My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

12 December 2010

अभावों से जन्मते जीतने के भाव......!

मोची के बेटे का आईआईटी की परीक्षा में सफलता हासिल करना। तमाम अभावों के बावजूद अपने लक्ष्य को पाने का वाले अभिषेक के घर बिजली नहीं है, पूरा परिवार छोटे से कमरे में रहता है और जरूरत पङने पर अभिषेक खुद भी मजदूरी करने जाता था............... !

झुग्गी में अभावों के बीच परवरिश, पिता मजदूर, मां का काम घर-घर चौका बर्तन करना। स्कॉलरशिप से पढाई की और हरीश ने आईएएस में पहले प्रयास में सफलता अर्जित की.... !

हालांकि ये दोनों खबरें कुछ पुरानी हैं पर हमारे देश में तो हर दिन कोई न कोई कर्मठ युवा ऐसी ही कहानी गढ रहा है। अभावों के बीच जीने वाले ऐसे नौजवानों की परेशानियां भले ही सुर्खियां न बनें पर इनकी उपलब्धि यकीनन अखबारों और समाचार चैनलों के लिए हेडलाइन्स बनती हैं। पता नहीं क्यूं..........जब भी ऐसी कोई खबर जानने सुनने को मिलती है इन अनदेखे अनजाने चेहरों के लिए मन गौरान्वित हो उठता है और खुशी होती है यह सोचकर की न जाने कितने ही युवा इनसे प्ररेणा लेकर नया इतिहास रचने की राह पर चल पङेंगें। बस अफसोस होता है उन नौजवानों को लेकर जो सारी सुख-सुविधाएं पाकर भी कुछ ऐसे कृत्य करते हैं जो समाज और परिवार दोनों को शर्मिंदा करें। ऐसे में यह यकीन भी पुख्ता होता है कि जीवन की सही समझ के लिए अभाव यानि की कमियों के बीच जीना भी जरूरी है।


अभिषेक और हरीश जैसे कई युवा हर साल यह साबित करते हैं कि लालटेन की रौशनी में पढाई और उधार की किताबों वाली बातें सिर्फ फिल्मी कहानियों और किताबों के पन्नों तक सिमटी नहीं हैं। इतना ही नहीं आए साल देश के कई छोटे गांवों और कस्बों के होनहार कामयाबी की दौङ में नामी स्कूलों
के बच्चें को पीछे छोङकर हमें याद दिलाते हैं कि प्रतिभा सुविधा और संसाधनों की मोहताज नहीं होती।

बुनियादी सुविधाओं के अभाव के बीच भी अपनी इच्छाशक्ति को बनाये रखना आसान नहीं हैं। जीवन के प्रति सकारात्मक रवैया और लक्ष्य को पाने की ललक बहुत आवश्यक है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। शायद यही वजह है कि जमाना चाहे कितना ही बदल गया हो एक चीज कभी नहीं बदल सकती। वो यह कि कङी मेहनत और लगन से सफलता पाने की प्रतिबद्धता हो तो चमत्कार आज भी होते हैं और अभावों के अंधेरों से सफलता की रौशन राहें भी निकलती हैं।

122 comments:

  1. अच्छी पोस्ट अभावो में भी तमाम कष्ट सहकर ही ऐसे हीरे निकलते है !

    ReplyDelete
  2. ऐसा तो होता ही है, गरीबी में ही प्रतिभाएँ उभरती हैं साधन-सम्पन्न परिवारों की सन्तानें प्रायः अपने पिता जैसी उपलब्धियों तक भी नहीं पहुँच पाती । अपवाद हो सकते हैं किन्तु बडे प्रतिशत में मैंने तो यही निष्कर्ष देखे हैं ।

    ReplyDelete
  3. monika ji suruaati bhav nahi hai baki, sundar lekh hai,

    ReplyDelete
  4. ओशो सिद्धार्थ ने इन्हीं भावों को इन शब्दों में व्यक्त किया हैः
    "जो जीवन दुख में तपा नहीं,
    कच्चे घट-सा रह जाता है
    जो दीप हवाओं में न जला,
    वह जलना सीख न पाता है"

    ReplyDelete
  5. मुझे लगता है ऐसे में माता पिता और खुद बच्चों का आत्मबल बहुत काम आता है ... और अगर मेहनत दिल से की जाए तो सफलता ज़रूर मिलती है ... आशा और उमीद का संचार करती है आपकी पोस्ट ...

    ReplyDelete
  6. वो यह कि कङी मेहनत और लगन से सफलता पाने की प्रतिबद्धता हो तो चमत्कार आज भी होते हैं और अभावों के अंधेरों से सफलता की रौशन राहें भी निकलती हैं।

    सही कह रही हैं मोनिका जी……………आपसे सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  7. यद्यपि दुख की अपेक्षा हममें से कोई नहीं करता,हम सबको किसी न किसी रूप में उसका सामना करना ही पड़ता है। यह भी ज़रूरी नहीं कि दुख हो,तभी कुछ सीखा जाए मगर अफसोस,कि हममें से अधिकतर तभी सीख पाते हैं। शायद,व्यावहारिक अनुभव ही वास्तविक परिवर्तन के वाहक होते हैं। सिद्धार्थ के गौतमबुद्ध बनने की शुरूआत ऐसे ही प्रकरणों से हुई थी।

    ReplyDelete
  8. ... kadi mehanat rang hi laatee hai ... bahut sundar ... prasanshaneey post !!!

    ReplyDelete
  9. bahut achchhi post.gareebi se nikle ye heere aur sabhi ke liye bhi ek udahran bante hai .

    ReplyDelete
  10. मुश्किलें ही जीवन में आगे बढ़ने की रहा दिखाती है बढ़िया पोस्ट .शुक्रिया

    ReplyDelete
  11. डा.मोनिका शर्मा जी,
    विषम परिस्थितियों में भी कड़ी मेहनत और लगन से अपनी मंजिल पाई जा सकती है !
    आपका लेख बहुत ही प्रेरणा दायक है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  12. जीवन में कुछ करने की सोच और सही दिशा में की गई मेहनत हमेशा सफलता दिलाती है | इस तरह के अभावों में जी कर सफलता पाने वालो से आशा है की सफलता पाने के बाद वो अपने जैसे को भूले नहीं उनके लिए भी कुछ करे तो और भी अच्छा लगेगा|

    ReplyDelete
  13. मोनिका जी,

    आपकी सकरात्मक सोच और विभिन्न सार्थक विषयों पर लिखे आपके लेखों के लिए मैं आपको सलाम करता हूँ..........आपकी कही हर बात अक्षरश सत्य है और मैं इस से पूरी तरह सहमत हूँ........सच है कई बार आभाव भी जीवन को उन्नति की ओर उठाने के लिए आवश्यक हैं.....इस पोस्ट के लिए आपको ढेरों शुभकामनाये........खुदा आपको महफूज़ रखे....आमीन

    ReplyDelete
  14. अभावों से निकली प्रतिभा ही देश निर्माण में योगदान देती है.

    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और शानदार लेख लिखा है आपने! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है! उम्दा प्रस्तुती! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. अक्षरश: सही कहा है आपने ...कुछ पाने की लगन हो तो फिर लाख कमियां हो मंजिल मिल ही जाती है .....सुन्‍दर लेखन ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर शुक्रिया आपका...

    ReplyDelete
  18. तमाम कष्ट सहकर ही ऐसे हीरे निकलते है !
    ...............amarjeet ji ne sab kuch keh diya

    ReplyDelete
  19. मेहनत और लगन से सफलता की रौशन राहें भी निकलती हैं।
    .......................सही कह रही हैं मोनिका जी

    ReplyDelete
  20. आप की बातों से सहमत हूँ

    ReplyDelete
  21. एक बार फिर से आप ने एक सार्थक और प्रेरक विषय को चुना. बिलकुल सही लिखा है . राष्ट्रमंडल खेलों और उसके बाद हुए एशियाई खेलों में कई ऐसे
    खिलाडियों ने स्वर्ण पदक जीते हैं जिन्हें कभी आधुनिक सुख- सुविधाओं का जीवन सपने में भी नसीब नहीं हुआ. उन्होंने अपनी तैयारी तमाम मुश्किलों से झूझते हुए की. लेकिन सफलता हासिल की. ऐसे लोगों को मेरा भी प्रणाम. इस पोस्ट के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  22. सच कहा प्रतिभा को किसी सुविधा-सम्पन्नता की दरकार नहीं, ये साबित होता ही आया है हमारे देश के बेटे-बेटियों ने कई बार साबित किया है ...अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  23. मोनिका जी, मैं अपने खुद आसपास में देख चूका हूँ ऐसे उदाहरण, नानी घर के पड़ोस कि एक पुष्पा मौसी हैं, उनके बेटे कि ही यही कहानी है, पिछले साल सुना था बारहवीं के परीक्षा में उसको ८०% अंक मिले हैं, वो भी बेहद साधारण से स्कूल में पढ़ कर और बिना कोई सुविधा के...एक ट्यूसन या कोचिंग तक नहीं...किताबों का भी शायद आभाव था...इंजीनियरिंग कि तैयारी करने वाला था वो...अभी क्या कर रहा है फ़िलहाल मुझे मालुम नहीं...बहुत दिन हुए उनकी कोई खबर नहीं मिली..

    ReplyDelete
  24. aise logon ko mera salam ....
    ek sher yad aa raha hai
    kudi ko kuchh buland itana ........
    khuda bande se khud puchhe bata teri raza kya hai ...

    ReplyDelete
  25. अभावों से निकली प्रतिभा ही देश निर्माण में योगदान देती है|लेख बहुत ही प्रेरणा दायक है|

    ReplyDelete
  26. आपका लेख दिल को छूने वाला है,ग़रीबों और मेहनतकशों की मेहनत को तवज्जो आपने अपने लेख में दिया.काश सब ऐसा ही सोंचें.
    आपकी सोंच और आपका कोमल ह्रदय प्रणम्य है.

    ReplyDelete
  27. मन में लगन हो तो क्या असम्भव है जीवन में।

    ReplyDelete
  28. इसलिए ही लगता है की प्रतिभाएं तो प्रकृति प्रदत्त और जन्मजात होती है ,वे प्रारब्ध को लेकर अवतरित होती हैं !

    ReplyDelete
  29. सार्थक बोधदायक!!

    अभावों में प्रतिभा निखरने की अधिक सम्भावनाएं होती है।

    ReplyDelete
  30. Monika sharma ji aapka blog padhkar to main apne aap ko ise follow karne se rok hi nahin paaya.

    jis asliyat ko aapne hamare aur logon ke aage rakha hai wo kabile taarif hai, uske liye main aapko badhai deta hoon.

    aapne jo mochchi ke bete wala post apne blog par daala hai wo mujhe bahut hi achchha lage.

    main blogger par naya hoon lekin thoda bahut likhne ki gustakhi kar leta hoon.

    to plz aap mere blog Samratonlyfor.blogspot.com
    and reportergovind.blogspot.com
    par apne comment karke mujhe niranter likhne ke liye prerit karein.

    thanx

    ReplyDelete
  31. sach kaha aapne....safalta ka koi shortcut nahin hota....

    ReplyDelete
  32. सुशील बाकलीवाल से सहमत हूँ ...हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. पर खोने के बाद जो परिंदे परवाज़ भरना सीख जाते हैं उनकी मिसाल कायम रहती है...लेकिन जब परिंदा आसमान को पैर टिकाने की जगह मानने लगता है तो क्या होता है...? कहीं वीर सांघवी और भ्रष्टाचारियों के कठपुतलों की जमात ऐसे ही तो नहीं खड़ी होती? जब इन होनहारों की उम्र ३० के ऊपर हो जाये तो ज़रा फिर से अखबारों की कतरनें ढूंढूंगा. यकीन नहीं आता कि संघर्ष के दिन उन्हें भ्रष्टाचार से लड़ने का जज्बा भी देते होंगे. व्यवस्था की एक चपत लगी नहीं कि कतार में खड़े मिलेंगे सब-के-सब!

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छा लिखती हैं आप. मेरे लिए टिपण्णी लिखने के बाद आपका ब्लॉग पढ़ा . आपकी लिखी 'माँ 'कविता बेहद प्रभावी है . यदि मेरे ब्लॉग फ़ाल्लो कर सकें तो आपका स्नेह मुझे प्राप्त होगा !

    ReplyDelete
  35. सही कहा आपने...

    शब्दशः सहमत हूँ...

    प्रेरणादायी इस सुन्दर पोस्ट के लिए आपका आभार !!!

    ReplyDelete
  36. सकारात्मक सोच, कुछ बनने की, कर गुजरने की तीव्र उत्कंठा, मेहनत विश्वास और अपनों का साथ कुछ भी सम्भव है.आपसे सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  37. गरीब घर के बच्‍चों को कुछ करने की तमन्‍ना रहती है जबकि अमीर घर के बच्‍चों को सभी कुछ स्‍वाभाविक रूप से ही मिल जाता है तब कुछ करने का जज्‍बा समाप्‍त हो जाता है।

    ReplyDelete
  38. Bilkul sahi likha hai aapne pahli baar apke blog ko padha maine acha laga

    ReplyDelete
  39. honhar-veerwan ke hote chikane pat.bahut sundar aur jagaruk post monika ji.badhai ho.

    ReplyDelete
  40. KAMAL KEECHAD ME HI KHILTA HAI...
    SONA TAPKAR AUR NIKHARTA HAI..
    PRATIBHA SUVIDHAON KI MOHTAJ NAHI..
    BAHUT HI ACHCHHI POST.

    ReplyDelete
  41. सहमत हूँ आपसे । विचारोत्तेजक आलेख के लिए बधाईयाँ ।

    ReplyDelete
  42. प्रतिभा किसी का मुहताज नहीं होती है और कंचन तपने के बाद ही चमकता है . मेहनत, और आत्मविश्वास फर्श से अर्श पर जाने के लिए जरुरी कारक है .

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर रचना ....
    आपकी लेखनी को सलाम !!

    ReplyDelete
  44. मोनिका जी, इस प्रेरणाप्रद पोस्‍ट के लिए बधाई स्‍वीकारें।

    ---------
    प्रेत साधने वाले।
    रेसट्रेक मेमोरी रखना चाहेंगे क्‍या?

    ReplyDelete
  45. पूरी बातें तो सही हैं ही,अन्तिम पंक्तियों में वास्तविक यथार्थ बता दिया है ,लोगों को समझ लेना चाहिए.

    ReplyDelete
  46. आम आदमी के हित में आपका योगदान महत्वपूर्ण है।
    सराहनीय लेखन....हेतु बधाइयाँ...ऽ. ऽ. ऽ

    ReplyDelete
  47. अच्छी पोस्ट..मोनिका जी !!..आज १७-१२-२०१० को आपकी यह रचना चर्चामंच में रखी है.. आप वहाँ अपने विचारों से अनुग्रहित कीजियेगा .. http://charchamanch.blogspot.com ..आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  48. बहुत ही खुब लिखा है आपने......आभार....मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित नई रचना है "प्रभु तुमको तो आकर" साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    ReplyDelete
  49. poorna sahmat.

    ek paththar to tabeeyat se uchalo yaro.n.

    ReplyDelete
  50. सही कहा आपने-
    ‘जीवन को समझने के लिए अभावों के बीच जीना जरूरी है।‘

    उत्तम और प्रेरणादायी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  51. aapki post padh kar bas yahi yaad aaya
    jaise heera koi nikla ho koyale ki khan se.aapki post bahut hi prerak avam aaj ke yuuao ke liye nisandeh ekshi mayane me rasta dikhne me sxhm hai .
    sach kahun to jab aise hohar bachcho ke baare me sunti hun todil se sachche man se unke liye duayn hi nikalti hain.josbke liye ek prerana shrotban jaate hain .
    bahut bhut hi aachhi aur ek sandeshtmak aalekh.
    poonam

    ReplyDelete
  52. मैंने यहाँ अपनी टिपण्णी की थी पता नहीं क्यू नहीं दिख रही है .. इस सकारात्मक आलेख के लिए आभार .

    ReplyDelete
  53. sundar lekh, pad kar bahut acha laga..

    mere blog par bhi sawagat hai..
    Lyrics Mantra
    thankyou

    ReplyDelete
  54. जिनको सारी सुविधाएँ मिलती हैं वो समझ सकें यह बात ...कड़ी मेहनत ही रंग लाती है ...बहुत अच्छी पोस्ट .

    ReplyDelete
  55. ठीक ही कहा है -परिश्रमी व्यक्ति के लिए सफलता कोई बडी चीज नही है।

    ReplyDelete
  56. प्रतिभा सुविधा और संसाधनों की मोहताज नहीं होती.....बहुत सही कहा आपने |

    ReplyDelete
  57. ये तो मानसिकता पर है ... कुछ लोग गरीबी से हार जाते हैं तो कुछ गरीबी के बावजूद लड़ते हैं और जीतते हैं !
    सुन्दर लेख!

    ReplyDelete
  58. नमस्कार जी,
    बहुत ही अच्छी,सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  59. इस बार के चर्चा मंच पर आपके लिये कुछ विशेष
    आकर्षण है तो एक बार आइये जरूर और देखिये
    क्या आपको ये आकर्षण बांध पाया ……………
    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  60. प्रेरक और अच्छी पोस्ट मोनिका , शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"

    ReplyDelete
  61. success ke liye shortcut nahi ho sakta , mehnat hi sab kuch hai ..

    Lyrics Mantra

    Hindi Songs Music

    ReplyDelete
  62. bilkul satik kaha hai aapne...abhav me hi insaan sahi dang se aur anushasan me rahna sikhata hai...bhadhai....nice post

    ReplyDelete
  63. सही कह रही हैं मोनिका जी……………आपसे सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  64. धन्‍य हैं इस तरह के गुदड़ी के लाल. प्रेरक और सराहनीय.

    ReplyDelete
  65. प्रेरणादायक आलेख .....प्रतिभा किसी सुख सुबिधा की मोहताज नहीं होती ...आपका आभार

    ReplyDelete
  66. आपको एवं आपके परिवार को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  67. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete
  68. बहुत ही सुन्दर पोस्ट .बधाई.नव वर्ष की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  69. पत्थर को तराशकर ही हीरा बनाया जाता है। सुन्दर रचना के लिए साधुवाद!

    ReplyDelete
  70. सफल होने के लिए बुद्धि के साथ कड़ी मेहनत और लगन की भी जरूरत होती है जो प्रायःसाधन-सम्पन्न परिवारों की सन्तानो में कम देखने को मिलती है.किसी भी चीज़ का आभाव हमें उसे हासिल करने का हौसला देता है और परिश्रम करने की लगन भी....बहुत खूब लिखा आपने..

    ReplyDelete
  71. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  72. मोनिका जी प्रणाम!
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें .....
    आपके लेख सदा ही ज्ञानवर्धक और मननीय होते है......आपका धन्यवाद.....

    ReplyDelete
  73. नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुखकर, समृद्धिशाली एवं
    मंगलकारी हो...
    ।।शुभकामनाएं।।

    ReplyDelete
  74. नव वर्ष मुबारक

    ReplyDelete
  75. आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    सादर

    ReplyDelete
  76. आपके जीवन में बारबार खुशियों का भानु उदय हो ।
    नववर्ष 2011 बन्धुवर, ऐसा मंगलमय हो ।
    very very happy NEW YEAR 2011
    आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  77. आशा का उजास फ़ैलाती खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  78. धन्यवाद! इतने मूल्यवान विचारों का
    साझीदार मुझे बनाया।
    नववर्ष की हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए!
    सद्भावी--डॉ० डंडा लखनवी,

    ReplyDelete
  79. आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की हार्दिक शुभकामना ! भगवान् से प्रार्थना है कि नया साल आप सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

    ReplyDelete
  80. आपको तथा आपके परिवार के सभी जनों को वर्ष २०११ मंगलमय,सुखद तथा उन्नत्तिकारक हो.

    ReplyDelete
  81. नूतन वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  82. आदरणीय मोनिका शर्मा जी
    सादर प्रणाम
    बहुत दिनों से आपके दर्शन नहीं हुए ....आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...आशा है नव वर्ष आपके जीवन में नित नयी खुशियाँ लेकर आएगा ..और आप ब्लॉग जगत में इस वर्ष भी अपनी प्रेरणादायी पोस्टों से हम सबको निर्देशित करती रहेंगी ....शुक्रिया

    ReplyDelete
  83. देर से आने के लिए क्षमाप्रार्थी.प्रेरक आलेख के लिए आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  84. जय श्री कृष्ण...आपका लेखन वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं....नव वर्ष आपके व आपके परिवार जनों, शुभ चिंतकों तथा मित्रों के जीवन को प्रगति पथ पर सफलता का सौपान करायें .....मेरी कविताओ पर टिप्पणी के लिए आपका आभार ...आगे भी इसी प्रकार प्रोत्साहित करते रहिएगा ..!!

    ReplyDelete
  85. Monicaq ji .....

    I wish you a very happy,prosperous, peaceful and rewarding new year.

    ReplyDelete
  86. Il semble que vous soyez un expert dans ce domaine, vos remarques sont tres interessantes, merci.

    - Daniel

    ReplyDelete
  87. "अभावों के अंधेरों से सफलता की रौशन राहें भी निकलती हैं - १००% सहमति - बधाई

    ReplyDelete
  88. navarsh ki aseem shubhkamnayen dr.monikaji.have a nice day

    ReplyDelete
  89. बेहतर रचना! प्रेरक एवं वास्तविक।

    ReplyDelete
  90. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  91. sunder lekh

    is bar mere blog par
    "main"
    or
    "mai aa gyi hu lautkar"

    aapko nav varsh ki hardik badhyi

    ReplyDelete
  92. बहुत अच्छी पोस्ट मोनिका जी ... ये बात बिलकुल सही है की जहां चाह होती है वहीँ राह होती है ....

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  93. aapke blog par pehlee baar aaya. kaafi pasand aaya aapka blog.
    likhnaa jaari rakhiye.

    ravish kumar
    naisadak.blogspot.com

    ReplyDelete
  94. सन २०११ के प्रारंभ में ही १११ टिप्पणी पाने की बहुत बहुत बधाई,मोनिका जी आपको.
    १११ बहुत शुभ गिनती देख कर मज़ा आ गया.

    ReplyDelete
  95. जिन बच्चों को जिंदगी से लड़ना आ जाये वे इसमें आनंद अंततः ढून्ढ ही लेते हैं ! हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  96. हम दूसरों की तकलीफ समझाने का प्रयत्न करते ही कहाँ हैं ...हकीकत है यह सब .... शुभकामनायें आपको

    ReplyDelete
  97. ........मोनिका.....!!तुम्हारी बातों से झांकता खुशनुमा सच.....बहुत से लोगों को सभी चीज़ों से लड़ते हुए जीतने को प्रेरित करता है....और इसके तुम्हे साधुवाद...!!

    ReplyDelete
  98. आई अग्री.
    आशीष
    ---
    हमहूँ छोड़ के सारी दुनिया पागल!!!

    ReplyDelete
  99. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    ReplyDelete
  100. आपकी सकरात्मक सोच और विभिन्न सार्थक विषयों पर लिखे आपके लेखों के लिए मैं आपको सलाम करता हूँ..........आपकी कही हर बात अक्षरश सत्य है और मैं इस से पूरी तरह सहमत हूँ........सच है कई बार आभाव भी जीवन को उन्नति की ओर उठाने के लिए आवश्यक हैं.....इस पोस्ट के लिए आपको ढेरों शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  101. आप अपने विचारों को बहुत सहज और स्पष्ट तरीके से व्यक्त करती हैं यह आपके लेखन की खूबी है !

    ReplyDelete
  102. मोनिका जी !!!आशाओं और उम्मीदों का संचार करती आपकी रचना ..विषम परिस्थितियों में मन को संबल प्रदान करने की संजीविनी समेटे हुए ...आपको कोटि कोटि शुभकामनाएं....
    सादर !!!
    डॉक्टर नूतन जी आपको प्रेरणादायी लेखन के आशावादी संसार से परिचित करने के लिए साधुवाद.....

    ReplyDelete
  103. मोनिका जी, गुदड़ी में ही तो लाल छिपे होते हैं.. प्रेरणादायी लेख

    ReplyDelete
  104. अभाव ही हमें जीने और लड़ने की ताकत देते हैं। इसलिए हमें आभावों को स्‍वीकार कर आभावों के खिलाफ जंग करनी चाहिए।

    ReplyDelete