My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

21 March 2015

नवजीवन का सन्देश नवसंवत्सर



नवजीवन का ले संदेश

प्रकृति ने भी बदला वेश

नवउत्कर्ष, नवउल्लास छाया

नवसंवत्सर, नववर्ष आया
 मेरे पास शब्द नहीं हैं हमारी भारतीय संस्कृति का गौरवगान करने के लिए जिसमें नववर्ष का स्वागत स्वयं प्रकृति नया रूप धरकर करती है। पूरी सृष्टि उत्सव मनाती   नज़र आती है। नया साल जिसे जानने के लिए कोई कलेंडर नहीं चाहिए। धरती मां स्वयं नवसृजन, नवश्रंगार किए पल्लवित-पुष्पित होते पेड़ - पौधों से सुसज्जित हो जाती है। वायु में नयी सुवास और मादकता फैल जाती है और पत्ता-पत्ता यह सन्देश देता है कि नववर्ष आ गया है ...नव उल्लास छा गया है.......!


आप सभी को नवसंवत्सर की हार्दिक मंगलकामनाएं ...... 
                                                                                        चित्र - चैतन्य शर्मा 

25 comments:

  1. बहुत सुंदर.नवसंवत्सर की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  3. अनुपम शब्दों से नव वर्ष के आगमन का स्वागत किया है आपने ...
    सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  4. भारतीय नववर्ष एवं नवरात्रों की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (23-03-2015) को "नवजीवन का सन्देश नवसंवत्सर" (चर्चा - 1926) पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं। वाकई पत्‍ता-पत्‍ता बूटा-बूटा.............क्‍या खुलकर खिला हुआ है। इस शोभा का वर्णन कठिन है।

    ReplyDelete
  6. आपको भी नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. आप सभी को नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर...आपको भी नव संवत्सर और वासन्तिक नवरात्र की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  9. आपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं!
    ये सुन्दर चित्र चैतन्य ने क्लिक की है. देखते ही देखते कितना बड़ा हो गया :)

    ReplyDelete
  10. प्यारी सी कोंपल में छुपे कोमल कोमल शब्दों
    के साथ आपके मधुर मनोभाव मन को छू गए :)
    बस प्रार्थना कीजिये , माँ प्रकृति:
    " नव नभ के इस विहग वृंद को , नव पर नव स्वर दे.… "
    - अमीन

    ReplyDelete
  11. प्यारी सी कोंपल में छुपे कोमल कोमल शब्दों
    के साथ आपके मधुर मनोभाव मन को छू गए :)
    बस प्रार्थना कीजिये , माँ प्रकृति:
    " नव नभ के इस विहग वृंद को , नव पर नव स्वर दे.… "
    - अमीन

    ReplyDelete
  12. नव पल्लवों की भांति सुन्दर शब्दों का उपहार है नववर्ष में l शुभकामनाएं चिरंजीवी चैतन्य को !
    साईं क्या है ?

    ReplyDelete
  13. मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  14. नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  15. शुभकामनाये स्वीकार कीजिए।

    ReplyDelete
  16. असीम शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  17. प्रकृति श्रृंगारित
    कुसुमित
    अमित आनंदित

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर चित्र और सटीक शब्द संयोजन
    नव वर्ष की मंगलकामनाएं आप दोनों को :)

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर ..
    प्रकृति भी जिसका श्रृंगार करती है वही वास्तविक रूप से नया वर्ष है और वह है हमारा हिन्दू नववर्ष ..
    आपको बहुत बहुत हार्दिक मंगलकामनाएं!

    ReplyDelete
  20. सुन्दर बिम्ब लिए सशक्त भाव

    ReplyDelete
  21. आपको भी नवसंवत्सर की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. आपको भी नये संवत्सर की शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete
  23. नूतन वर्ष आगमन् को सशक्त शब्दों में पिरोकर सुन्दर अभिव्तक्ति प्रस्तुत करने के लिऐ धन्यवाद ....!!

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर विम्ब ..आनंद दाई
    आप सब को भी नव संवत्सर की हार्दिक शुभ कामनाएं
    जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete