My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

03 November 2012

स्टेटस अपडेट्स के दौर में पारिवारिक संवादहीनता

तकनीक ने जीवन को जितना सरल किया है उतना ही उलझाया भी है। यंत्रवत हो चले  जीवन से संवेदनाएं कुछ यूं गुम हुई हैं कि हम अपने मन की कहने और अपनों के मन की सुनने के बजाय मात्र एक आभासी उपस्थिति दर्ज करवाने के आदी हो रहे हैं। आपाधपी भरे आज के जीवन में यूँ  तो सभी की दिनचर्या व्यस्त है ही ।  अपने रोजमर्रा के क्रियाकलापों के अलावा मिलने वाले समय में भी अगर घर-परिवार के लोगों में संवादहीनता की स्थिति आ जाये तो संबंधों में साथ रहते हुए भी दूरियाँ अपनी जगह बना ही लेती हैं। 

परस्पर संवाद की कमी और एकाकीपन की इस जीवनशैली को बढावा देने में अपनों को छोड़ सारे संसार के साथ बना आभासी संबंध काफी हद तक जिम्मेदार है। जिसके चलते हम सबने अपने वास्तविक परिवेश को छोड़  एक अलग ही दुनिया बसा ली है । जिसके कुछ परिणाम तो हम सबके समक्ष  हैं और कई सारे आने वाले समय में हम सबके सामने होंगें ।  समय के साथ बदलते हुए तकनीक को अपनाना, उसे जीवन में स्थान देना अनुचित नहीं है । लेकिन उपकरणों के मायावी संसार में हमारा अपना मन-मष्तिष्क ही एक उपकरण बन कर रह जाये, यह तो निश्चित रूप विचारणीय है । हमारी इस तकनीकी जीवनशैली ने सबसे ज्यादा पारिवारिक संवाद पर प्रहार किया है । हम मानें या ना मानें आपसी रिश्तों में एक अघोषित अलगाव की स्थिति बन गई है। 

जिस तरह ईंट पत्थर से बना मकान तब तक घर नहीं बनता जब तक उसमें बसने वालों की भावनाएं और संवेदनाएं वहां अपना डेरा नहीं जमातीं । ठीक उसी  तरह आपसी संवाद के बिना रिश्ते भी नाम भर को रह जाते है । जिनमें  ऊपर से सब ठीक  ही दिखता  है पर भीतर बहुत कुछ अनमना सा, बेठीक सा होता है । आज की तथाकथित आभासी जीवनशैली इसी असमंजस और अलगाव को दिनोंदिन और पोषित  कर रही है । तकनीकी संवाद ने परिवार और समाज की सामूहिकता को विखंडित कर हमें संवेदनहीन सा बना दिया है । 

आभासी संसार का बढ़ता समुदाय हमें लोगों से जोड़ रहा है या अपनों  से तोड़ रहा है यह समझने का समय किसी के पास नहीं। आस-पड़ौस और रिश्तेदारी का दायरा तो अब पूरी तरह सिमट गया है । जिस तरह हम इस आभासी संसार में खो रहे हैं लगता है कि जल्दी ही विकसित देशों की तरह हमारे  यहाँ भी घर के लोगों का आपसी संवाद स्क्रीन की दीवार पर लिखे शब्दों के माध्यम से हुआ करेगा। आगामी पीढियां सामाजिक -पारिवारिक संबंधों के प्रत्यक्ष संवाद  से तो अपरिचित ही रहेंगीं । यूँ भी अब हमें प्रत्यक्ष संवाद सुहाता ही कहाँ है ? आभासी संसार वाले कुनबे के सदस्यों की तरह बात हो तो सिर्फ खूबियों की हो । अपनी खामियों के विषय में सुनने और  समझने का धैर्य तो हम कब का  खो चुके हैं ।

आज  के दौर में हमारे पास एक दूसरे  को जानने -समझने के जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं। यकीन मानिये अब तो हम सब स्वयं को भी पहले से कम ही पहचानते हैं ।

81 comments:

  1. अपने समय से संवाद करता एक महत्वपूर्ण (परिपूर्ण आलेख ).समस्या को रेखांकित करता अब न संभले तो देर हो जाएगी .

    ReplyDelete
  2. डॉ .मोनिका !आपने आगे क्या होगा इसे बिलकुल दो टूक देख लिया है चिंता हमें भी है ,आभासी जीवन शैली की बाँझ कोख से अनेक रोग निसृत होने लगें हैं .frozen shoulder ,spinal problem,obsessions

    आम हैं .आखिर में यह अति अवसाद की और ही ले जाएगी .शुरुआत हो चुकी है .एक महत्वपूर्ण सामाजिक समस्या को आपने उठाया है .

    ReplyDelete

  3. हमने मेहमान कक्ष्‍ा में पहले टेलीवि‍ज़न रखा ही नहीं हुआ था. बच्‍चों की वजह से रख दि‍या पर जब भी कोई आता है तो सबसे पहले टी.वी. बंद कि‍या जाता हैं वरना मैंने पाया कि‍ लोग साथ साथ बैठे होने के बाद भी, बात करने के बजाय अनजाने में ही टी.वी. देखने लगते हैं ... सवाल सि‍फ़ै इस बात का है कि‍ हम मीडि‍यम का प्रयोग करें न कि‍ मीडि‍यम हमारा उपयोग करने लग जाए.


    सही लि‍खा है आपने.

    ReplyDelete
  4. Very true,this like being alone and feeling lonely in the crowd! Thanks to latest commxnication technologies!

    ReplyDelete
  5. आपका लेख विचारणीय है ... इस लेख के माध्यम से जाना की इस युग से हम किस तरह एकांकी बनते जा रहे हैं।

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत हैं।
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  6. जिस तरह ईंट पत्थर से बना मकान तब तक घर नहीं बनता जब तक उसमें बसने वालों की भावनाएं और संवेदनाएं वहां अपना डेरा नहीं जमातीं । ठीक उसी तरह आपसी संवाद के बिना रिश्ते भी नाम भर को रह जाते है ।

    आज के समय की विसंगति पर एक सार्थक लेख .....यंत्रवत जीवन ने व्यक्ति की संवेदना पर प्रभाव डाला है और इससे उसका संवाद कहीं ख़त्म हो गया है ....!

    ReplyDelete
  7. तकनीक के भी अच्छे बुरे दोनों पहलू हैं ...कई बार आभासी दुनिया के रिश्ते वास्तविक हो जाते हैं तो कभी वास्तविक भी सिर्फ आभासी रह जाते हैं .. हर रिश्ते की अपनी अहमियत, बस निर्भरता कम रखी जाए !

    ReplyDelete
  8. यंत्रों के साथ रहकर भावनाएं भी यंत्रवत हुई है !
    सार्थक लेख ...

    ReplyDelete
  9. @ आज के दौर में हमारे पास एक दूसरे को जानने -समझने के जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं।
    सहमत! हम सिर्फ़ बढ़ती संख्या के गिनने में व्यस्त हैं।

    ReplyDelete
  10. वाह ! बहुत ही सामयिक और सार्थक पहलू , जीवन शैली के बदलाव का |

    ReplyDelete
  11. उड़ान से पहले जमीन को छोड़ना ही पड़ता है |जमीन पर रहने पर आसमान नहीं मिलता ,आसमान पर रहने पर जमीन दूर हो ही जाती है लेकिन हर परिंदा उड़ान के बाद अपने नीड़ में वापस लौट आता है |अच्छी पोस्ट के लिए आभार |

    ReplyDelete
  12. अर्थपूर्ण लेख ...

    ReplyDelete
  13. संवेदनशीलता की जगह हर जगह दिखावा और संवाद हीनता ने ले लिया है !
    आज अपनों के पास बात करने के लिए विषय ही नहीं बचा है !
    हमें खुद को टटोलना होगा !

    ReplyDelete
  14. विचारणीय आलेख

    ReplyDelete
  15. संवादहीनता को ही मृत्यु शायद कहा जा सकता है क्योकि संवाद की स्थिति बनी रहे तो हम जीवित हैं और संवाद की स्थिति ही समाप्त हो जाये तो शायद मृत्यु ....

    ReplyDelete
  16. बहुत सही कहा है आपने .

    ReplyDelete
  17. आभासी संसार का बढ़ता समुदाय हमें लोगों से जोड़ रहा है या अपनों और अपने आप से तोड़ रहा है यह समझने का समय किसी के पास नहीं। आस-पड़ौस और रिश्तेदारी का दायरा तो अब पूरी तरह सिमट गया है

    सटीक विचार रखे हैं .... विचारणीय बातें ।

    ReplyDelete
  18. इस स्टेटस के चक्रव्यूह में सारे सम्बन्ध मृतप्रायः हो गए

    ReplyDelete
  19. यंत्रवत चलेगा जीवन ..
    तो संवेदनाएं तो गुम होंगी ही ..

    ReplyDelete
  20. सही कह रही हैं मोनिका जी आप ये आभासी संसार हमें आज वास्तविक संसार से तोड़ रहा है कारण ये है कि यहाँ झूठी प्रशंसा है सराहना भी .सराहनीय प्रस्तुति आभार

    ReplyDelete
  21. विचारणीय एवं सार्थक लेख...

    ReplyDelete
  22. aaj rishton me failte faanslo par ek bahut acchha lekh. bahut hi durooh sthiti bani hui hai aur dar hai yeh sthiti aage aur bhi bhyanak parinaam lane wali hai. bahut gambheer aur vichaarneey vishay hai ye..hame is aabhaasi duniya se bahar nikalna hi chaahiye....warna vo din door nahi ki India bhi rishton aur sankriti ke mamle me america ban jayega.

    ReplyDelete
  23. विचारणीय सुन्दर अभिव्यक्ति .... सहमत हूँ ....

    ReplyDelete
  24. वाह बहुत ही बढ़िया बिना किसी लाग लपेट के लिखा गया एक सामयिक संतुलित एवं सार्थक आलेख...

    ReplyDelete
  25. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...
    सार्थकता लिये सशक्‍त प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  26. "आज के दौर में हमारे पास एक दूसरे को जानने -समझने के जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं। यकीन मानिये अब तो हम सब स्वयं को भी पहले से कम ही पहचानते हैं ।"

    सच तो बस यही है....!

    ReplyDelete
  27. बहुत सही लिखा आपने ..

    ReplyDelete
  28. उत्कृष्ट प्रस्तुति रविवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  29. बिल्कुल सही लिखा है. आभासी दुनिया के रिश्ते भी आभासी ही होते हैं.
    यह बात सभी समझते भी हैं , और लिप्त भी रहते हैं, वास्तविक रिश्तों को भूलकर .

    ReplyDelete
  30. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ ,पढ़कर अच्छा लगा लोग आभासी दुनिया में इतने खो गयें हैं की खुद से भी दूर हों जा रहे हैं ....
    जिसके कारण नई नई बीमारियाँ पनपी हैं ,हर बिमारी का कारण मनुष्य की सोच वा रिस्पोंस हैं |

    ReplyDelete
  31. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ ,पढ़कर अच्छा लगा लोग आभासी दुनिया में इतने खो गयें हैं की खुद से भी दूर हों जा रहे हैं ....
    जिसके कारण नई नई बीमारियाँ पनपी हैं ,हर बिमारी का कारण मनुष्य की सोच वा रिस्पोंस हैं |

    ReplyDelete
  32. सही बात है, जैसे-जैसे साधन और तकनीक विकसित हो रही है, परिवार में पारस्परिक संवादहीनता बढ़ती जा रही हैं... सार्थक आलेख के लिए आभार

    ReplyDelete
  33. samy se rubru karati sundar prastuti

    ReplyDelete
  34. कल का सवाल !
    यह अपनापन क्या होता है ???

    ReplyDelete
  35. जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं,,,,,ये सब आभासी दुनिया का रंग है,,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete
  36. सार्थक मुद्दे पर एक बेहद उम्दा आलेख ... बधाइयाँ !


    पृथ्वीराज कपूर - आवाज अलग, अंदाज अलग... - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  37. sahi likha aapne aaj ham bhavnao se dur hote ja rahe hai bhale hi takniki ne duniya ko global village bana diya hai lekin dil ki duriya badhti ja rahi hai

    ReplyDelete
  38. एक बहुत ही महत्वपूर्ण सामाजिक समस्या को आपने उठाया है . .. अर्थपूर्ण और विचारणीय लेख ..

    ReplyDelete
  39. विकास की इस दौड़ में , हम कितना बदल गए हैं ,
    जन्मदिन भी अब तो , फेसबुक पे मनाते हैं सभी |
    बहुत सटीक और सार्थक लिखा है आपने |

    सादर

    ReplyDelete
  40. बहुत ही गहन चिंतन और सटीक बात,
    आपसी दूरियाँ बढती जा रही हैं

    ReplyDelete
  41. शत प्रतिशत पते की बात ...कटु सत्य...yah maatr doosron ke liye hi nahi hai...swayam mai apne me jhaank ke dekh raha hoon...

    ReplyDelete
  42. बिलकुल सही बात लिखी है. यह एक सच है की अगर आभासी और यथार्थ की दुनिया में एक साम्य ना बनाया जाय तो जीवन का मज़ा कम हो जाएगा.

    ReplyDelete
  43. टेक्नोलॉजी से फायदे तो हुए हैं, मगर हमारी दूरियां भी अजीबोगरीब बढ़ गयी हैं अपनों से .. सार्थक आलेख
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  44. स्टेट्स अपडेट्स के दौर में पारिवारिक संवादहीनता


    अपने समय से संवाद करता एक महत्वपूर्ण (परिपूर्ण आलेख ).समस्या को रेखांकित करता अब न संभले तो देर हो जाएगी

    .आलम यह है अब आभासी दुनिया से जुड़े रोगों पर भी चर्चा होने लगी है :

    (1)FROZEN SHOULDER

    (2)OBSESSIVE COMPULSIVE BLOGGING DISORDER .
    (3)DEPRESSION .
    (4)SPINAL PROBLEMS.(5)मोटापा

    ये सब आभासी दुनिया की सौगातें हैं .

    ReplyDelete
  45. आभासी दुनिया के रिश्तों में हमे अपनी कमियों को देखने से बचते रहते है जो शायद हमारे व्यकतित्व का कमजोर पक्ष है .

    ReplyDelete
  46. सार्थक पोस्ट....
    जितने साधन बढ़े है,,,उतने ही हम एक-दुसरे से अलग होते जा रहे है...

    ReplyDelete
  47. अपने रोजमर्रा के क्रियाकलापों के अलावा मिलने वाले समय में भी अगर घर-परिवार के लोगों में संवादहीनता की स्थिति आ जाये तो संबंधों में साथ रहते हुए भी दूरियाँ अपनी जगह बना ही लेती हैं। bilkul sahi .....

    ReplyDelete
  48. सच कहा आपने, भौतिक और आभासी विश्वों के बीच साम्य बिठाना होगा, नहीं तो ऊर्जा बह जायेगी।

    ReplyDelete
  49. बिलकुल मेरे मन की बात कह दी है आपने मोनिका जी!!

    ReplyDelete
  50. सुख-सुविधा के साधनों ने दुख-दुविधा ज्यादा दी है।
    संवादहीनता से रिश्तों की डोर कमजोर होती जा रही है।
    समाधान तलाशना होगा।

    ReplyDelete
  51. मनुष्य यंत्र वशीभूत हो गया है इसका उपचार आवश्यक है।.

    ReplyDelete
  52. जगजीत सिंह की एक ग़ज़ल के बोल याद आ रहे हैं...

    हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी
    फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी...

    ReplyDelete
  53. शायद यही सहज सामान्य है| फोन की घंटी बजाते ही लोग सामने प्रत्यक्ष बैठे व्यक्ति को इग्नोर करके अनायास ही दूरस्थ को तवज्जो दे देते हैं वैसे ही अपने आसपास के अपनेपन को पहचाने बिना दूरियों में नज़दीकी ढूँढने वालों की कमी नहीं है|

    ReplyDelete
  54. सटीक मुद्दे पर एक सार्थक पोस्ट।

    ReplyDelete
  55. भीड़ में वयक्ति के अकेलेपन को सौ वर्ष पहले महसूस किया जाने लगा था. आपने आभासी संसार में अकेले होते व्यक्ति को रेखांकित किया है जो आज का सच है. जहाँ हम पहुँच रहे हैं वहाँ से वापसी संभव प्रतीत नहीं होती. क्या विकास की इस दिशा को नकारात्मक दिशा मान लिया जाए? स्वीकार कर लेने के बाद भी क्या वापसी हो सकती है?
    बहुत बढ़िया आलेख.

    ReplyDelete
  56. एक साथ रह कर भी एक दूसरे से अनजान -बस ऊपरी टीम-टाम !

    ReplyDelete
  57. जन-जन के जीवन से जुड़े मुद्दों को रेखांकित करते हुए आपके आलेख अत्यंत प्रभावशाली होते हैं जो उनके दुष्परिणामों के प्रति आगाह करते हैं साथ ही सचेत रहने की प्रेरणा भी देते हैं - आभार

    ReplyDelete
  58. जन-जन के जीवन से जुड़े मुद्दों को रेखांकित करते हुए आपके आलेख अत्यंत प्रभावशाली होते हैं जो उनके दुष्परिणामों के प्रति आगाह करते हैं साथ ही सचेत रहने की प्रेरणा भी देते हैं - आभार

    ReplyDelete
  59. as always informative and thought provoking post. sochne ki zarurat hai...

    ReplyDelete
  60. bahut hi chinta ka vishay hai...sahmat hun poori tarah

    ReplyDelete
  61. बिलकुल सही बात लिखी आपने

    ReplyDelete
  62. आज के दौर में हमारे पास एक दूसरे को जानने -समझने के जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं। यकीन मानिये अब तो हम सब स्वयं को भी पहले से कम ही पहचानते हैं ।

    ...बहुत सार्थक चिंतन...संवादहीनता अनेक सामाजिक बुराइयों को जन्म दे रही है..

    ReplyDelete
  63. आपकी बातों से हम पूर्णतया सहमत है आज हम ही अपने घर मे देखते है कि घर के सदस्य आकर टी वी देखते है । संवादहीनता हर जगह अपना पैर पसार रही है ।

    ReplyDelete
  64. जरूरी और बहुत ही जरूरी मुद्दे पर बातचीत की है अपने... बहुत से लोगों को देखता हूँ कि वे २४ में से ४८ घंटे ऑनलाइन दीखते हैं... आप किसी भी वक़्त फेसबुक या जीमेल और दूसरी साईट खोलिए वो आपको अंगद की तरह वही जमे मिलेंगे....
    आभासी दुनिया में भी अछे सम्बन्ध बनते हैं इस बात से इनकार नहीं है, लेकिन जो जमा पूंजी पहले से है उसे तो सहेजना ही होगा, उसे भी तो वक़्त चाहिए

    ReplyDelete
  65. Children faces the real danger .They are so much hooked to technology,they just don ,t know what are they being fed .Their focus is Wii games and a sort of

    tecnologies. They don ,t watch the colour and texture of food ,just eat .

    ReplyDelete
  66. Children faces the real danger .They are so much hooked to technology,they just don ,t know what are they being fed .Their focus is Wii games and a sort of

    tecnologies. They don ,t watch the colour and texture of food ,just eat .

    ReplyDelete
  67. बहुत प्रासंगिक लेख। सचमुच छीजते जा रहे संबंधों के पीछे यह माध्यम ही है। हम अब इस आभासी दुनिया के फेर में अपनों से दूर होते जा रहे हैं।

    ReplyDelete
  68. मोनिका जी आपने अपने इस लघु लेख में हक़ीकत बयान की है ऽअज के हर व्यक्ति के जीवन में जो अन्तर्मुखी दृष्टिकोण विकसित हो रहा है , उसका मूल कारण संवादहीनता ही है। आपकी ये पंक्तियाँ बेहद प्रभावित करती हैं-''आज के दौर में हमारे पास एक दूसरे को जानने -समझने के जितने साधन बढे हैं उतने ही हम अजनबी हो गए हैं। यकीन मानिये अब तो हम सब स्वयं को भी पहले से कम ही पहचानते हैं ''।

    ReplyDelete
  69. अफ़सोस,कि जो मशीन मनुष्य की सबसे बड़ी उपलब्धि है था,वही मनुष्यता की सबसे बड़ी बाधा साबित हुआ है।

    ReplyDelete
  70. आज के दौर मे पारिवारिक मेल मिलाप और सच्चा प्यार सिर्फ ख़ानाबदोश लोगों मे ही देखने को मिलता है। भले ही उनका कोई निश्चित ठिकाना नहीं मगर वो उम्रभर साथ तो रहते हैं।

    ReplyDelete
  71. .

    हम मानें या न मानें आपसी रिश्तों में एक अघोषित अलगाव की स्थिति बन गई है।
    सहमत हूं आपसे
    आदरणीया डॉ. मोनिका शर्मा जी !

    टीवी ने कम और नेट/ब्लॉग/फेसबुक के संबंध में आपका लेख अधिक लागू हो रहा है ।

    … विस्मित भी हूं कि इतनी सक्रिय ब्लॉगर होने के नाते आभासी दुनिया से गहरा जुड़ाव रखने के साथ ही इस विषय और इससे उत्पन्न संभाव्य हानियों के बारे में आप न केवल सोचती हैं , बल्कि औरों को सजग भी करने का प्रयास इस लेख द्वारा किया है …

    :)

    उपयोगी पोस्ट के लिए बधाई और आभार !
    दीवाली की अग्रिम शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  72. .

    हम मानें या न मानें आपसी रिश्तों में एक अघोषित अलगाव की स्थिति बन गई है।
    सहमत हूं आपसे
    आदरणीया डॉ. मोनिका शर्मा जी !

    टीवी ने कम और नेट/ब्लॉग/फेसबुक के संबंध में आपका लेख अधिक लागू हो रहा है ।

    … विस्मित भी हूं कि इतनी सक्रिय ब्लॉगर होने के नाते आभासी दुनिया से गहरा जुड़ाव रखने के साथ ही इस विषय और इससे उत्पन्न संभाव्य हानियों के बारे में आप न केवल सोचती हैं , बल्कि औरों को सजग भी करने का प्रयास इस लेख द्वारा किया है …

    :)

    उपयोगी पोस्ट के लिए बधाई और आभार !
    दीवाली की अग्रिम शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  73. मैम !एक दुर्घटना लगातार घट रही है ,आभासी संवाद ही संवाद लगने लगा है .आभासी दुनिया से कटते ही आदमी असंतोष और खीझ से भरने लगा है यहाँ भारत लौटने पर यात्रा बहुलता(बहुलता

    ) से

    अल्पता

    की ओर होती है .यहाँ आकर इंटर नेट भी सरकार की तरह लूला लंगड़ा हो जाता है .इसी अनुपात में खीझ बढती जाती है ,ख़ुशी आभासी दुनिया से जुड़ने लगी है .क्या यह सब ठीक है बहस इस पर

    भी

    हो असली संवाद है क्या ?

    आपकी टिपण्णी हमारे ब्लॉग की शान रहे ,यही हमें अभिमान रहे .आदाब .

    ReplyDelete
  74. आभासी संसार का बढ़ता समुदाय हमें लोगों से जोड़ रहा है या अपनों से तोड़ रहा है .......ये प्रश्न नहीं , उत्तर है मोनिकाजी!. हमें कुछ तो अवश्य करना पड़ेगा.

    ReplyDelete
  75. दीवाली की अनेक शुभ कामनाएँ !

    ReplyDelete
  76. जीवन शैली बदल गई , खत्म हुए सम्वाद
    आपाधापी यूँ बढ़ी , रही न खुद की याद
    रही न खुद की याद,निमंत्रण मेल से मिलते
    उजड़ गये सब बाग , फूल स्क्रीन पे खिलते
    पॉलीथिन के बैग , खा गये झोला-थैली
    खत्म हुए सम्वाद , बदल गई जीवन-शैली ||

    ReplyDelete
  77. jawab nhi!
    http://meourmeriaavaaragee.blogspot.in/

    ReplyDelete