
    चक्रव्युह में अपने को फ़ंसा पाता हूँ।
    मैं खूंटा तुड़ाने को तैयार हो जाता हूँ।

    मोनिका जी,आपने मेरे मन की बात कह दी। :)

    ReplyDelete
  22. बाल मन को बहुत गहराई से महसूस किया है और उनके मन के प्रश्नों को बहुत सुंदरता से उकेरा है..

    ReplyDelete
  23. बाल मन की बहुत सुन्दर तस्वीर खींची है।

    ReplyDelete
  24. बच्चे के मन के विषाद की सुंदर अभिव्यक्ति.ऐसे में ही बच्चे को 'विषाद योग' की परम आवश्यकता होती है जिससे उसके मासूम मन में अनावश्यक ग्रंथियां न बन जाएँ और उसका समुचित विकास हो पावे.बड़ों के द्वारा उसकी भावना को समझ उसके बालमन का उचित समाधान अति आवश्यक है.

    ReplyDelete
  25. बाल मन की व्यथा का सही चित्रण किया है |

    ReplyDelete
  26. मां कहती है इधर ना आओ
    दादी कहती उधर ना जाओ
    इतनी सारी हैं पाबंदी
    क्या मैं हूं इस घर का बंदी.....
    बेहतरीन भावाभिव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  27. मोनिका जी,

    अहयद ये आपके लाडले की तस्वीर है.....बहुत नटखट और सुन्दर है.....ईश्वर उसे हमेशा खुश रखे......आमीन

    मुझे लगता है इस दुनिया में सबसे ज़्यादा बंधन और दबाव बच्चे पर ही होते हैं जब वो छोटा होत्ता है तभी से क्योंकि वो शिकायत नहीं कर सकता....

    ReplyDelete
  28. बहुत बात करते हैं बच्चे आप जैसे किन्तु चैतन्य जी ये सब बड़े आप जैसे प्यारे बच्चों के भलाई के लिए ही करते हैं और अब तो होली आ रही है और उपदेश मिलेंगे मानना जरूर..अच्छी कविता लिख लेती हैं मोनिका जी आप ..

    ReplyDelete
  29. वाह ...बालमन की उलझन को सुन्‍दर भावों से रचना में प्रस्‍तु‍त किया है ...बधाई ।

    ReplyDelete
  30. सतीश जी ने भी प्रतिउत्तर में कमाल की बाल कविता लिख दी.
    बच्चों के भावों को स्वर दे पाना. उस आयु में फिर से प्रविष्ट होकर ही संभव है.
    मेरे लिये यही एक कसौटी है किसी की भावुकता और संवेदनशीलता को परखने की.
    मैं ब्लॉगजगत में रमने लगा हूँ
    अब लगता हूँ कि कभी सभी बड़े बच्चों के साथ कभी बहुत देर तक छिपन-छिपायी खेलूँ.
    या धूल में जाकर गिल्ली-बल्ला खेलूँ.
    लेकिन थोड़ी ही देर बाद बड़ी आयु का बोध हो ही जाता है. और फिर से गंभीर हो जाता हूँ.
    न जाने कब तक मुझे असली सा लगने वाला बड़े होने का नाटक खेलना होगा!

    ठीक ही कहा है कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान जी ने :
    "बार-बार आती है मुझको मधुर याद बचपन तेरी.
    गया ले गया उस जीवन की सबसे मस्त खुशी मेरी."

    ReplyDelete
  31. दादा मुझको भूत दिखाते
    पापा छिपकली से डराते
    मां भी देती है ये धमकी
    रात को ना मिलेगी थपकी ...

    बहुत सुंदर बॉल कविता है ... बच्चे के मन को लिख दिया है आपने ....बच्चे के मन की पीड़ा ...

    ReplyDelete
  32. बहुत ही अच्छे शब्द है इस पोस्ट में सच में दिल खुश हो गिया ! हवे अ गुड डे
    प्रणाम,
    मेरा ब्लॉग विसीट करे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  33. बच्चों के मन की बात आख़िरआपने पढ़ ही ली अच्छी लगी बधाई

    ReplyDelete
  34. bachpan ki yaad dila di aapne ,bahut khoob..

    ReplyDelete
  35. बच्‍चे का दि‍ल पढ़ लि‍या है आपने।

    ReplyDelete
  36. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 15 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  37. दादा मुझको भूत दिखाते
    पापा छिपकली से डराते
    मां भी देती है ये धमकी
    रात को ना मिलेगी थपकी

    शानदार कविता ....

    ReplyDelete
  38. अरे यार यही प्राबलम मुझे भी थी जब मै तेरे जितना था.... जब पता चले तो हम को भी बताना. वेसे आज बहुत प्यारे लग रहे हो, हमारा आशिर्वाद

    ReplyDelete
  39. अब बच्चों की तो दुनिया ही निराली होती है.. उनके मन की भी ध्यान रखना चाहिये.

    ReplyDelete
  40. कार्टून का चैनल छोङो
    कोई चीज ना जोङो-तोङो
    मेरी घर में एक ना चलती
    बिना कसूर के डांट है मिलती
    कोई राह सुझाओ तो.............. मैं क्यूं सहूँ , मैं क्यूं सहूँ ...........?

    मैं हरदम करता हूं काम
    पल भर ना मुझको आराम
    इसमें क्या है मेरी गलती
    बङों के आगे एक न चलती
    कोई राह सुझाओ तो.............मैं क्यूं रूकूं, मैं रूकूं..........?
    bahut achchhi rachna ,bachcho ki chintaye jayaj hai ,kya kare ki na kare jaisi sthiti aa jati hai .

    ReplyDelete
  41. वाकई, बच्चों का ये धर्मसंकट काबिले-गौर है ।

    ReplyDelete
  42. बड़ी मीठा-सा गीत है एकदम आपके बेटे जैसा....
    मजेदार यह है इतिहास अपने को दोहराता रहता है....हम भी कभी बच्चे थे और सही सोचते थे और आज वही व्यवहार करते हैं जो हमारे साथ हमारे माता-पिता का व्यवहार था.....
    बहुत प्यारी कविता...

    ReplyDelete
  43. बड़ा मीठा-सा गीत है एकदम आपके बेटे जैसा....तस्वीर आपके बेटे की ही है न...
    मुझे पता नहीं....वैसे लगता तो यही है...
    मजेदार यह है इतिहास अपने को दोहराता रहता है....हम भी कभी बच्चे थे और सही सोचते थे और आज वही व्यवहार करते हैं जो हमारे साथ हमारे माता-पिता का व्यवहार था.....
    बहुत प्यारी कविता...

    ReplyDelete
  44. शानदार कविता है।
    अच्छी प्रस्तुति हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  45. शानदार कविता है।
    अच्छी प्रस्तुति हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  46. @ इमरान जी
    @ वीणा जी
    हाँ ...चित्र में मेरा बेटा चैतन्य है..... उसके कुछ मासूम सवाल ही इन पंक्तियों में उतरे हैं.....

    ReplyDelete
  47. मैं हरदम करता हूं काम
    पल भर ना मुझको आराम
    इसमें क्या है मेरी गलती
    बङों के आगे एक न चलती.

    बाल मन के भावों का बहुत सूक्ष्म निरीक्षण.बेहतरीन भावाभिव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  48. @ सतीश जी
    सतीशजी आपने तो बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ रची हैं..... इस बेहतरीन अभिव्यक्ति लिए टिप्पणी के लिए आभार
    @ प्रतुल जी
    आपके विचारों से सहमत हूँ..... हम जब बच्चा बन जाना चाहते हैं उम्र का बोध स्वतः हो जाता है.... सुभद्रा जी की पंक्तियाँ साझा करने का आभार

    ReplyDelete
  49. बहुत मासूम सवाल ...बहुत प्यारी रचना है ...

    ReplyDelete
  50. बहुत ही कोमल प्रश्न हैं....ये सारे प्रश्न कभी हमने भी दागे होंगे जरूर....बढ़िया.

    ReplyDelete
  51. बाल मन को पढ़ लेना और उसे शब्दों में व्यक्त करना , एक माँ ही कर सकती है . इस कविता के माध्यम से आपने बाल प्रश्नों को सजीव कर दिया है . उम्दा रचना .

    ReplyDelete
  52. बच्चों के मन की शंकाओं को बड़ी संवेदनशीलता के साथ आपने शब्द दिए हैं ! बहुत ही मनभावन रचना ! सारे दिन यही वार्तालाप अपने आसपास सुनने की आदत हो गयी है ! शायद हर घर की यही कहानी है ! बहुत बढ़िया रचना ! होली की शुभकामनाओं के साथ बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  53. बच्चे की भावनाओं को बड़े भी समझते हैं मगर करें क्या !

    ReplyDelete
  54. Bachi ki man ki baat ko kagaz par utarne ka safal prayas aap ne kiya monika ji.... bahut sundar...Chaitany Bada hi bhagayshali bacha hai jisko aap jaisi Har bhav ko samjhane wali Ma Mili...

    ReplyDelete
  55. मां कहती है इधर ना आओ
    दादी कहती उधर ना जाओ
    इतनी सारी हैं पाबंदी
    क्या मैं हूं इस घर का बंदी

    बाल सुलभ मन की भावनाओं को उसी लहजे में अभिव्यक्त करना........अद्भुत|

    ReplyDelete
  56. बालमन की भावनाओं को बड़े सुन्दर शब्दों में संवारा है आपने...

    हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  57. बालपन का छिनना बच्चों के लिए तो घातक है ही,बड़ों के लगातार असंवेदनशील होते जाने की जड़ भी है। बच्चों की मौलिकता बचे,तभी हमारा होना सार्थक!

    ReplyDelete
  58. bachho ke man kee behad bheetari diwar ke khusnuma rango kee khoobsoorat peshkash

    ReplyDelete
  59. मोनिकाजी् किस युग की बात कर रही है? मैं अभी अपनी नातिक के साथ हूं, बस केवल उसकी ही मर्जी चलती है। हम कह रहे हैं कि हम क्‍या करें?

    ReplyDelete
  60. jane anjane ham kitne sare prtiband lagate hai bachonke komal man par,
    monika ji bahut sunder rachna hai...

    ReplyDelete
  61. अरे वाह !
    बच्चों की अपनी दुनिया है,अपनी बालसुलभ सोच है ,अपनी ढेर सारे कामों की व्यस्तता है मगर हम बड़े उन्हें समझने का प्रयास ही कहाँ करते हैं |
    बहुत ही प्यारी कविता

    ReplyDelete
  62. कितना सही बालमन चित्रण किया है आपने, मन हर्षित हो उठा.

    ReplyDelete
  63. @ अजित गुप्ता जी...... चलिए अच्छा है.... यानि उसने तो पार पा ली.... अब आप लोगों को सोचिये क्या करना है.... :)

    ReplyDelete
  64. बाल भावनाओं को बहुत ही सुन्दर तरीके से पेश किया है आपने. आभार

    मैडम जी ! चैतन्य को मेरी तरफ से आशीर्वाद जरुर देना.

    होली के पावन पर्व की अग्रिम शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  65. सभी प्रश्न एकदम सटीक और सही हैं । अकसर हम बडे भूल जाते हैं कि हम भी कभी बच्चे थे ।अच्छी
    अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  66. आपने इस सुन्दर कविता में बाल-मन को
    बहुत शिद्दत से महसूस किया है
    बच्चों की कविता के रूप में यह उत्कृष्ट रचना है


    आखिर ये बड़ों की दादागीरी कब ख़त्म होगी :)

    ReplyDelete
  67. यह सवाल भी अनोखे है और इन्हें बहुत ही सुन्दर रूप में पिरोया है|पर शायद इन शिकायतों के साथ का जीवन इनके बगैर के जीवन से काफी अच्छा है|

    काश जीवन में यह सवाल फिर आ जाये और इनके जवाब फिर खो जाये|

    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  68. ओह यह कोमल मासूम बाल कविता मन को बेंध गयी....

    जितनी सुन्दर मनमोहक यह कविता है उतनी ही गंभीर इसके द्वारा उठाये प्रश्न भी हैं...

    गंभीरता से सोचना चाहिए इसपर....

    आपका बहुत बहुत आभार इस अद्वीतीय रचना के लिए...

    ReplyDelete
  69. बच्चों की भावना को उम्दा चित्रित किया है.

    ReplyDelete
  70. मोनिका जी
    बाल मन में गहरे उतर कर एक बेहतरीन बाल कविता लिखी है आपने. सारी बाल सुलभ महत्वाकंछायें, शिकायतें उकेर दी है आपने .एक सवाल भी उठाती है रचना , होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  71. बाल मन के द्वंदों का खूबसूरत चित्रण किया है आपने.
    काश हम बच्चों से ही सीख पाते.
    सलाम.

    ReplyDelete
  72. Monika Ji...bahut hi acchi prastutu hai Bal Manas ke dwand ki...ham bhi shayad bachpan mein isi tarah rahe honge...par jaise kaise samay beet ta hai ,bachpan jawani ki dahleez laangh jab paripakwa hone lagta hai, tab shayad wahi bachpan ka bandhan yad aata hai...aadmi us jakaran ko paane ke liye taras jaat hai...yahi niyati hai...
    Bahut accha likhti hain aap...likhti rahiye aur samvaad bhi karti rahein agar fursat ho.

    ReplyDelete
  73. इसी व्यवस्था में सुधार की जरूरत है मोनिका जी। आपने सटीक बात कही है। लोग समझे ंतब तो...मतलब इडीयट बनने दो भाई बच्चों को....

    ReplyDelete
  74. आदरणीया मोनिका शर्मा जी
    बाल मन को बहुत गहराई से महसूस किया है
    .........शानदार कविता है।

    ReplyDelete
  75. बाल मन के भावों का बहुत सूक्ष्म निरीक्षण.बेहतरीन भावाभिव्यक्ति,आभार.
    कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  76. baal man ka bahut sajeev chitran...

    ReplyDelete
  77. मोनिका जी, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति. बाल मन को अच्छी तरह से उजागर किया है आपने.

    ReplyDelete
  78. आपकी टिपण्णी और उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  79. sab bhool jaate hain ki vo bhi kabhi bachche the..bachchon ko itni shikhsha dete hain aur itna control karte hain . Achcha ye War, Corruption, terrorism, crime etc. kaun karta hai ? Bachche ? No. adults do it! fir control main kise rakhna hoga ? Adults ko !
    bahut achchi rachna !!

    ReplyDelete
  80. वाह बेहतरीन....बाल मन की पीड़ा को बड़े बेहतरीन शब्दों में प्रस्तुत किया है आपने !!
    बधाई एवं आभार !!

    ReplyDelete
  81. सुंदर कविता
    आपका आभार
    आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाये
    ब्लॉग पर अनियमितता होने के कारण आप से माफ़ी चाहता हूँ

    ReplyDelete
  82. सुंदर कविता
    आपका आभार
    आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाये
    ब्लॉग पर अनियमितता होने के कारण आप से माफ़ी चाहता हूँ

    ReplyDelete
  83. balak man ki sahi vyakya ki hai apne

    ReplyDelete
  84. मां कहती है इधर ना आओ
    दादी कहती उधर ना जाओ
    इतनी सारी हैं पाबंदी
    क्या मैं हूं इस घर का बंदी
    कोई राह सुझाओ तो........ कैसे जिऊं, कैसे जिऊं.

    सुन्दर / सार्थक बाल कविता.

    ReplyDelete
  85. मोनिका शर्मा जी
    बालक के मन के भावों को बहुत सुन्दर या कहूँ की उन्ही के शब्दों में अभिव्यक्त किया है .... बेटे अंतरिक्ष हमारे मम्मी पापा भी यही करते थे अब हम भी वही करते हैं फिर दादी बनेंगे तो दादी जैसा करेंगे और तुम अपने पापा जैसा.. हा हा हा
    होली की शुभकामनायें........

    ReplyDelete
  86. एक बालक के अंतर्मन की भावपूर्ण एवं सटीक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  87. कार्टून का चैनल छोङो
    कोई चीज ना जोङो-तोङो
    मेरी घर में एक ना चलती
    बिना कसूर के डांट है मिलती....

    अरे...अरे...यह तो ज़्यादती है...

    ReplyDelete
  88. रचना बेहद अच्छी है। रचना ने दिल की गहराइयों में उतरकर पुराने दिनों की यादें ताजा कर दी । आज मेरे भी बचपन के दिन याद आ गये।

    ReplyDelete
  89. हा हा हा..बालक मन के सटीक प्रश्न उजागर किये हैं मोनिका जी..

    ReplyDelete
  90. Aap bahut achcha likhati hai.

    ReplyDelete
  91. kanha main chahakun kanha main gaaun...baal kavita padhkar maja aa gaya,bachcho ki mansik bhraantiyon ko bhali bhanti ujagar ki hai.aapki aur bhi rachnayen padhna chahungi.

    ReplyDelete
  92. डॉ मोनिका जी बहुत सुन्दर रचना काश बच्चों के मन को सब समझें और अपना सारा प्यार उड़ेल दें उन पर -उन्हें हर पल ख़ुशी रखें -प्यारा चैतन्य तो वैसे ही इतना प्यारा है की सब खुश मौसम भी खुशगवार हो जाता है -ढेर सारी शुभ कामनाएं इसके भविष्य के लिए .

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भरमार

    बाल झरोखा

    ReplyDelete
  93. shona!
    lagta hai ab toka taki mahsoos karne lage ho...
    bahut pyara geet!

    ReplyDelete