My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

02 June 2012

तुम्हारे आ जाने से...चैतन्य

चैतन्य


चैतन्य
तुम्हारा आना
जीवन में नई चेतना
ले आया है
उग आये हैं कुछ
नए विचार
मेरे ह्रदय के आँगन में
और 
मैं गर्वित हूँ
कि संवेदनशीलता से
फूटती ये वैचारिक कोंपलें
अपनी जड़ें जमा रही हैं 

        मनुष्यता की सीढियाँ 
 चढ़ते हुए
प्रकृति के समीप
ले आया है मुझे 
तुम्हारा  साथ
लौट आयीं हैं मेरे
जीवन में तितलियाँ
और भवरों की गुंजन
फिर चला आया है
इन्द्रधनुष देखने का हठ
 दृढ़ता पा गया है
अपनी हर बात साधिकार
कहने का आत्मविश्वास 
 फिर समेट लिए हैं मैंने
माटी के रंग
अपने आँचल में
 जो स्नेह और ममत्व के
अनगिनत प्रतिमान
गढ़ते हुए
मुझे सही अर्थों में
मानवी बना रहे हैं

तुम्हारे आ जाने से
  माँ हो जाने से
चैतन्य
मुझे संसार के
हर बच्चे से
प्रेम हो गया है

87 comments:

  1. लौट आयीं हैं मेरे
    जीवन में तितलियाँ
    और भवरों की गुंजन
    फिर चला आया है
    इन्द्रधनुष देखने का हठ
    वाह!
    बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  2. वाकई मातृत्व और वात्सल्य का सुख तो धरा पर स्वर्ग-सी अनुभूति है.. चैतन्य को मेरी तरफ से भी आशीष एवं शुभकामनाएं :)

    ReplyDelete
  3. अंतर्राष्ट्रीय बालदिवस के उपलक्ष्य मे 'चैतन्य' पर लिखी प्रेरणादाई कविता अच्छी है। चैतन्य को शुभकामनायें एवं आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  4. अद्भुत अभिव्यक्ति, बालपन का चैतन्य प्रतीक..

    ReplyDelete
  5. तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है - सहज स्वाभाविक एहसास

    ReplyDelete
  6. माँ होने की पुलक को मूर्त करती रचना .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    शनिवार, 2 जून 2012
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .
    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. वात्सल्य रस जीवन को मायने देता है . चैतन्य को शुभाशीष .

    ReplyDelete
  8. लौट आयीं हैं मेरे
    जीवन में तितलियाँ
    और भवरों की गुंजन
    फिर चला आया है
    इन्द्रधनुष देखने का हठ
    अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने ...

    ReplyDelete
  9. बेहद उम्दा भाव ... प्रणाम !

    ReplyDelete
  10. सहज सुखद अहसास, भावपूर्ण चिंतन

    ReplyDelete
  11. दिल को छुते भाव ..........चैतन्य को आशीष ......बहुत आगे बढ़े........

    ReplyDelete
  12. ममत्व का अद्भुत अहसास...बहुत सुन्दर... चैतन्य को मेरी शुभकामनायें एवं आशीर्वाद......

    ReplyDelete
  13. अपने आँचल में
    जो स्नेह और ममत्व के
    अनगिनत प्रतिमान
    गढ़ते हुए
    मुझे सही अर्थों में
    मानवी बना रहे हैं

    यही माँ का ममत्व है

    RECENT POST .... काव्यान्जलि ...: अकेलापन,,,,,

    ReplyDelete
  14. ममत्व का अद्भुत अहसास...बहुत सुन्दर... चैतन्य को मेरी शुभकामनायें एवं आशीर्वाद......

    ReplyDelete
  15. वाह...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  17. तुम्हारा आना
    जीवन में नई चेतना
    ले आया है
    उग आये हैं कुछ
    नए विचार
    मेरे ह्रदय के आँगन में
    और
    मैं गर्वित हूँ!!

    माँ के लिए इससे बेहतर कुछ भी नहीं....!!

    ReplyDelete
  18. ख़ूब,
    बच्चे हमको और परिपक्व करते जाते हैं, माता-पिता को, होना सीखा देते हैं.

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन भाव

    सादर

    ReplyDelete
  20. कल 03/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. चैतन्य के बहाने बचपन को फिर से जी लो,
    चंदा मामा से मिलकर ,एक खिलौना ले लो !!

    ReplyDelete
  22. सचमुच मातृत्व पूर्णता का अहसास है.... चैतन्य को ढेर सारा स्नेह और आशीष...

    ReplyDelete
  23. बहूत हि सुंदर लिखा है
    बहूत हि सुंदर ममता के रंग में रंगी बेहतरीन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  24. प्रभाव में आ गया हूँ |

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत एहसास ....मातृत्व के रंग में रंगी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  26. सच कहा ..माँ बनाना अपने आप में गौरव् हैं ..एक नए जीवन का उदय ...नई परिभाषा का आगमन ...

    ReplyDelete
  27. तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है

    कितनी सुन्दर बात कही है...
    चैतन्य को ढेरों आशीर्वाद

    ReplyDelete
  28. Kitni komal bhavnayen hain is rachana me!

    ReplyDelete
  29. माँ हो जाना नारी की सम्पूर्णता है कायनात का मार्च पास्ट है . यकीन है यह सृष्टि यूं ही चलती रहेगी ,टेस्ट ट्यूब नहीं बनेगी माँ की कोख ,न धाय माँ ,सिर्फ माँ ,माम और माँ....
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    साधन भी प्रस्तुत कर रहा है बाज़ार जीरो साइज़ हो जाने के .
    गत साठ सालों में छ: इंच बढ़ गया है महिलाओं का कटि प्रदेश (waistline),कमर का घेरा
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    लीवर डेमेज की वजह बन रही है पैरासीटामोल (acetaminophen)की ओवर डोज़
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    इस साधारण से उपाय को अपनाइए मोटापा घटाइए

    ReplyDelete
  30. sahaj bhaav mamyaa ke ...
    bahut sundar..

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर! बच्चे वाकई ईश्वर की सुन्दरतम कृति हैं!

    ReplyDelete
  32. बच्चे माँ के जीवन को पूर्णता देते हैं !
    कोमल सुखद एहसास !

    ReplyDelete
  33. मातृत्व पूर्णता का अहसास दिलाती है !
    प्यारी रचना ....चैतन्य को बहुत सारा स्नेह !

    ReplyDelete
  34. इस पर कोई टिप्पणी भी छोटी और हलकी होगी | माँ-बेटे के प्यार को कब कौन अभिव्यक्त कर पाया है |

    लाजवाब रचना |

    ReplyDelete
  35. सबल हुआ मातृत्व -चैतन्य को स्नेहाशीष!

    ReplyDelete
  36. माँ तो माँ ही होती है।

    ReplyDelete
  37. लौट आयीं हैं मेरे
    जीवन में तितलियाँ
    और भवरों की गुंजन
    फिर चला आया है
    इन्द्रधनुष देखने का हठ

    bahut pyari rachna Monika ji... khas taur par yah panktiyan to bas adbhut hi hain...

    sadar
    manju

    ReplyDelete
  38. चैतन्य का कोना से यह मातृत्व भरा प्यार संसार में जीने की शुरुवात है ! नए पुष्प हमेशा ही नए संचार करते है ! पुष्प और सुगंध सदैव बना रहे ! बहुत ही आशावान कविता ! आप को बधाई और चैतन्य को आशीर्वाद !

    ReplyDelete
  39. "माँ" हो जाने से
    चैतन्य............
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है...
    सुन्दर पंक्तियाँ.....
    सादर

    ReplyDelete
  40. बच्चे जीवन में जीने की लालसा जगा देते हैं ... खुशियों का रंग भर देते हैं ...
    बहुत ही सुन्दर रक हना है प्रेम से सरोबर ..

    ReplyDelete
  41. माटी के रंग
    अपने आँचल में
    जो स्नेह और ममत्व के
    अनगिनत प्रतिमान
    गढ़ते हुए
    मुझे सही अर्थों में
    मानवी बना रहे हैं

    तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य

    bahut sundar...

    ReplyDelete
  42. सौफी सदी सच्ची बात माँ हो जाने के बाद वाकई हर बच्चे से प्रेम हो जाता है।

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर ममतामयी प्रस्तुति. माँ होने का सुख एक माँ ही समझ सकती है .

    ReplyDelete
  44. तितलियाँ कहीं न जाएँ, यूँ ही तन मन को महकाएं...

    सुन्दर भाव भरी रचना....

    ReplyDelete
  45. लौट आयीं हैं मेरे
    जीवन में तितलियाँ
    और भवरों की गुंजन
    फिर चला आया है
    इन्द्रधनुष देखने का हठ

    एक शिशु की मां होने के बाद मां के मन-हृदय में होने वाले कोमल परिवर्तन को आपने बहुत अच्छी तरह संजोया है।

    ReplyDelete
  46. तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है .....
    ...बस यही है माँ की परिभाषा ...

    ReplyDelete
  47. तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है .....
    ...बस यही है माँ की परिभाषा ...

    ReplyDelete
  48. ये जो बच्चा है जीवन में
    बचाए रखना,कि जीवन रहे!

    ReplyDelete
  49. वात्सल्य की अद्भुत अभिव्यक्ति...चैतन्य को स्नेहाशीष !!!

    ReplyDelete
  50. मां की ममता और बच्चों के साथ ज़िन्दगी के कुछ हसीन लमहों को समेटने की चाहत या यूं कहें कि फिर से उसे जीने की तमन्ना इस कविता को एक अलग ऊंचाई पर ला खड़ा करता है।

    ReplyDelete
  51. वाह...मन प्रसन्न हो गया आपकी प्रस्तुति देखकर...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  52. वाह...सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  53. लोरी रोज सुनाने लगती
    ममता भी तुतलाने लगती

    सुंदर भाव.

    ReplyDelete
  54. मातृत्व की अनुभूति.....


    चैतन्य को प्यार....

    ReplyDelete
  55. बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  56. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  57. मातृ प्रेम की अद्भुत अभिव्यक्ति...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  58. मातृत्व की गहन अनुभूति को अभिव्यक्त करती रचना. मां की ममतामयी छाँव को प्रणाम.

    ReplyDelete
  59. अपने आँचल में
    जो स्नेह और ममत्व के
    अनगिनत प्रतिमान
    गढ़ते हुए
    मुझे सही अर्थों में
    मानवी बना रहे हैं

    वाह, भावभीनी ममत्वपूर्ण रचना ।

    ReplyDelete
  60. ममता की सहज अभिव्यक्ति साकार

    ReplyDelete
  61. यह दिन सहेज लीजियेगा ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  62. इसलिए तो माँ सार्वभौमिक हो जाती है...सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  63. एक तो इतना सुन्दर और प्यारा बच्चा है आपका....उस पर कितना सुन्दर उसका नाम चैतन्य.....इश्वर करे चैतन्य हमेशा यूँ ही फलता और फूलता रहे और आपको भी महकाता रहे.....आमीन ।

    ReplyDelete
  64. sach me pyara sa khubsurat chaitanya aur uske liye shabd.. sab kuchh behtareen:)

    ReplyDelete
  65. आपका भी मेरे ब्लॉग मेरा मन आने के लिए बहुत आभार
    आपकी बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना...
    आपका मैं फालोवर बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,......
    मेरा एक ब्लॉग है

    http://dineshpareek19.blogspot.in/

    ReplyDelete
  66. स्नेह-नीर से सींच सोचती,पाकर होऊं धन्य
    स्वप्न हुआ साकार अंक में आया जब चैतन्य!

    ReplyDelete
  67. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
    आपको हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  68. बहुत ही सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  69. संतान की प्राप्ति का सुख माँ के लिए अमूल्य होता है. बहुत सुन्दर रचना. चैतन्य को बहुत आशीष. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  70. ek bachche ki kilkaari se saara ghar bhar jaata hai fir usi ke saath apna bachpan bhi lout aata hai.
    bahut hi sateek aur mamatv pura abhivykti
    poonam

    ReplyDelete
  71. बेशक माँ होना नारीपन का शिखर है जहां उसके स्व :का लोप हो जाता है .शेष रह जाती है एक जननी .एक माँ .व्यष्टि का समष्टि में विलय शायद यही है .

    ReplyDelete
  72. माँ होना जीवन की सम्पूर्णता है .कायनात का स्पंदन है . . .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    शनिवार, 9 जून 2012
    स्ट्रेस से असर ग्रस्त होतें हैं नन्नों के नन्ने विकासमान दिमाग

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ReplyDelete
  73. चैतन्यमयी !

    ReplyDelete
  74. तुम्हारे आ जाने से
    माँ हो जाने से
    चैतन्य
    मुझे संसार के
    हर बच्चे से
    प्रेम हो गया है

    मातृत्व और वात्सल्य सुख सर्वोपरि है.
    सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    बधाई.

    ReplyDelete
  75. चैतन्य
    तुम्हारा आना
    जीवन में नई चेतना
    ले आया है

    बहूत सुंदर लिखा है

    ReplyDelete
  76. सुन्दर वात्सल्यमयी प्रस्तुति.
    चैतन्य के आने की आपको अनेकानेक बधाई.
    प्रिय चैतन्य को ढेरों शुभाशीष और शुभकामनाएँ.
    शानदार ममतामयी प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  77. पंछी बन आकाश में उड़ने लगा है मन ,ऊंचाइयों को छूने लगा है ,
    एक तारल्य से संसिक्त रहती हूँ हर पल ,प्रति -पल
    तुम्हारे आने से काया कल्प हुआ है मेरा ,
    नारी रूप पल्लवन भी .
    शुक्रिया ब्लोगिया दस्तक के लिए ......

    ReplyDelete
  78. शुक्रिया आपकी ब्लोगिया दस्तक का ..

    ReplyDelete
  79. चैतन्य को शुभकामनायें एवं आशीर्वाद.

    सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  80. bahut hi sundar kiha hai ane, shubhkamnayein......

    ReplyDelete
  81. bahut hi sundar kiha hai ane, shubhkamnayein......

    ReplyDelete