My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

08 May 2011

नन्हे हाथों से सजा प्यारा उपहार.....!




दुनिया की हर माँ के लिए उसके जीवन की धुरी होते हैं उसके बच्चे | गर्भनाल के साथ जुड़ने वाला यह रिश्ता माँ और बच्चे को हमेशा के लिए एक कर देता है  | वो माँ ही तो  होती है जो बिन कहे समझ जाती है अपने बच्चे के मन के भाव  और पूरी तरह अपना जीवन समर्पित कर देती है उस नन्ही जान के लिए |



यूँ तो माँ की ममता की बात करने के लिए कोई एक दिन तय नहीं किया जा सकता पर फिर भी शायद यह सोचकर इस दिन (मदर्स डे )की शुरुआत हुई की, माँ को भी यह महसूस करवाया जाय की  वो भी खास है बहुत खास ..........!

ऐसा ही स्पेशल आज मुझे भी महसूस जब चैतन्य  एक सुंदर कार्ड और गिफ्ट लेकर आया स्कूल से | उसके नन्हे हाथों से सजा यह उपहार पाकर बहुत अच्छा लगा |


गिफ्ट पैक को देखकर ही लग रहा था कि जैसे- तैसे पेपर को सैट कर उसने अपने नन्हे हाथों से टेप लगाने का काम बड़ी मेहनत से किया होगा  | यकीन मानिये मैंने इतने सालों में कोई गिफ्ट इतने ध्यान और अहतियात से नहीं खोला :) 

उसका बनाया कार्ड देखकर मन खुश हुआ | इसमें  जो लिखा था वो शायद उसकी टीचर ने लिखा है  या फिर नेट से ली गयी कोई कोटेशन है ................!

सुंदर से इस कार्ड में उसका  नन्हा हाथ छपा था और ये  पंक्तियाँ लिखी थीं .......... 

Sometimes you get discouraged
Because I am So small
And always leave my fingerprints
On furniture and walls

But every day I 'm growing
I 'll be grown some day
And all those tiny handprints
Will surely fade away

So here 's a little handprint
Just So you can recall
Exactly how my fingers looked
When  I was very small  


पढ़ते ही आँखें भीग गयीं और उसका दिया गिफ्ट काम आया  :)
टिश्यू पेपर :) मेरा गिफ्ट ......... 



संसार की हर माँ की ममता को मेरा नमन ....... मेरी ओर से सभी माओं को इस खास दिन  (मदर्स डे ) की हार्दिक शुभकामनायें 

121 comments:

  1. monika ji bilkul sahi kah rahi hain aap yoon to maa kee mahima ko ham ek din me kya poore sal bhar me bhi nahi samet sakte kintu ek din khas manane ke liye agar aarambh kaiya to kya burai hai.jaisee khushi aapko mili aisee hi har maa ko milegee.badhai.

    ReplyDelete
  2. आपको चैतन्य सा उपहार है, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. माँ है चन्दन, माँ कुमकुम ,माँ केशर की क्यारी
    माँ की उपमा माँ ही है ,माँ हर घर की फुलवारी |
    .....................................माँ हम सब को प्यारी |

    आपकी भावनाओ को सलाम है ............

    ReplyDelete
  4. पढ़कर आपकी पोस्ट -
    मन में हुआ कुछ ऐसा स्पंदन ......
    नेत्र सजल हो उठे ......!!!!!!!

    HAPPY MOTHERS'DAY TO YOU.....

    ReplyDelete
  5. अरे वाह
    गज़ब
    बहुत भाव-प्रणव पोस्ट है

    ReplyDelete
  6. मोनिका जी मदर्ज डे की बहुत बहुत शुभ कामनाएं ...भावभीनी है आपकी पोस्ट ...मेरे बच्चों ने भी एक तोहफा दिया है फेसबुक पर एक कार्ड ...mentioning ..thankyou for moulding us into what we are today .

    ReplyDelete
  7. @ शारदा जी
    सच है शारदा जी माँ ही बच्चो के जीवन को दिशा देती है...... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. हाँ, बस खास है माँ!!

    आपकी ममता को चैतन्य करता प्यारा चैतन्य!!

    आप सहित हर माँ को मातृ-दिवस पर वंदन!!

    ReplyDelete
  9. bahut sundar panktiyon se yukt card diya hai Chaitanya ne .ye aapke hi sanskar hain ki vo aapse itna pyar karta hai .aapka v Chitanya ka pyar aise hi bana rahe -aisee subhkamnaon ke sath ...

    ReplyDelete
  10. कार्ड में लिखी लाइनें बहुत ही अच्छी हैं , और वैसी ही ही अच्छी आपकी ये पोस्ट ! बालमन के सुंदर भाव और माँ की ममता दोनों के दर्शन ! बधाई एवं शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर गिफ्ट दिया है
    चैतन्य ने आपको !
    मदर्स डे की अनेक शुभकामनायें !
    bahut sunder post.........

    ReplyDelete
  12. बहोत छुन्दर उपहाल है,, बधायी......

    ReplyDelete
  13. मैं भी मेरी माँ का स्‍मरण कर रही हूँ, जो आज हमारे बीच नहीं हैं।

    ReplyDelete
  14. बच्चे अपने आप में उपहार हैं ....बस इन्हें अच्छे संस्कार दे पायें हम ...!

    ReplyDelete
  15. nanhe haathon se nanha gift nanhi poetry ke saath..sambhaal kar rakhna Monika ji.yese yese kshan ye choti choti yaade hi aapke jeevan ko saarthak banati hain.wish you a very happy mothers day.may god bless you.

    ReplyDelete
  16. चैतन्य यूँ ही चन्दन सी खुशबू बिखेरता रहे
    माँ की भावनाओं को भी यूँ ही सहेजता रहे ..

    मातृत्त्व दिवस की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. nanhe nanhe haathon se nanha sa uphaar nanhi pyari poetry ke saath sambhal kar rakhna Monika ji.yesi pyaari yaaden aur kshan hi to aapke jeevan ko saarthak banate hain.wish u a very happy mothers day.may god bless you.

    ReplyDelete
  18. भाव विभोर कर दिया आपके इस आलेख ने.

    सादर

    ReplyDelete
  19. आप सहित हर माँ को मातृ-दिवस पर वंदन!!

    ReplyDelete
  20. भावभीनी, वात्सल्य रस से ओतप्रोत पोस्ट ....

    ReplyDelete
  21. ohh so touching...kitna pyara gift hai..ye sachmuch dil ko choone wala.

    ReplyDelete
  22. खुशी से अपनी भी आँखें नम हो गयी मातृी दिवस की बधाई।

    ReplyDelete
  23. सुन्दर प्यारी माँ को चैतन्य का गिफ्ट
    इतनी मिलीं खुशियाँ कि मन हुआ अपलिफ्ट

    आपके ममतामयी मातृत्व को सादर प्रणाम.

    ReplyDelete
  24. आज मैंने भे अपनी मॉम को विश किया...बचपन में वो कितनी ज़रूरी थी और ज़रा बड़े हुए नहीं कि दूर जाने को मचलने लगे...भगवान ने भी उठाकर फेंका इतनी दूर कि बस फोन पर ही बातें करते हैं...!

    ReplyDelete
  25. दिल को छूने वाली पोस्ट..... और गिफ्ट भी बहुत प्यारा है..

    ReplyDelete
  26. bahut sundar rachana hai monika ji...

    ReplyDelete
  27. wish u a very happy MOTHERS DAY to all..

    http;//love-you-mom.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. sundar gift hai chaitnya ka...

    Happy Mother's Day to you as well

    ReplyDelete
  29. माँ तेरी महिमा से कैसे कर सकता में इंकार....

    ReplyDelete
  30. चैतन्य के उपहार में निहित भावनाएं भाव विह्वल कर गईं।
    मातृ दिवस पर मां की ममता को नमन।

    ReplyDelete
  31. बहुत सुंदर उपहार दिया है चैतन्य ने आपको..
    मदर्स डे की बहुत-बहुत शुभकामनायें..........

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर गिफ्ट दिया है
    प्रिय चैतन्य ने आपको
    मैं भी मेरी माँ का स्‍मरण कर रहा हूँ, जो आज हमारे बीच नहीं हैं।
    "माँ की ममता कौन भुलाए,
    कौन भुला सखता है वो प्यार,
    किस तरह बताए माँ के बिना कैसे जी रहए हम"
    आपको मदर्स डे की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  33. मदर्स डे पर आपको शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  34. सुंदर और प्यारा सा अहसास कराती हुई पोस्ट.
    आपको मदर्स डे पर शुभकामनाएँ. हैप्पी मदर्स डे.

    ReplyDelete
  35. सच कहू तो आज के बच्चे बड़े आराम से अपनी भावनाये हम से बाट लेते है कह देते है की mom i love u या कोई गिफ्ट दे देते है किन्तु हम इस तरह से माँ को नहीं कह पाते थे बस मन में है न कहने की क्या जरुरत है टैप वाली मानसिकता | बस आज के दिन माँ को फोन लगाया और बात कर ली | कार्ड तो वाकई अच्छा है |

    ReplyDelete
  36. aapke nanhe ke uphaar ko dekh meri bhi aankhe bhig gayi ,kitna sundar likhkar diya hai ,sach maa ke liye sneh hi kafi hai ,aapko bhi badhai .

    ReplyDelete
  37. चैतन्य सा उपहार हमे भी बहुत सुंदर लगा,

    ReplyDelete
  38. टिश्यू पेपर जैसा निर्मल और मासूम भावनामय उपहार, आखिर मन को कोई इससे बेहतर दे भी क्या सकता है.

    ReplyDelete
  39. चैतन्य को भी माँ की ओर से ढेर सारा आशीर्वाद और प्यार |

    ReplyDelete
  40. माँ पर एक बढ़िया आलेख...पढ़ कर बहुत अच्छा लगा..आपको भी मातृ दिवस की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  41. अद्भूत... दिल को छू गया यह पोस्ट... सच में एक माँ यदि "ममता" के सन्दर्भ में कुछ कहे, तो उसमे वास्तविकता व रोचकता होगी...

    ReplyDelete
  42. बच्चा बनकर कैसे लिखा जा सकता है,यह कविता उसका नायाब नमूना है।

    ReplyDelete
  43. ये हक बस माँ के ही सौभाग्य में है .... हर माँ को सलाम ...

    ReplyDelete
  44. मातृदिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  45. राग यमन ... सात शुद्ध स्वरों के राग से शुरुआत .... बहुत लाजवाब ... स्वागत है आपका ...

    ReplyDelete
  46. aap ka phul time kaam kitne log karte hai ya kar nahi paate. etni sahajta se aap ne aapne bhavo ko vyakt kiya laga kiamne-samne bat ho rahi ho

    ReplyDelete
  47. सुंदर भावपूर्ण पोस्ट,आभार.

    ReplyDelete
  48. सुंदर उपहार..
    मदर्स डे पर ढेर सारी शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  49. Aapko bhi naman aise sundar vichar aur udgar ke liye...mata hi ishwar ka hai awtaar,mata mein hi jeevan ka sachha saar.

    ReplyDelete
  50. माँ की ममता और माँ-बेटे के बीच के वात्सल्य को महसूस कराने वाली बात आप ने लिखी है ! यहाँ सहानुभूति नहीं अपितु आप की स्वानुभूति की अभिब्यक्ति साफ़ झलकती है ! मदर्स डे की हार्दिक बधाइयाँ ! साथ ही मेरी पोस्ट पर आपकी टिप्पणी के लिए आभार !

    ReplyDelete
  51. चैतन्य का उपहार बहुत ही नायाब है और उसके उपहार में छुपे इस प्यार को कोई भी माँ महसूस कर सकती है , आप बहुत ही भाग्यशाली है कि चैतन्य सा प्यारा बेटा आपके पास है .आपको भी मदर्स डे की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  52. देखो कितना thoughtful gift रहा...तुरंत काम आया. :)


    मातृदिवस की शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  53. सुन्दर भाव पूर्ण प्रस्तुति -माँ तुझे सलाम !जय -हो !जय -हो !

    ReplyDelete
  54. बहुत ही खूबसूरत उपहार दिया आपको चैतन्य ने.
    दिल को छू लिया.
    मेरी शरारती बेटी ने कल मां को लिखा था.

    मैं हूँ नादान,
    करती हूँ परेशान
    पर सच तो यह है कि
    आप हो मेरी जान.

    ReplyDelete
  55. माँ ईश्वर धरती पर ईश्वर का सजीव रूप है आपको मदर्स दे पर बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  56. वाह.....एक सुखद अनुभूति ........कैसा वो पला होगा जब एक छोटा सा उपहार आपके हाथ में था उस वक़्त ............

    ReplyDelete
  57. प्रिय चैतन्य के ब्लॉग में इस गिफ्ट को देखकर बड़ी ख़ुशी हुई और फिर आपके ब्लॉग में यह पोस्ट.....आप दोनों ने आज के दिन को वाकई बेहद खास बना दिया है |
    **********************************
    मातृत्व दिवस की शुभकामनायें
    **********************************

    ReplyDelete
  58. गिफ्ट प्राप्ति पर बधाई, ऐसा अमूल्य उपहार हर माँ को मिले! - चैतन्य को आशीष - आपके लेखन की जितनी प्रशंसा की जाये उतना कम पढवाने के लिए आभार

    ReplyDelete
  59. बहुत खुबसूरत अहसास हैं .........आपको बहुत शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  60. मोनिका जी, चैतन्य की ओर से जो पंक्तियाँ लिखीं हैं...अत्यंत ह्रदयस्पर्शी हैं...४५ साल की उम्र में भी मां मुझे समझाती रहती है और मै उसके आगे मासूम सा रह जाता हूँ...अच्छा लगता है ये कभी बड़े ना होने का स्वांग...माँ के लिए तो मै अभी भी बच्चा ही हूँ...

    ReplyDelete
  61. बहुत ही प्यारा और दिल को छुने वाला उपहार है।

    ReplyDelete
  62. सुंदर पोस्ट के लिये बधाई।
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  63. bahut sundr panktiyan hain janti hai meri bitiya ke school se bhi aesa hi kuchh aya tha .pr me aapki tarah itna sunder likh nahi pai .
    bete ko ashirvad
    rachana

    ReplyDelete
  64. @मोनिका ,
    चैतन्य तो खुद में ही एक ईश्वरीय तोहफ़ा है तो उसका दिया हुआ तोहफ़ा तो प्यारा होना ही था ....शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  65. डॉ मोनिका जी माँ और लाडले का यह प्यारा सिलसिला यों ही हमेशा हमेशा चलता रहे माँ अपनी ममता लुटता रहे और प्यारा बच्चा जितना भी बड़ा क्यों न हो जाये माँ की गोद में सर रख सो जाये दुलार पाए ऐसा करे की माँ की आँखें हर्ष से भर भर जाएँ और चैतन्य सा उपहार उसकी माँ संजोती रहे
    बहुत सुन्दर प्यारी भाव भरी अभिव्यक्ति माँ और लाडले की
    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  66. बहुत ही भावमय करती प्रस्‍तु‍ति ..।

    ReplyDelete
  67. " चैतन्य रहे ममता हरदम, चैतन्य रहे करुणा सारी
    चैतन्य की किलकारी से महके सदा घर फुलवारी "

    ReplyDelete
  68. सही है ममता की बात करने का कोई एक दिन निश्चित नहीं किया जासकता । प्यारा कार्ड बनाया लाडले ने । डाक्टर साहब क्या कहां मै खेलू चहकूं गाउं यही है क्या ?

    ReplyDelete
  69. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण पोस्ट! दिल को छू गयी! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  70. ओह....सो क्यूट !!!!

    सचमुच अनमोल है यह...जीवन निधि...

    ReplyDelete
  71. आपको बहुत सुन्दर उपहार दिया चैतन्य ने..ज़िंदगी भर उसका बचपन याद दिलाता रहेगा..शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  72. ओह....मंत्रमुग्ध करती मनमोहक

    ReplyDelete
  73. Monika ji post padhkar ek baar to humara dil bhi emotional ho gaya apni maa ke prati bachhe ka pyar dekhkar. Kahate Hain. chidiya jab ghosale me aayi to bacchon ne pucha maa sansar kitana bada hain. Chidiya ne apne pankhon me apne bacchon ko simetate hue kaha so jao mere bacchon isse bada nahin hain ye sanskar. Maa ke pyar ko shbad dena muskil hain. achhi post ke liye dhanyawad.

    ReplyDelete
  74. देरी के साथ मेरी भी

    मदर्स डे पर हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  75. बहुत मार्मिक एवं सहज अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  76. is anmol uphaar ka koi jwaab nahi

    ReplyDelete
  77. बच्चों के भावों को बहुत सुंदर तरीके से आपने लिखा है। मुझे मुनव्वर राना की दो लाइने बहुत प्रभावित करती हैं..

    मां मेरे गुनाहों को कुछ इस तरह से धो देती है।
    जव वो बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।।

    ReplyDelete
  78. सारी दुनिया बदली लेकिन ना बदला बस इक रिश्ता,
    माँ का रिश्ता.
    बहुत सुंदर गिफ्ट दिया है
    चैतन्य ने आपको !
    मदर्स डे की अनेक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  79. हर मुश्किल में दिल मांगे उनका साया,
    बनी रहे उनकी हम पर छत्रछाया,
    माँ होती ही है, दुनिया में सबसे प्यारी
    Happy Mother’ Day

    ReplyDelete
  80. beautiful touching narration

    ReplyDelete
  81. चैतन्य का उपहार प्रेरणा प्रद है आपको एवं चैतन्य को शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  82. "ईश्वर हर जगह नहीं पहुंच पाता, इसलिये उसने मां बनाई है।"

    ReplyDelete
  83. एक शब्द और उसी में समाई हुई पूरी कायनात

    ReplyDelete
  84. आपके 'ब्लॉग' पर आकर मन ख़ुश हो गया. आपको और चैतन्य को ढेरों शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  85. maa hoti hi yesi hai
    god bless him

    ReplyDelete
  86. आदरणीय बहन मोनिका जी...आपका बेटा सच में बड़ा समझदार है...इतनी छोटी सी आयु में अपनी माँ के लिए उसकी अभिव्यक्ति अद्भुत है...
    ईश्वर उसे सफल बनाए...सभी खुशियाँ दे...निरोगी काया एवं दीर्घायु दे...

    ReplyDelete
  87. beautiful gift
    nice poem

    ReplyDelete
  88. मां की कोई कैसे बराबरी कर सकता है,

    ReplyDelete
  89. आदरणीय बहन मोनिका जी...सच में आपका बेटा बहुत समझदार व प्यारा है...
    इस छोटी सी आयु में उसके मनोभावों की इस अभिव्यक्ति को देख कर हर्ष हुआ...
    ईश्वर करे वह सदा खुश रहे व उसकी मातृभक्ति इसी प्रकार बनी रहे...
    ईश्वर चैतन्य को सफल बनाए...

    ReplyDelete
  90. दुनिया की हर माँ को चैतन्य जैसा बेटा मिले . शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  91. बहुत ही भाव-प्रणव पोस्ट

    ReplyDelete
  92. बहुत सुन्दर उपहार है ....
    आपको शुभकामनाये

    ReplyDelete
  93. bahut hi sunder gift..........shayad isase achchha fift mothers day par aapke liye nahin ho sakta.

    ReplyDelete
  94. monika ji
    bahut hi sahi baat .phar din hi apne aap me vishesh hota hai.par jab kisi din ko khas banaya jata hai to wakai ek alag si anubhuti hoti hai .bachcho ka pyaar bhara sneh lagta hai ki sari khushiyan hi aanchal me sama gai hain .priy chaitany bete kki post hamne padhi thi aur us par comments bhi dale the.
    sach in nanhe nanhe haatho ne kitni shiddt ke saath maa ko tohfa dene ke liye mehanat ki hogi .par saath me tissu pepar dekh kar aansu bhi aaye par ye aansu khushi ke the us nanhe se masum par bahut bahut pyar aaya so aapse pahle uske hi blog par pahunch gai .usko meri taraf se dher saara pyar v meethi -meethi kissi dijiyega .aapko bhi hardik badhai
    poonam

    ReplyDelete
  95. ओह !! हमारी भी आँखें भीग आयीं....
    कितना प्यारा उपहार दिया चैतन्य ने....
    हमेशा ये उपहार याद रहेगा,आपको....उसके नन्हे हाथों की छाप...बेहद प्यारी लगी.
    बेटे को ढेरो आशीष और असीम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  96. भावपूर्ण और सभी माताओं को नमन ....

    ReplyDelete
  97. माँ का अपने बच्चे से निश्छल प्रेम इस धरा पर ईश्वर का अनुपम वरदान है !
    चैतन्य को स्नेहाशीष !

    ReplyDelete
  98. मोनिकाजी बिलकुल सही ... माँ की ममता और बच्चो के प्यार को कोई दूसरा नहीं समझ सकता ! उनकी अंगुलिया बढ़ती जाती है और हमारे हाथ उनके इंतज़ार में उठते जाते है ! शायद इस डर से की कही बिछड़ न जाए

    ReplyDelete
  99. मोनिका जी,आपकी ये पोस्ट देर से पढ़ पाया,इसलिए पहले तो माफ़ करियेगा.चैतन्य बेटे द्वारा मदर्स दे पर आपको दिये गए कार्ड की जिस प्यार से खूबसूरत व्याख्या आपने की है उसमे एक माँ के ह्रदय की कोमलता साफ़ झलकती है.कार्ड में अंग्रेजी में लिखी पंक्तियाँ पढ़कर बेटे द्वारा कार्ड के selection की भी दाद देनी पड़ेगी.आपकी लेखनी को सलाम,बेटे के प्रति आपके अनमोल प्यार को सलाम और अंत में चैतन्य को मेरा आशीर्वाद कहियेगा.

    ReplyDelete
  100. आप अपनी नई पोस्ट की सूचना मेल द्वारा भेज दिया करें तो जल्द पढ़ पाऊँगा. please.
    And now congrats for completing 100 comments.

    ReplyDelete
  101. इस अनुभव को केवल मां महसूस कर सकती है मेरे जैसे पिता के लिये ऐसा अहसास पाना टेढ़ी खीर है

    ReplyDelete
  102. Mother's day par behad sunder prastuti. badhaee. chaitanya ka uphar to bahut hee pyara.

    ReplyDelete
  103. देर से आने के लिए क्षमा चाहूँगा.
    कार्ड में लिखी लाइनें बहुत ही अच्छी हैं , और वैसी ही ही अच्छी आपकी ये पोस्ट !
    बहुत सुंदर उपहार दिया है चैतन्य ने आपको..
    बहुत ही सार्थक लेखन है आपका ! आपको मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं !!

    ReplyDelete
  104. आपकी उत्साह भरी टिपण्णी और हौसला अफजाही के लिए शुक्रिया!

    ReplyDelete
  105. संजोग है,मेरे ज्येष्ठ पुत्र का नाम भी ( डॉक्टर ) चैतन्य है.बी.एच.यू.में पी.जी.कर रहा है.आपकी रचनाओं में एक माँ ,एक गृहिणी के साथ ही एक नारी सदा ही दिखती है.कनाडा में रह कर भी हिंदी तथा भारत की क्षेत्रीय भाषाओँ के प्रति आपका प्रेम निश्चय ही सम्मानीय है.आपका हमेशा ही स्वागत है.

    ReplyDelete
  106. संजोग है,मेरे ज्येष्ठ पुत्र का नाम भी ( डॉक्टर ) चैतन्य है.बी.एच.यू.में पी.जी.कर रहा है.आपकी रचनाओं में एक माँ ,एक गृहिणी के साथ ही एक नारी सदा ही दिखती है.कनाडा में रह कर भी हिंदी तथा भारत की क्षेत्रीय भाषाओँ के प्रति आपका प्रेम निश्चय ही सम्मानीय है.आपका हमेशा ही स्वागत है.

    ReplyDelete
  107. हमारे पारिवारिक ब्लाग में पधारने के लिए हार्दिक आभार.इसी तरह आते रहिएगा.आपका हमेशा स्वागत है.आपका हिंदी तथा क्षेत्रीय भाषाओँ के प्रति अनुराग न केवल प्रशंसनीय है बल्कि आदरणीय भी है.आपकी रचनाधर्मिता उत्कृष्ट है.नई रचनाओं की प्रतीक्षा रहेगी.

    ReplyDelete
  108. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करती प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  109. वो माँ ही तो होती है जो बिन कहे समझ जाती है अपने बच्चे के मन के भाव और पूरी तरह अपना जीवन समर्पित कर देती है उस नन्ही जान के लिए |
    bahut hee marmik shabd hain aapke. badhaee sweekaren

    ReplyDelete
  110. चर्चा -मंच पर आपका स्वागत है --आपके बारे मै मेरी क्या भावनाए है --आज ही आकर मुझे आवगत कराए -धन्यवाद !२०-५-११ ..
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  111. बेहद खूबसूरत लिखा है आपने, आपके लेखन को देख कर मुझे शर्म आती है कि मैं बेहद बेतुकी बातें लोगों के सामने लाता हूँ। --- राजीव

    ReplyDelete
  112. आपके लेखन को देखकर मुझे शर्म आती है, क्योकि मुझे लगता है कि मैं बेतुकी बातें ही लोगों के सामने लाता हूँ।--- राजीव

    ReplyDelete
  113. monika jii apki tasveer khoobsurat lagi..

    ReplyDelete