My photo
पढ़ने लिखने में रुचि रखती हूँ । कई समसामयिक मुद्दे मन को उद्वेलित करते हैं । "परिसंवाद" मेरे इन्हीं विचारों और दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है जो देश-परिवेश और समाज-दुनिया में हो रही घटनाओं और परिस्थितियों से उपजते हैं । अर्थशास्त्र और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नात्तकोत्तर | हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित समाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ( समाचार वाचक, एंकर) के साथ ही अध्यापन के क्षेत्र से भी जुड़ाव रहा | प्रतिष्ठित समाचार पत्रों के परिशिष्टों एवं राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में लेख एवं कविताएं प्रकाशित | संप्रति समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन । प्रकाशित काव्य संग्रह " देहरी के अक्षांश पर "

ब्लॉगर साथी

03 August 2011

शगुन और संस्कृति के रंग लिए लहरिया....!


         
राजस्थान या राजस्थानी संस्कृति से जुङे लोगों के लिए लहरिया सिर्फ कपङे पर उकेरा गया डिजाइन या स्टाइल भर नहीं है। ये रंग बिरंगी धारियां शगुन और संस्कृति के वो सारे रंग समेटे हैं जो वहां के जन जीवन का अटूट हिस्सा हैं। यहां सावन में लहरिया पहनना शुभ माना जाता है। आज भी गांव ही नहीं शहरी संस्कृति में भी लहरिया के रंग बिरंगे परिधान अपनी जगह बनाये हुए है। लहरिया की ओढनी या साङी आज भी महिलाओं के मन को खूब भाती है। 

राजस्थान के उल्लासमय लोक सांस्कृतिक पर्व तीज के अवसर पर धारण किया जाने वाला सतरंगी परिधान लहरिया खुशनुमा जीवन का प्रतीक है। सावन में पहने जाने वाले लहरिये में हरा रंग होना शुभ माना जाता है । जो कि प्रेरित  है प्रकृति के उल्लास और सावन में हरियाली की चादर ओढे धरती  माँ  के हरित श्रृंगार से । 


लहरिया राजस्थान का पारंपरिक पहनावा है । सावन के महीने में महिलाएं इसे जरूर पहनती हैं। शादी के बाद पहले सावन में तो  बहू-बेटियों को बहुत मान-मनुहार के साथ लहरिया लाकर दिया जाता है। आज भी राजसी घरानों से लेकर आम परिवारों तक लोक संस्कृति की पहचान लहरिया के रंग बिखरे हुए है। 

कहते हैं कि प्रकृति ने मरूप्रदेश को कुछ कम रंग दिए तो यहां लोगों ने अपने पहनावे में ही सात रंग भर लिए, लहरिया उसी का प्रतीक है। रेगिस्तान में बसे लोगों के सृजनशील मन ने तीज के त्योंहार और लहरिया के सतरंगी परिधान को जीवन का हिस्सा बना प्रकृति और रंगों से नाता जोड़ लिया | तभी तो राजस्थान के अनूठे लोक जीवन की रंग बिरंगी संस्कृति के द्योतक लहरिया पर कई लोकगीत भी बने है। 

हमारी संस्कृति के परिचायक कई रीति रिवाज हैं जो यह बताते है कि हमारे परिवारों में बहू-बेटियों की मान मनुहार के अर्थ कितने गहरे हैं ? सावन के महीने में तीज के मौके पर मायके या ससुराल में बहू-बेटियों को लहरिया ला देने की परंपरा भी इसी सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा रही है और आज भी है । यह त्योंहार यह बताने का अवसर  है कि बहू-बेटियों के जीवन का सतरंगी उल्लास ही हमारे घर आंगन का इंद्रधनुष है। 

82 comments:

  1. लोकरंग में डूबकर लिखे इस लेख को बारबार पढ़ने का मन करेगा |डॉ० मोनिका जी दिल से आपको बधाई और शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  2. मैंने भी देखी है रंग बिरंगी इन्द्रधनुषी लहरिया -मन को भा जाती है!
    मनुष्य के उल्लासपूर्ण संस्कृति का हिस्सा है लहरिया

    ReplyDelete
  3. I wanted to wear Indian dress today as it's Teej. Your post is coming on a day of celebration...Lovely...Lehariya is a beautiful pattern which brings color and joy. Nice post!

    ReplyDelete
  4. lahariya par laharaati hui sunder post..

    ReplyDelete
  5. सावन में जब चारों तरफ हरियाली ही हरियाली छाई होती है या फिर बरसात में घुल कर सभी रंग धूसर हो चुके होते हैं तो लहरिया आँखों को सुख देता है।

    ReplyDelete
  6. लोक-लुभावन लहरिया ओढनी का साक्षात संस्कृति दर्शन।

    याद दिला दिया आपने वह लोकगीत………

    मने ल्याय दो नी ल्याय दो जी ढोला लहरियो सा………

    ReplyDelete
  7. जयपुर में शायद ही कोई महिला तीज पर बिना लहरिये के नजर आये , वो सामान्य गृहिणी हो या बड़ी अफसर ...
    लोक परंपरा और आधुनिकता एक साथ समेटे यह शहर , मुझे प्यार हो गया है इस शहर से ...सच्ची !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर लेख :
    सच सावन का अपना अलग ही मज़ा है, हर चीज़ नई नई नजर आती है सावन में |

    ReplyDelete
  9. परिवेश की रंगन्यूनता को कपड़ों से भर लिया राजस्थान ने, वाह।

    ReplyDelete
  10. परिचित करने के लिए आपको धन्यवाद,बढ़िया पोस्ट.

    ReplyDelete
  11. हमारी लोक संस्कृति का हमारे जीवन के साथ गहरा सम्बन्ध है लोक संस्कृति की हरेक चीज हमारी जिन्दगी में रंग भरने वाली है .....!

    ReplyDelete
  12. वाह! लहरिया के बारे में जानकर अच्छा लगा.
    आपका यह कहना सार्थक लगा कि

    यह त्योंहार यह बताने का अवसर है कि बहू-बेटियों के जीवन का सतरंगी उल्लास ही हमारे घर आंगन का इंद्रधनुष है।

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. राजस्थान यूँ भी साल भर त्यौहारों से ओत-प्रोत रहता है. कठोर जिंदगी, रेतीली और रेगिस्तानी ज़मीन. यह त्यौहारों की मस्ती और लहरिया ही उनकी जिंदगी की कठिनाइयों में खुशियाँ भरते हैं.

    ReplyDelete
  14. राजस्थान की रंग बिरंगी लोक संस्कृति मन को लुभाती है. .लहरिया जनमानस में रची बसी है संस्कृति का हिस्सा बनकर . सुँदर आलेख .

    ReplyDelete
  15. उल्लास का प्रतीक लहरिया.. बहुत सुन्दर आलेख..

    ReplyDelete
  16. संस्कृति से सुरुचिपूर्ण परिचय ।

    ReplyDelete
  17. यह त्योंहार यह बताने का अवसर है कि बहू-बेटियों के जीवन का सतरंगी उल्लास ही हमारे घर आंगन का इंद्रधनुष है।

    बहुत खूबसूरत बात कही है .. राजस्थान में रंगों के महत्त्व पर अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  18. मुझे भी राजेस्थानी लहरिया और वहा की चुनरी साड़ी काफी पसंद है |

    ReplyDelete
  19. आपकी Post अच्छी है। कुछ और लेखकों के लिंक भी हमें अच्छे लगे तो उन्हें भी हम यहां ले आए ताकि अगर आपकी चर्चा सोना लगे तो यह सहायक चर्चा ‘सुहागा‘ साबित हो।
    हमारा यह प्रयास कैसा लगा ?
    आप भी बताइयेगा।
    देखिए अलग-अलग लेखकों के कुछ लिंक्स
    1- अच्छी टिप्पणियाँ ही ला सकती हैं प्यार की बहार Hindi Blogging Guide (22)- Kunwar Kusumesh
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/hindi-blogging-guide-22.html

    2- औरत हया है और हया ही सिखाती है , ‘स्लट वॉक‘ के संदर्भ में
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_5673.html

    3- हाइकु गीत ----- दिलबाग विर्क
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_97.html


    4- मुस्कुरा दिया करना
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_1517.html

    5- ये हैं क्रिकेट के बद्तमीज़
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_1989.html

    6- राष्ट्र गान--किसकी जय गाथा- Sadhana Vaid
    http://hbfint.blogspot.com/2011/08/blog-post_02.html

    7- ख़ुशख़बरी और मुबारकबाद Good news
    http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/08/good-news.html

    --
    *हिंदी ब्लॉगिंग http://hbfint.blogspot.com* को बढ़ावा देने के मक़सद से ही
    आपको यह लिंक प्रेषित किए जाते हैं जिन्हें आप अपने मित्रों को फ़ॉरवर्ड कर दिया
    करें ताकि नए लोग हिंदी ब्लॉगिंग से जु़ड़ें। अगर आपको इन लिंक्स के आने से
    परेशानी होती है तो कृप्या सूचित करें ताकि आपका नाम सूची से हटाया जा सके।
    हमारा मक़सद आपको परेशान करना नहीं है। अगर आप भी अपना ब्लॉग संचालित करते हैं
    या आप सामान्य नेट यूज़र हैं और हिंदी ब्लॉगर्स से कोई विचार साझा करना चाहते
    हैं तो आप भी अपनी पोस्ट का लिंक या कंटेंट भेज सकते हैं। उसे ज़्यादा से
    ज़्यादा हिंदी ब्लॉगर्स तक पहुंचा दिया जाएगा। शर्त यह है कि यह कंटेंट
    देशप्रेम की भावना को बढ़ाने वाला और समाज के व्यापक हित में होना चाहिए। हिंदी
    ब्लॉगिंग को सार्थक दिशा देना ही ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ का मक़सद है।

    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  20. आज 03- 08 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  21. राजस्थान से सम्बंधित मुझे नई जानकारी मिली.आभार.

    ReplyDelete
  22. आपके लेख में साक्षात संस्कृति का दर्शन है..सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  23. hamari sanskriti ye rang bhut bhaya.

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर लेख। वैसे आपके विषय और उससे जुडी जानकारी का कोई जवाब नहीं।

    ReplyDelete
  25. काफी जानकारी मिले आपकी इस पोस्ट से......ये रंग ही तो हमारी देश की भिन्न संस्कृतियों की शान हैं|

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर आलेख...बधाई

    ReplyDelete
  27. thanx!!!!4 yur comment...
    mujhe raj. culture bahut pasand hai..n sarees toooo...

    ReplyDelete
  28. राजस्थानी परिधान वैसे हमेशा से मुझे लुभाते रहे हैं .लहरिया के बारे में बताने के लिए आभार

    ReplyDelete
  29. लहरिया तो राजस्थान की पहचान है.....रंग-बिरंगी लहरिया....बहुत ही मनमोहक लगती है.

    ReplyDelete
  30. रंग बिरंगी इन्द्रधनुषी लहरिया जीवन का सतरंगी उल्लास... बहुत सुन्दर आलेख...बधाई मोनिकाजी...

    ReplyDelete
  31. यही तो सुदृढ़ संस्कृति के परिचायक है ! बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  32. rajasthan ka ek pahnava lahriya hai,
    bhar ki orton ka man bhi ise pahnne ka karriya hai...
    rajasthan ke baare me btati ek rachna

    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  33. लोक रंग से रंगी बहुत अच्छी जानकारी ...

    ReplyDelete
  34. लोक संस्कृति और परम्पराएं जीवन में हमेशा ही उल्लास भर देने का काम करती है लहरिया के परिचय के लिए आभार.

    ReplyDelete
  35. तीज के त्यौहार की आपको बहुत बहुत शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  36. ye sab pata nahi tha jo apki aaj ki post se rajasthan ki sanskriti ke bare me pata chala.

    aabhar.

    ReplyDelete
  37. इसे कहते हैं...जीवन में रंग भरना...पूरा का पूरा राजस्थान ही चटक और शोख रंगों में बयां होता है...

    ReplyDelete
  38. डॉ मोनिका शर्मा जी-अभिवादन तीज पर रंग बिखेर कर सुन्दर जानकारी दी मन खिलाया आप ने ..आप सब को शुभ कामनाएं इस पर्व पर ..
    सार्थक लेख ...
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर की माधुरी

    ReplyDelete
  39. yeah these sarees looks wonderful... even my mom has a pair of it.
    looks fab n traditional too :)

    ReplyDelete
  40. लहरिया से जुडी लोक संस्कृति और जन मानस की झांकी जहां हरियाली का अभाव वहां हरियाली बना पैरहन ,जीवन में रंग की रस धार भरता है .उम्र बढ़ने के साथ जैसे जैसे जीवन में रंगीनी कम होती है आदमी रंगों की तरफ खिंचा चला आता है .रास्ते भी आने जाने के बदल जातें हैं .हर आदमी रंगीनी देखना जीना चाहता है .लहरिया जीवन के इन्द्रधनुषी उल्लास रंगों को लोक जीवन में उतारना ही तो है .अच्छी पोस्ट .

    ReplyDelete
  41. लहरिया से जुडी लोक संस्कृति और जन मानस की झांकी जहां हरियाली का अभाव वहां हरियाली बना पैरहन ,जीवन में रंग की रस धार भरता है .उम्र बढ़ने के साथ जैसे जैसे जीवन में रंगीनी कम होती है आदमी रंगों की तरफ खिंचा चला आता है .रास्ते भी आने जाने के बदल जातें हैं .हर आदमी रंगीनी देखना जीना चाहता है .लहरिया जीवन के इन्द्रधनुषी उल्लास रंगों को लोक जीवन में उतारना ही तो है .अच्छी पोस्ट .कृपया यहाँ भी पधारें -
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_04.html
    और यहाँ भी -http://veerubhai1947.blogspot.com/और यहाँ भी -http://sb.samwaad.com/

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर आलेख... आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  43. लहरिया उत्सव के बारे में बहुत ही अच्छी जानकारी मिली! ये रंगबिरंगी फूलों जैसा और इन्द्रधनुष के सतरंगी जैसा उत्सव पूरे राजस्थान में महिलाओं के लिए बहुत ही ख़ुशी और उमंग से भरा उत्सव है! बहुत ख़ूबसूरत आलेख!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://www.seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  44. इस ढंग से इसे जानकर बहुत अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
  45. राजस्‍थान रंगों का प्रदेश है, यहाँ की चूंदड़ और लहरियां सतरंगी रंगों से सरोबार रहते हैं। त्‍योहार मनाने का अंदाज कोई राजस्‍थान से सीखे और वो भी जयपुर से। सच जयपुर बहुत याद आता है, आपकी पोस्‍ट ने जयपुर की याद दिला दी।

    ReplyDelete
  46. sachmuch ,Rajasthan ki tahzeeb aur sanskriti atulniy hai !

    ReplyDelete
  47. 'लहरिया'

    बचपन में दादी-नानी के मुंह से सुना था

    और आज कल बुटीक वाले भी इस शब्द को अक्सर बोलते हुए सुने जा सकते हैं|

    ओल्ड इज गोल्ड भाई|

    ReplyDelete
  48. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  49. इस पोस्ट से,राजस्थानी संस्कृति के साथ आपका भावनात्मक लगाव एकम ज़ाहिर होता है। मनुष्य और प्रकृति यदि एक दूसरे के पूरक बन सकें,तो जीवन वास्तव में इंद्रधनुषी हो जाए।

    ReplyDelete
  50. लहरिया यकीनन मन में उल्लास भर देती है. सुन्दर आलेख के लिए आभार.

    ReplyDelete
  51. बेहतरीन लेखन के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  52. "सावन के महीने में तीज के मौके पर मायके या ससुराल में बहू-बेटियों को लहरिया ला देने की परंपरा भी इसी सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा रही है और आज भी है । यह त्योंहार यह बताने का अवसर है कि बहू-बेटियों के जीवन का सतरंगी उल्लास"
    मोनिका जी,
    लोक संस्कृति का प्रतीक बन चुके रंग-बिरंगी इन्द्रधनुषी लहरिया की वर्तमान में उपस्थिति बहुत शुकून देनेवाली है.यह एक अदृश्य बंधन है जो अतीत को वर्तमान से आज भी जोड़े हुए है.अत्यंत ज्ञानवर्द्धक और सुन्दर लेख.

    ReplyDelete
  53. http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, २ अगस्त २०११
    यौन शोषण और मानसिक सेहत कल की औरत की ....इसीलिए
    Sexual assault, domestic violence can damage long-term mental health

    ReplyDelete
  54. सच अपनी सस्कृति के रंग बहुत प्यारे है .... सुन्दर प्रस्तुति...आपका कहना सच है इस मरू भूमि में रंगो की कोई कमी नहीं है !

    सादर
    तृप्ति

    ReplyDelete
  55. bahut sunder rangbirangi lahariya..........

    ReplyDelete
  56. monika जी, राजस्थान की लहरिया तो वैसे hee विश्वविख्यात है, आपके ब्लॉग पर इसे देखना और भी सुखदाई रहा...

    "कहते हैं कि प्रकृति ने मरूप्रदेश को कुछ कम रंग दिए तो यहां लोगों ने अपने पहनावे में ही सात रंग भर लिए, लहरिया उसी का प्रतीक है।"

    बिलकुल सही कहा आपने...

    ReplyDelete
  57. लोक संस्कृति का हमारे जीवन के साथ गहरा सम्बन्ध है
    ...बहुत सुन्दर आलेख

    ReplyDelete
  58. सावन में पहने जाने वाले लहरिये में हरा रंग होना शुभ माना जाता है । जो कि प्रेरित है प्रकृति के उल्लास और सावन में हरियाली की चादर ओढे धरती माँ के हरित श्रृंगार से
    bahut sundar likha hai ,tabhi to hame bhartiya hone par garv hai ,aesi sanskriti aur kahan ,milegi .

    ReplyDelete
  59. डॉ .मोनिका जी सेहत और मन से मनो -विज्ञान से जुड़े मामलों में आप भी दखल रखतीं हैं इसीलिए आपसे गुजारिश की यह पोस्ट बांचने की (यौन शोषण और बकाया ज़िन्दगी के रोग )आप आई दस्तक दी सार्थक ,आपका आभार .

    ReplyDelete
  60. thanks for sharing...


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  61. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  62. bahut sahi kaha aapne. aapke blogs hamesha kuch naya kahte ya sikhate hai. happy belated teej

    ReplyDelete
  63. बहुत सुद्नर लेख... पढकर ही रंगों की और कला की प्रस्तुति हो गयी है .. बहुत बहुत बधाई

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  64. bahut sundar lga aapka lekh ..badhai

    ReplyDelete
  65. राजस्थान और वहाँ के परिधान के बारे में पढ़्कर याद आया कि एक बार हम भी खरीद लाये थे लेकिन यहाँ पहनकर बाहर जाने में लाज आती थी.. :)
    चुनरी नहीं कुर्ता था.. :)

    ReplyDelete
  66. zindagi ke kagaz ko rango se bharne ka naam hi zindagi hain...
    sundar rachna....

    ReplyDelete
  67. सावन के महीने में तीज के मौके पर मायके या ससुराल में बहू-बेटियों को लहरिया ला देने की परंपरा भी इसी सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा रही है

    ये नई जानकारी है मेरे लिए ......
    हमारे यहाँ तो ऐसा कुछ नहीं ....

    ReplyDelete
  68. अच्छा लगा जानना..
    एक बार मैं अहमदाबाद जा रहा था ट्रेन में..अधिकतर लोग राजस्थान के थे मेरे बोगी में, क्यूंकि ट्रेन जयपुर जाती थी..सभी औरतें राजस्थानी पोशाक में थी...बड़ा अच्छा लगा मुझे..राजस्थान की परंपरा हमेशा से मुझे अच्छी लगी है..

    ReplyDelete
  69. परम्‍परा के रंगों से सराबोर एक सार्थक रचना।

    ------
    कम्‍प्‍यूटर से तेज़!
    इस दर्द की दवा क्‍या है....

    ReplyDelete
  70. लहरिया के बारे में पढ़कर मन भी सप्तरंगी हो गया।
    लघु लेख की भाषा-शैली मोहक लगी।

    ReplyDelete
  71. सावन का महीना, तीज का मौका, बहू-बेटियों को लहरिया देने की परंपरा और उसका सांस्कृतिक रहस्य विरासत बहुत सुंदर. तथ्यपूर्ण और नयी जानकारी के लिए बहुत आभार मोनिका जी.

    ReplyDelete
  72. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  73. बहुत सुंदर रचना ! लाजवाब प्रस्तुती!

    आपके पास दोस्तो का ख़ज़ाना है,
    पर ये दोस्त आपका पुराना है,
    इस दोस्त को भुला ना देना कभी,
    क्यू की ये दोस्त आपकी दोस्ती का दीवाना है

    ⁀‵⁀) ✫ ✫ ✫.
    `⋎´✫¸.•°*”˜˜”*°•✫
    ..✫¸.•°*”˜˜”*°•.✫
    ☻/ღ˚ •。* ˚ ˚✰˚ ˛★* 。 ღ˛° 。* °♥ ˚ • ★ *˚ .ღ 。.................
    /▌*˛˚ღ •˚HAPPY FRIENDSHIP DAY MY FRENDS ˚ ✰* ★
    / .. ˚. ★ ˛ ˚ ✰。˚ ˚ღ。* ˛˚ 。✰˚* ˚ ★ღ

    !!मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये!!

    फ्रेंडशिप डे स्पेशल पोस्ट पर आपका स्वागत है!
    मित्रता एक वरदान

    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  74. Wish you a very happy friendship day .........

    ReplyDelete
  75. म्हारै लहरियै रा नौ सौ रुपिया रोकड़ा साऽऽ…

    बहुत सुंदर !

    मोनिका जी
    राजस्थान की संस्कृति और लोक रंग से सजी इस पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई !

    मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ


    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  76. monika ji
    bahut hi badhiya lagi aapki yah prastuti
    waqai me is lahariya rang ka itna sundar chitran aapne kiya hai ki jitni bhi tarrif karun ,kam hai.
    shandaar post ke liye hardik
    badhai-------
    poonam

    ReplyDelete
  77. बहुत सुन्दर लेख.....
    धन्यवाद....

    ReplyDelete
  78. बहुत सुन्दर आलेख मोनिका जी...बधाई,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  79. श्री गणेश उत्सव पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...

    ReplyDelete