My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

28 July 2012

एक नन्हा जंगली फूल

नन्हा फूल जो चुन लाया चैतन्य 


बच्चों के मन की संवेदनशीलता और सोच को आँक पाना हम बड़ों के लिए असंभव ही है ।  आमतौर पर बड़े  बच्चों के विषय में सोचते रहते हैं कि  उनके लिए क्या लायें....? उन्हें क्या दिलवाएं...? ये बात और है कि ये  नन्हें- मुन्हें जो करना चाहते हैं उसके लिए शायद हमारे  जितना सोचते नहीं पर हम भी हरदम उनके मन में तो ज़रूर बसते हैं । 

चैतन्य आज एक नन्हा सा जंगली फूल ले आया । उसे लगता है कि उसकी पसंदीदा एक प्यारी सी कार्टून करेक्टर की तरह माँ भी अपने बालों में फूल लगाये । उसको यह सूझा मुझे इस बात ने चौंकाया तो ज़रूर पर ख़ुशी भी बहुत मिली । आज दो क्षणिकाएँ मेरे आँगन के नन्हे फूल की इस सूझबूझ पर :)


एक नन्हा जंगली फूल 
बन गया विशेष 
पाकर उसके हाथों का स्पर्श 
और मेरे हृदय ने मानो
छू लिया अर्श 


चुन लाया वो नन्हा सा उपहार 
मन में लिए कई  विचार 
मानो पूछ रहा हो , माँ 
तुम सजती क्यूँ नहीं ?
बस , मुझे ही संवारती हो हरदम 

73 comments:

  1. बहुत सुंदर ...बच्चों का बचपन याद आ गया .....इसे पढ़ कर ...
    आपके भाव भी बहुत सुंदर ....!!
    शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  2. एक नन्हा जंगली फूल
    बन गया विशेष
    पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श
    sundar post ....

    ReplyDelete
  3. एक नन्हा जंगली फूल
    बन गया विशेष
    पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श


    चुन लाया वो नन्हा सा उपहार
    मन में लिए कई विचार
    मानो पूछ रहा हो , माँ
    तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस , मुझे ही संवारती हो हरदम
    माँ की ममता और शिशु के माँ के प्रति सम्मोहन से संसिक्त बेहद बेश कीमती रचना .कृपया यहाँ भी पधारें -

    कविता :पूडल ही पूडल
    कविता :पूडल ही पूडल
    डॉ .वागीश मेहता ,१२ १८ ,शब्दालोक ,गुडगाँव -१२२ ००१

    जिधर देखिएगा ,है पूडल ही पूडल ,
    इधर भी है पूडल ,उधर भी है पूडल .

    (१)नहीं खेल आसाँ ,बनाया कंप्यूटर ,

    यह सी .डी .में देखो ,नहीं कोई कमतर

    फिर चाहे हो देसी ,या परदेसी पूडल

    यह सोनी का पूडल ,वह गूगल का डूडल .

    ReplyDelete
  4. माँ बेटे के सहज निश्छल प्रेम की उभयपक्षी कोमलतम अभिव्यक्ति!
    हम भी तरंगित हुए -शाश्वत बने यह नेह !

    ReplyDelete
  5. यह तो 'चैतन्य'की आपके प्रति श्रद्धा है जो अच्छी बात है।

    ReplyDelete
  6. कोमल सी अभिव्यक्ति.....
    आप उस फूल को बालों में ज़रूर खोंसे.....यकीनन मिस इंडिया लगेंगी..
    अगर नहीं, तो चैतन्य की नज़र से देखिएगा...
    :-)
    ढेर सारा स्नेह..माँ बेटे को.

    अनु

    ReplyDelete
  7. चुन लाया वो नन्हा सा उपहार
    मन में लिए कई विचार
    मानो पूछ रहा हो, माँ
    तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस,मुझे ही संवारती हो हरदम


    सुन्दर भावपूर्ण रचना अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  8. सच है बच्चों की मन की बात और उनकी अपनो के प्रति निश्छल भावनाएं हम बड़ो की बस की बात नही......बहुत सुन्दर मोनिका जी..

    ReplyDelete
  9. अनुपम स्‍नेह लिए मनभावन प्रस्‍तुति ...

    ReplyDelete
  10. बहुत ही प्यारी दिल को छू लेने वाली कविताएं...
    सचमुच आयु बढ़ने के साथ बहुत कुछ छूटता जाता है जिसमें प्रकृति की सुन्दरता से दूरी भी शामिल है.

    ReplyDelete
  11. चुन लाया वो नन्हा सा उपहार
    मन में लिए कई विचार
    मानो पूछ रहा हो, माँ
    तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस,मुझे ही संवारती हो हरदम ...

    बच्चों का मन बड़ा ही भावुक होता है ...बड़े होने पर वो भावुकता गायब हो जाती है....

    ReplyDelete
  12. प्यारे से बेटे का प्यारा सा तोहफा
    इस पीले फुल और चैतन्य के भाव पर आपने
    जो क्षणिकाएँ बनायीं है वह बहुत ही प्यारी...
    और मनभावन है...
    आप दोनों को शुभकामनाए:-)

    ReplyDelete
  13. एक नन्हा जंगली फूल
    बन गया विशेष
    पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श ... नन्हें हाथों का स्पर्श माँ को क्या से क्या बना देता है

    ReplyDelete
  14. नन्हा सा जंगली फूल .... अनमोल तोहफा .... और आपकी संवेदनशीलता ने बेहतरीन भावों का प्रस्फुटन किया ... दोनों क्षणिकाएं मन के कोमल भावों को उजागर करती हुई ....

    ReplyDelete
  15. ममता v वात्सल्यपूर्ण ह्रदय में उठे भावों को बहुत सहज रूप में प्रस्तुत किया है आपने .चैतन्य को ढेर सारा प्यार .

    ReplyDelete
  16. मोनिका जी , आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए पहले तो क्षमा चाहता हूँ. कुछ ऐसी व्यस्तताएं रहीं के मुझे ब्लॉग जगत से दूर रहना पड़ा...अब इस हर्जाने की भरपाई आपकी सभी पुरानी रचनाएँ पढ़ कर करूँगा....कमेन्ट भले सब पर न कर पाऊं लेकिन पढूंगा जरूर

    एक नन्हा जंगली फूल
    बन गया विशेष
    पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श

    वाह...वात्सल्य भाव में लिपटी सुन्दर रचना...

    नीरज

    ReplyDelete
  17. फूल भी 'जंगली' होते है, ये पहली बार सुना है...

    ReplyDelete
  18. बहुत ही प्यारी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  19. पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श....

    बहुत सुन्दर मोनिका जी

    ReplyDelete
  20. woww...चैतन्य के प्यारे से उपहार पर बड़ी प्यारी कविता..

    ReplyDelete
  21. बहुत ही खुबसूरत कविता और फूल दोनों ही.....चैतन्य को ढेर सारा प्यार :-)

    ReplyDelete
  22. चुन लाया वो नन्हा सा उपहार
    मन में लिए कई विचार
    मानो पूछ रहा हो , माँ
    तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस , मुझे ही संवारती हो हरदम

    सच में अनमोल उपहार ...

    ReplyDelete
  23. jahan nilschalta hai..bahan sab kuch hai..bacchon ke tohfe se kahin badi hai unki bhavna..shayad isiliye jangli phool bhee aapke liye itna anmol ho gaya ..man ko choone wali bachpan kee yaad dilane wali ek shasakt rachna..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  24. chaitnya ke uphar ka hamesha samman kijiye aakhir vah hai bhi to bahut samjhdar.bahut sundar prastuti.

    ReplyDelete
  25. कल 29/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  26. बाल मन के मानसिक कुहासे को आपने कोमल शब्दों में ढाला है ,हाँ बच्चे सब कुछ निहारतें हैं देख के खुश होतें हैं हमारा करीने के पैरहन अकसर एप्रिशिएट भी करतें हैं कहते हुए मम्मी बहुत अच्छी लग रही हो दादू लुकिंग गुड नानू लुकिंग स्मार्ट एंड ब्यूटीफुल .बढ़िया रचना चड्डी पहन के फूल खिला है याद आया ...

    ReplyDelete
  27. एक कोमल मन का ,कोमल मन को ...कोमल तोहफा ....
    शुभकामनयें और आशीर्वाद !

    ReplyDelete
  28. एक कोमल मन का ,कोमल मन को ...कोमल तोहफा ....
    शुभकामनयें और आशीर्वाद !

    ReplyDelete
  29. आपने इस पोस्ट द्वारा ईदगाह कहानी कि याद दिला दी

    ReplyDelete
  30. नाम सार्थक कर दिया चैतन्य ने |

    ReplyDelete
  31. एक नन्हा जंगली फूल
    बन गया विशेष
    पाकर उसके हाथों का स्पर्श
    और मेरे हृदय ने मानो
    छू लिया अर्श,,,,

    वात्सल्य प्रेम का अनमोल उपहार ..

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  32. बच्चा तो जो छू दे वह घरेलू हो जाता है।

    ReplyDelete
  33. दुनिया का सबसे अनमोल उपहार पा लिया आपने... वात्सल्य से भरी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  34. मोनिका जी चैतन्य के साथ उसी फूल को दिखलाती तो हम मान भी लेते ....:))

    ReplyDelete
  35. खुबसूरत एहसास...
    सादर.

    ReplyDelete
  36. बच्चों की सोच नितांत मौलिक और निष्कलुष होती है।
    महत्व की बात यह है कि आपने चैतन्य की सोच को सही अर्थों में समझा।

    ReplyDelete
  37. तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस, मुझे ही संवारती हो हरदम.

    सुंदर भावनाएँ.

    ReplyDelete
  38. जंगली फूल नन्हे हाथों में पहुँच खूबसूरत तोहफा बन जाता है. आपकी रचना मन को छू गई. बेटे को बहुत आशीष!

    ReplyDelete
  39. चैतन्य की संवेदनशीलता मन को छू गई । माँ जो हर दम देती ही रहती है उसके लिये कुछ करने की बच्चे की ललक सराहनीय है ।

    ReplyDelete
  40. बहुत बढिया,
    लग रहा है जैसे सब कल की बात है

    ReplyDelete
  41. सहज निश्छल अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  42. बहुत-बहुत सुंदर ...
    शुभकामनायें!!

    ReplyDelete
  43. सुन्दर और सराहनीय पोस्ट |

    ReplyDelete
  44. खूबसूरत !
    आप भी बहुत ही प्यारा क्षण पकड़ लेती हैं.
    मुझे महादेवी वर्मा की एक कविता "बचपन"
    की याद हो आयी, जिसमे माँ मिट्टी खाकर आयी नन्ही को डांटती है
    तो मिट्टी के स्वाद को सर्वश्रेष्ठ जानते हुए बच्ची मिट्टी सने हाथ माँ की तरफ बढ़ाते हुए कहती है:
    " मित्ती का कल आयी हूँ
    लो तुम बी थोली काओ माँ! "
    वैसे, मुबारकबाद!
    नन्हे की फूल देने की शुरुआत हो गयी है
    भले ही अम्मीजान से हो!!! ;)

    ReplyDelete
  45. बहुत सुंदर!:-)
    ५/६ साल पहले मेरा बेटा भी कुछ ऐसी ही बातें करता था! किसी भी दुकान में सुंदर सी कोई Dress देखकर ज़िद करता था...माँ तुम ये वाली ले लो! मैनें पसंद की है...
    ~ बचपन कितना मासूम होता है... :))

    ReplyDelete
  46. :) sweet lines.. Loved the feel.

    ReplyDelete
  47. बच्चे बहुत अच्छे प्रेक्षक होतें हैं सब देखते और विश्लेषण करतें ,कौन उन्हें कितनी तवज्जो देता है ,किसकी घर में क्या औकात है सब कुछ से वाकिफ रहतें हैं .कुछ बच्चे कुछ न कहें यह और बात है लेकिन वस्तु स्थिति का जायज़ा उनका ठीक होता है दो टूक भी .
    ताज़ा प्रसंग मेरे फिलवक्त के कैंटन (अमरीका )प्रवास से जुड़ा हुआ है .इत्तेफाकन इस बार मेरे प्रवास के दौरान पहली बार अमरीका मेरे समधी साहब भी अपने बेटे के घर आये यहाँ कैंटन .अभी कल ही लौटें हैं ठीक चार सप्ताह बिताने के बाद लौट गए .मेरी उम्र ६५ और उनकी ६० वर्ष है .मेरी बेटी दामाद जब भी काम पर निकलते दोनों बच्चों (एक बेटा सात +और दूसरा ५+की देखभाल मैं ही करता उनको खाने पीने की चीज़ें वक्त पर देता समधी साहब को उनका मनमाफिक ब्रेकफास्ट तैयार करके देता कभी ओट्स मील कभी ओम्लेट आदि .एक दिन बड़ा बेटा अकस्मात बोला -दादू ,नानू आपसे पांच साल बड़े हैं लेकिन सारा काम वह करतें हैं आप बैठे बैठे सारा दिन टी वी देखतें हैं .दिस इज नाट फेयर .
    जहां तक वेशभूषा का सवाल है वह तो बच्चे खासतौर पर नोटिस में लेते हैं .किसको किस चीज़ की ज्यादा जानकारी है यह भी बाखूबी समझते हैं .मम्मी को कौन सी चीज़ ज्यादा फब्ती है यह तो उन्हें बहुत सही पता है .
    आज अचनाक बड़ा वाला बोला मम्मी नानू को आपसे ज्यादा हिंदी आती है .

    ReplyDelete
  48. बच्चे बहुत अच्छे प्रेक्षक होतें हैं सब देखते और विश्लेषण करतें ,कौन उन्हें कितनी तवज्जो देता है ,किसकी घर में क्या औकात है सब कुछ से वाकिफ रहतें हैं .कुछ बच्चे कुछ न कहें यह और बात है लेकिन वस्तु स्थिति का जायज़ा उनका ठीक होता है दो टूक भी .
    ताज़ा प्रसंग मेरे फिलवक्त के कैंटन (अमरीका )प्रवास से जुड़ा हुआ है .इत्तेफाकन इस बार मेरे प्रवास के दौरान पहली बार अमरीका मेरे समधी साहब भी अपने बेटे के घर आये यहाँ कैंटन .अभी कल ही लौटें हैं ठीक चार सप्ताह बिताने के बाद लौट गए .मेरी उम्र ६५ और उनकी ६० वर्ष है .मेरी बेटी दामाद जब भी काम पर निकलते दोनों बच्चों (एक बेटा सात +और दूसरा ५+की देखभाल मैं ही करता उनको खाने पीने की चीज़ें वक्त पर देता समधी साहब को उनका मनमाफिक ब्रेकफास्ट तैयार करके देता कभी ओट्स मील कभी ओम्लेट आदि .एक दिन बड़ा बेटा अकस्मात बोला -दादू ,नानू आपसे पांच साल बड़े हैं लेकिन सारा काम वह करतें हैं आप बैठे बैठे सारा दिन टी वी देखतें हैं .दिस इज नाट फेयर .
    जहां तक वेशभूषा का सवाल है वह तो बच्चे खासतौर पर नोटिस में लेते हैं .किसको किस चीज़ की ज्यादा जानकारी है यह भी बाखूबी समझते हैं .मम्मी को कौन सी चीज़ ज्यादा फब्ती है यह तो उन्हें बहुत सही पता है .
    आज अचनाक बड़ा वाला बोला मम्मी नानू को आपसे ज्यादा हिंदी आती है .
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    सोमवार, 30 जुलाई 2012
    काईराप्रेक्टिक संक्षिप्त इतिहास और वर्तमान स्वरूप
    काईराप्रेक्टिक संक्षिप्त इतिहास और वर्तमान स्वरूप

    ReplyDelete
  49. यही तो निर्मल प्रेम है | जिसकी गहराई मंपना मुश्किल है
    http://gorakhnathbalaji.blogspot.com/2012/08/blog-post.html

    ReplyDelete
  50. your poem reminded me of some rhymes written by my favourite author, Ruskin Bond.
    very nice sentiments and emotions..
    Liked it very much..

    ReplyDelete
  51. your poem reminded me of some rhymes written by my favourite author, Ruskin Bond, who is a nature loving author.
    very nice sentiments and emotions..
    Liked it very much..

    ReplyDelete
  52. वात्सल्य प्रेम का अनमोल उपहार ..

    रक्षाबँधन की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    RECENT POST ...: रक्षा का बंधन,,,,

    ReplyDelete
  53. उपहार से भी कीमती निहित भावनायें होती हैं. यही साधारण को असाधारण बना देती हैं.सुंदर क्षणिकायें.

    ReplyDelete
  54. उपहार से भी कीमती निहित भावनायें होती हैं. यही साधारण को असाधारण बना देती हैं.सुंदर क्षणिकायें.

    ReplyDelete
  55. वैसे भी यह जुड़ाव जैविक भी है आत्मिक भी आखिर बच्चा माँ की गर्भ नाल से नौ मॉस तक जुदा पोषण पल्लवन प्राप्त करता .जन्मोत्तर स्तन पान ही उसका प्राथमिक आहार होता है .माँ सजती संवरती है तो वह खुश होता है उसका बस चले तो वह भी मेक अप मेन बन जाए वह भी माँ को सजाये संवारे .बच्चे का यह फूल लाना माँ को देना इसी कोमल भावना का प्रतीक है .

    ReplyDelete
  56. कभी कभी बच्चे अचानक ऐसा कर देते हैं की सोचने की दिशा बदल देते हैं ...
    नके एक भाव को शब्दों में उतारा है आपने बाखूबी ...

    ReplyDelete
  57. आंटी चैतन्य का ब्लॉग पढते-पढते यहाँ पहुँच गई... सचमुच बहुत ही प्यारा सा गिफ़्ट था चैतन्य का और आपकी ये प्यारी सी कविता भी उतना ही प्यारा गिफ़्ट है चैतन्य के लिए...

    ReplyDelete
  58. .


    मोनिका जी ,
    बहुत मासूम-सी हैं आपकी दोनों क्षणिकाएं …
    बहुत सुंदर !

    सृजन के पुष्प खिलने के लिए कहां से बीज , कहां से हवा-पानी की व्यवस्था होगी … यह तय नहीं होता …

    चैतन्य को बहुत बहुत आशीर्वाद के साथ सुंदर क्षणिकाओं के लिए मम्मी का प्रेरणा-स्रोत बनने के लिए धन्यवाद भी कहें … :)

    आपकी सुंदर बगिया सदैव फलती-फूलती-मुस्कुराती रहे …हृदय से शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  59. kukurmutta hamare goun ka jangali pusp hai,pani na hone par isi se kaam chalate hai.
    khotej.blogspot.com

    ReplyDelete
  60. मां को बच्चा
    बच्चे को मां
    दें प्यार फिर
    कुछ चाहिए कहां!

    ReplyDelete
  61. मानो पूछ रहा हो , माँ
    तुम सजती क्यूँ नहीं ?
    बस , मुझे ही संवारती हो हरदम

    प्यारे भाव और खूबसूरत अहसास ये माँ बेटे का प्यार सदा सदा के लिए जगमगाता रहे ..माँ को बच्चे के आगे अपनी फ़िक्र कहाँ ....जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  62. शुक्रिया !आपकी टिपण्णी के लिए काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली पर एक पूरी श्रृंखला दी जा रही है कृपया पधारें -
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बृहस्पतिवार, 9 अगस्त 2012
    औरतों के लिए भी है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली
    औरतों के लिए भी है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली

    ReplyDelete
  63. इसे अच्छा और प्यार तोहफा एक माँ के लिए ओर कोई हो ही नहीं सकता संभाल कर रखिएगा उस फूल को जब वो बड़ा हो जाये तब दिखाइएगा उसे,उस वक्त उस अनमोल क्षण का महत्व ही कुछ और होगा... :)

    ReplyDelete