My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

10 February 2012

मेरा एक संसार है माँ

 (बाल कविता )

मेरा एक संसार है माँ
जो लगता मुझको प्यारा
इंद्रधनुष के रंग सजे हैं
दुनियाभर से न्यारा

अक्षर मुझको नहीं लुभाते
सात रंग लगें प्यारे
चिड़िया, चंदा, फूल बना लूं
नाचें मोर कभी न्यारे

अक्षर आगे-आगे भागें 
रंग मेरे संग चलते हैं 
मेरी मानें, मन की जाने 
रंग मेरे संग ढलते हैं 

तितली रानी, भंवरे भैया
मुझ संग सारे खेलें
रंग-बिरंगी दुनिया है ये
हम सबसे अलबेले

नदिया मेरी बहती है यूं
ज्यूं झरता प्रेम का झरना
अपनी धुन में रहता हूं मैं
आपस में क्यों लङना

सारे रंग सजा कर देखो
सतरंगी जीवन बन जाता
मन की मानूं  और उकेरूं
कितना सुंदर रंग भर जाता

96 comments:

  1. वाह चैतन्य की कहानी मम्मा की जुबानी
    बहुत प्यारी रचना

    ReplyDelete
  2. वाह!रंगों की दुनिया वाकई खूबसूरत है...
    बहुत ही सुंदर रचना|

    ReplyDelete
  3. चैतन्य को उसकी रचनात्मकता में जीने दीजिए....शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर है, नन्हे चैतन्य की रंगों से भरी दुनिया, समेट लो बेटे जीवन के हर रंग को जी भर के... मोनिका जी आभार आपका बेटे की दुनिया हम सब को दिखाने के लिए...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर दुनिया है बच्चों की भी,
    सुंदर कविता द्वारा समझाया है ! अच्छी लगी !

    मन है मेरा कोरा कागज
    जैसे चाहूँ चित्र बनाऊं
    फूल-पौधे पशु-पक्षी बनाऊं
    हरी-भरी धरती पर,
    महका-महका एक उपवन बनाऊं !

    ReplyDelete
  7. nice poem
    loved it

    ReplyDelete
  8. मेरा एक संसार है माँ
    जो लगता मुझको प्यारा
    इंद्रधनुष के रंग सजे हैं
    दुनियाभर से न्यारा
    ......
    चैतन्य को अभी इस संसार में जीने दीजिये ...
    ( पर बेटा चैतन्य थोड़ा थोड़ा अक्षर ज्ञान भी )

    ReplyDelete
  9. चैतन्य की कहानी...... !
    मम्मा की जुबानी बहुत प्यारी लगी..... :):)
    एक माँ के लिए ,बच्चों की खुशियों के आगे ,कुछ भी नहीं होता.... !!

    ReplyDelete
  10. बढिया रचना।
    बच्‍चों का यह संसार दुनिया के सारे तनावों से मुक्‍त होता है....

    ReplyDelete
  11. तितली रानी, भंवरे भैया
    मुझ संग सारे खेलें
    रंग-बिरंगी दुनिया है ये
    हम सबसे अलबेले
    बेहद सुन्दर बाल मन की सहज सरल अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर रचना

    ReplyDelete
  13. प्यारी कविता....

    ReplyDelete
  14. bahut pyaari rachna bilkul bachche ke dil se nikli prateet hoti hai.badhaai.

    ReplyDelete
  15. केवल बच्चों की दुनिया में रंग होता है। इसलिए,चित्रकारी उनका सहज शगल होता है।

    ReplyDelete
  16. नन्हा चैतन्य खुश है अपनी रंगों की दुनिया में .....और हम बड़े भाग रहे है उसी ख़ुशी को पाने ना जाने किस ओर......खुश रहो बेटा

    ReplyDelete
  17. बहुत ही प्यारी कविता मोनिका जी बधाई |

    ReplyDelete
  18. बहुत ही प्यारी कविता मोनिका जी बधाई |

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुंदर लिखा है..चैतन्य ने |

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर . सुभद्रा कुमारी की कवितायेँ याद आयी.

    ReplyDelete
  21. शायद जीवन के सबसे खूबसूरत पल ....माँ और बच्चे की दुनिया कितनी प्यारी होती है ....रंग बिरंगी ....
    बहुत सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्‍दर संसार ... आभार ।

    ReplyDelete
  23. सुन्दर कविता है......ये पेंटिंग क्या चैतन्य ने बनायीं है ?
    अगर हाँ तो वाह......शाबाश कहिये उसे हमारी और से .....बहुत अच्छी हैं ।

    ReplyDelete
  24. वाह बेहद सुन्दर गीत और प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  25. सारे रंग सजा कर देखो
    सतरंगी जीवन बन जाता
    मन की मानूं और उकेरूं
    कितना सुंदर रंग भर जाता

    बहुत प्यारी रचना.

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया प्रस्तुति
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  27. चैतन्य के चित्र काफी रचनात्मक लगे... कविता भी काफी बेहतरीन है. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  28. हर बच्चे की यही कहानी,
    राजा रानी नाना नानी।

    ReplyDelete
  29. चैतन्य की ड्राइंग और कविता बहुत ही अच्छी है।

    सादर

    ReplyDelete
  30. अक्षर मुझको नहीं लुभाते
    सात रंग लगें प्यारे,
    चिड़िया, चंदा, फूल बना लूं
    नाचें मोर कभी न्यारे.

    मनभावन पंक्तियाँ - आभार .

    ReplyDelete
  31. रंगों की दुनिया वैसे ही बेहद खूबसूरत होती हैं ...शुभ आशीष ...ऐसे ही आगे बढते रहो

    ReplyDelete
  32. bahut sunder painting ,,,,bahut sunder rachna......dono cheez dekhkar maza aa gaya

    ReplyDelete
  33. बच्चा तो प्रकृति में ही पलता है, अक्षर तो उसे बैरी लगते ही हैं:)

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर रचना, ख़ूबसूरत भावाभिव्यक्ति , बधाई.

    ReplyDelete
  35. बहुत अच्छी बालकविता बधाई......

    ReplyDelete
  36. शानदार चैतन्य बधाई |

    ReplyDelete
  37. बालमन की कल्पना समेटे, उसकी खुशियाँ साझी करती बहुत ही प्यारी कविता।
    चैतन्य को असीम स्नेह और आशीर्वाद!

    ReplyDelete
  38. इस नन्हें से बाल चित्रकार चैतन्य को बहुत सारी बधाइयाँ, ढेर सारी शुभकामनायें और आशीर्वाद ! बहुत खूबसूरती से आपने चैतन्य के मन की बात को अभिव्यक्ति दी है ! बच्चों के मन की बात और अभिरुचियों के बारे में जानकार उन्हें सही दिशा में प्रोत्साहन देना माता-पिता की सबसे बड़ी उपलब्धि होती है ! साधुवाद आपको !

    ReplyDelete
  39. इस रचना की गेयता ने इसकी प्रभावोत्पादक में असीम वृद्धि कर दी है। भाव बड़े कोमल हैं और मन को आकर्षित करते हैं।

    ReplyDelete
  40. सुंदर बाल गीत। बाल गीत लिखने के लिए बच्चा हो जाना पड़ता है। सबके वश का नहीं। वाह!

    ReplyDelete
  41. सुन्दर सरल भाव में लिखी खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर ..चैतन्य की रंगों से भरी दुनिया मे आप के प्यार की बौछार है तभी तो उसकी दुनिया प्यारी -प्यारी है..

    ReplyDelete
  43. तितली रानी, भंवरे भैया
    मुझ संग सारे खेलें
    रंग-बिरंगी दुनिया है ये
    हम सबसे अलबेले..
    बहुत प्यारी रचना हमारे प्रिय चैतन्य की तूलिका और कलम यों ही सजती रहें और हम सब इन के दोस्त बने रहें आखिर हम भी तो भ्रमर हैं न ..
    कितने गंभीर हो चित्र बना रहे
    मोनिका जी जय श्री राधे ...सुन्दर कृति
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  44. नदिया मेरी बहती है यूं
    ज्यूं झरता प्रेम का झरना
    अपनी धुन में रहता हूं मैं
    आपस में क्यों लङना

    बाल मन की भावनाएं आपके शब्दों के स्पर्श से कितनी उजली लग रही हैं !!

    ReplyDelete
  45. पूरी जैव विविधता का मानवीकरण कर दिया है आपने .सुन्दर कविता मनोहर कविता .

    ReplyDelete
  46. निश्छल बालमन का बहुत ही सुन्दर चित्रण..
    नदिया मेरी बहती है यूं
    ज्यूं झरता प्रेम का झरना

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर..
    कोमल सी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  48. जीवन-लय, सुंदर और सजीली.

    ReplyDelete
  49. कविता बहुत ही अच्छी है।

    ReplyDelete
  50. वाह मोनिका जी इतना सुंदर गीत. मजा आ गया. बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  51. जी करता है मै भी बच्चा बन जाऊ, सुँदर बाल गीत .

    ReplyDelete
  52. बहुत सुन्दर गीत..चैतन्य के चित्र खूबसूरत हैं..बधाई.
    _____________

    'पाखी की दुनिया' में जरुर मिलिएगा 'अपूर्वा' से..

    ReplyDelete
  53. बच्चो की जिज्ञासा भरी सुन्दर कविता !बधाई !

    ReplyDelete
  54. बहुत सुंदर बाल कविता ...

    ReplyDelete
  55. मेरा भी एक संसार है....माँ ?
    काश....कह सकता तुझे मैं माँ .....

    ReplyDelete
  56. काश यह बच्चों वाली सतरंगी दुनिया हमेशा कायम रह पाती जीवन में तो कितना अच्छा होता। :)बचपन के रंगों से सजी बहुत ही सुंदर कविता....

    ReplyDelete
  57. डॉ.मोनिका जी चित्र देखकर अपने व अपने बच्चों की चित्रकला याद आ गयी .धन्यवाद्

    ReplyDelete
  58. डॉ.मोनिका जी चित्र देखकर अपने व अपने बच्चों की चित्रकला याद आ गयी .धन्यवाद्

    ReplyDelete
  59. बहुत अच्छी प्रस्तुति,बेहतरीन प्यारी रचना,...

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  60. अक्षर मुझको नहीं लुभाते
    सात रंग लगें प्यारे
    चिड़िया, चंदा, फूल बना लूं
    नाचें मोर कभी न्यारे

    बच्चा निसर्ग तय : प्रकृति प्रेमी होता है शब्दों का लिहाफ हम उसे कम उम्र में ही ज़बरी पहना देते हैं .काश संरक्षात्मक शिक्षा स्ट्रक्चरल एज्युकेशन का मर्म हमारे शिक्षा सारथी समझ पाते .

    ReplyDelete
  61. बहुत ही सुंदर रचना

    ReplyDelete
  62. bahut sundar ........bacche ki ruchi jisme hai use us or jarur prerit karen aage bhi........

    ReplyDelete
  63. सारे रंग सजा कर देखो
    सतरंगी जीवन बन जाता
    मन की मानूं और उकेरूं
    कितना सुंदर रंग भर जाता
    bahut hi sundar

    ReplyDelete
  64. कच्ची अमिया की खुशबू सी पोस्ट |

    ReplyDelete
  65. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  66. बहुत प्यारी कविता प्रस्तुति की है आपने.
    नन्हे मुन्ने की अनुपम उड़ान.

    आभार,मोनिका जी.

    ReplyDelete
  67. chaitanya ki amma. har pankti me dikh rahi hai:))
    god bless !!

    ReplyDelete
  68. सारे रंग सजा कर देखो
    सतरंगी जीवन बन जाता
    मन की मानूं और उकेरूं
    कितना सुंदर रंग भर जाता
    ati sunder bhav bete ne tasvir bhi bahut sunder banai hai shabash beta
    rachana

    ReplyDelete
  69. प्यारी और न्यारी रचना ...

    ReplyDelete
  70. बहुत ही खूबसूरत रचना....सराहनीय...
    नेता- कुत्ता और वेश्या (भाग-2)

    ReplyDelete
  71. नदिया मेरी बहती है यूं
    ज्यूं झरता प्रेम का झरना
    अपनी धुन में रहता हूं मैं
    आपस में क्यों लङना
    bahut hi sundar rachana monika ji badhai.

    ReplyDelete
  72. बहुत ख़ूबसूरत बाल गीत....

    ReplyDelete
  73. बेहद मीठा..प्यारा सा गीत

    ReplyDelete
  74. प्यारी बाल कविता -सुकोमल और मासूम सी !

    ReplyDelete
  75. सुन्दर. चि. चैतन्य के जीवन में ईश्वर सभी रंग भर दें.

    ReplyDelete
  76. वाह!!!!!मोनिका जी..भावपूर्ण बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सराहनीय प्रस्तुति,..

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  77. चिड़िया, चंदा, फूल बना लूं
    नाचें मोर कभी न्यारे


    बहुत ही सुंदर रचना....!!

    ReplyDelete
  78. वाह ... सुन्दर लाजवाब बाल रचना है ... बहुत प्यारी ...

    ReplyDelete
  79. वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी... सबसे हसीन दुनिया होती है बचपन की

    ReplyDelete
  80. वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी... सबसे हसीन दुनिया होती है बचपन की

    ReplyDelete
  81. वाह, परफेक्ट कविता फॉर चैतन्य!! :)

    ReplyDelete
  82. वाह चैतन्य आपकी रचनाएं तो बडी प्यारी हैं ।

    ReplyDelete
  83. बहुत ही प्यारी रचना है ...
    चैतन्य के बनाए चित्र भी बहुत सुन्दर है....

    ReplyDelete
  84. Wow! Bahut hi pyara likha hai mam...

    ReplyDelete